अलक़ायदा और आतंकवादी गुट दाइश को अमरीका ने बनाया है : हफ़िंग्टन पोस्ट

अलक़ायदा और आतंकवादी गुट दाइश को अमरीका ने बनाया है : हफ़िंग्टन पोस्ट

Posted by

हफ़िंग्टन पोस्ट ने अपनी वेबसाइट पर लिखा कि अलक़ायदा और दाइश आतंकवादी गुट को अमरीका ने बनाया है।

हफ़िंग्टन पोस्ट की अरबी वेबसाइट ने हार्डवर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर और शोधकर्ता गारकाय चीनको का लेख प्रकाशित किया। लेख में शोधकर्ता ने लिखा है कि अमरीका ने दाइश और अलक़ायदा को पैदा किया है। लेख में आया है कि अलक़ायदा और दाइश, आतंकवादी हमला करने वाले और लोगों पर हमला तथा फ़ायरिंग करने वाले हैं किन्तु अब यह प्रश्न पैदा होता है कि दुनिया के कौन से देश दाइश और अलक़ायदा का समर्थन करते हैं? समाचार पत्र अपनी वेबसाइट पर लिखता है कि आतंकवाद गुट दाइश को अमरीका ने मध्यपूर्व के तेल से मालामाल क्षेत्रों के विभाजन, देशों को छोटे छोटे टुकड़ों में बांटने तथा क्षेत्र में ईरान की उपस्थित को नियंत्रित करने के लिए पैदा किया है।

वास्तविकता यह है कि आतंकवादी गुटों के समर्थन में अमरीका का इतिहास बहुत पुराना है इसीलिए इस विषय की अनदेखी नहीं की जा सकती। समाचार पत्र लिखता है कि अमरीका की ख़ुफ़िया एजेन्सी सीआईए ने पहली बार शीत युद्ध के दौरान कट्टरपंथी इस्लाम की ओर ध्यान केन्द्रित किया।

लेखक लिखते हैं कि हमें यह भूलना नहीं चाहिए कि अमरीका की ख़ुफ़िया एजेन्सी सीआईए ने ओसामा बिन लादेन को अस्तित्व प्रदान किया और 80 के दशक में उसके संगठन का समर्थन किया। ब्रिटेन के पूर्व विदेशमंत्री राबिन कुक ने हाऊस आफ़ कामंस में स्पष्ट रूप से कहा था कि निसंदेह अलक़ायदा का गठन, पश्चिम की गु्प्तचर संस्थाओं ने किया है।

कुक का कहना था कि वास्तव में अलक़ायदा हज़ारों मुस्लिम कट्टरपंथियों का गुट था जिसकी ट्रेनिंग सीआईए ने अफ़ग़ानिस्तान में रूस को पराजित करने के लिए की गयी थी और इसका समर्थन सऊदी अरब कर रहा था।