अवैध बिल्डिंग को वैध करने की तैयारी में भाजपा विधायक

Posted by

Sagar PaRvez
=============

रुड़की: शहर में राजमार्ग हो या फिर अंदर। सभी जगह बड़े-बड़े कॉम्पलेक्स का पिछले डेढ़ साल में निर्माण हुआ है। अधिकांश कॉम्पलेक्स अवैध तरीके से बने। एचआरडीए की ओर से कार्रवाई के नाम पर पहले तो कॉम्पलेक्स को सीज किया गया। बाद में कंपाउं¨डग जमा होने के बाद इन बिल्डिंग को वैध करार दिया जा रहा है। जो कॉम्पलेक्स वैध तरीके से बनने का दावा किया जा रहा है, उनमें भी पार्किंग का स्थान तक नहीं है। नतीजतन राजमार्ग से लेकर शहर के अंदर जाम की समस्या लगातार बढ़ती ही जा रही है।

रुड़की शहर में डेढ़ साल के दौरान डेढ़ दर्जन से अधिक व्यवसायिक भवनों का निर्माण किया गया। इन कॉम्पलेक्स के निर्माण में संबंधित निर्माण एजेंसी ने रात दिन काम चलाया। नतीजतन कोई एक साल तो कई डेढ़ साल में कॉम्पलेक्स बनकर तैयार हो गया और दुकानें बन गई। दिल्ली-हरिद्वार राजमार्ग पर भी कई कॉम्पलेक्स का निर्माण किया गया। इसी तरह से बीटीगंज, नेहरू नगर, मुख्य बाजार, पुरानी तहसील, चंद्रपुरी में बने अधिकांश कॉम्पलेक्स में से किसी के पास भी पार्किंग नहीं है। इसी तरह, होटल और रेस्टोरेंट में पार्किंग न होने की वजह से ग्राहकों के वाहन सड़कों पर ही पार्किंग हो रही है। इसका नतीजा यह है कि डेढ़ साल से रुड़की में अब शनिवार, रविवार नहीं हर दिन जाम की स्थिति बनी रहती है।

‘ऐसा बिल्कुल नहीं है। जो बि¨ल्डग नियम विरुद्ध बनी है, उसको ध्वस्त भी किया जाएगा। पूर्व में व्यवसायिक भवन बने हैं, उन सभी के मानचित्र निकाले जा रहे हैं। छानबीन की जा रही है। 19 भवन स्वामियों को नोटिस भी दिये गये हैं। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।’

बंशीधर तिवारी सचिव एचआरडीए

————-

पहले नहीं दिया ध्यान अब खोज रहे पार्किंग का स्थान

रुड़की : शहर में अधिकांश स्थानों पर पार्किंग न होने से लोगों को परेशानी हो रही है। स्थिति यह है कि बड़े-बड़े शॉ¨पग कॉम्पलेक्स तो बन गये हैं, लेकिन वाहन राजमार्ग या बाजार की सड़कों पर ही खड़े हो रहे हैं। इससे जाम की समस्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। ऐसे में अब एचआरडीए पार्किंग के लिये स्थान खोज रहा है। नगर निगम के सामुदायिक भवन में पार्किंग बनाने की तैयारी की जा रही है। वहीं, उप्र ¨सचाई विभाग और नगर निगम से भूमि मांगी जा रही है ताकि यहां पर वाहनों को खड़ा किया जा सके। उप्र ¨सचाई विभाग ने तो पार्किंग के लिये भूमि देने से हाथ खड़े कर दिये हैं। एचआरडीए के सचिव वंशीधर तिवारी ने बताया कि करीब आधा दर्जन स्थानों पर पार्किंग बनाई जानी है।