आज मेरी देशभक्ति पर शक किया जा रहा : सीनियर क्रिकेटर मिताली राज

Posted by

टी-20 विश्व कप में बल्लेबाजी क्रम को लेकर संन्यास की धमकियों, नखरों और टीम में अव्यवस्था फैलाने के कोच रमेश पोवार के आरोपों पर जवाब देते हुए सीनियर क्रिकेटर मिताली राज ने कहा, ‘यह मेरे जीवन का सबसे खराब दिन है।’

मिताली ने पहले पोवार पर आरोप लगाया था कि वह उन्हें बर्बाद करना चाहते थे जबकि कोच ने टी-20 विश्व कप पर अपनी रिपोर्ट में टूर्नामेंट के दौरान उनके रवैये पर सवाल उठाए। भारत को सेमीफाइनल में इंग्लैंड ने हराया और उसी मैच में मिताली को बाहर किए जाने पर विवाद उठा था।

मिताली ने पोवार के आरोपों पर अपने ट्विटर पेज पर लिखा, ‘मैं इन आरोपों से बहुत दुखी और आहत हूं। खेल के प्रति मेरी प्रतिबद्धता और देश के लिये 20 साल खेलने के दौरान मेरी मेहनत, पसीना सब बेकार गया।’

उसने कहा, ‘आज मेरी देशभक्ति पर संदेह किया जा रहा है, मेरे हुनर पर सवाल उठाए जा रहे हैं और मुझ पर कीचड़ उछाला जा रहा है। यह मेरे जीवन का सबसे खराब दिन है। ईश्वर मुझे शक्ति दे।’

I’m deeply saddened & hurt by the aspersions cast on me. My commitment to the game & 20yrs of playing for my country.The hard work, sweat, in vain.
Today, my patriotism doubted, my skill set questioned & all the mud slinging- it’s the darkest day of my life. May god give strength

— Mithali Raj (@M_Raj03) November 29, 2018

मिताली और कोच के बीच के इस विवाद ने भारतीय महिला क्रिकेट को झकझोर दिया है। मिताली ने पहले पोवार को प्रशासकों की समिति की सदस्य डायना एडुल्जी पर पक्षपात का आरोप लगाया। उसने कहा कि डायना ने उनके खिलाफ अपने पद का दुरूपयोग किया जबकि पोवार ने उन्हें अपमानित किया।

दूसरी ओर पोवार ने अपनी दस पन्ने की रिपोर्ट में विस्तार से जानकारी दी है। इनमें से पांच पन्नों में मिताली के बारे में लिखते हुए उन्होंने कहा कि उसने पारी की शुरूआत करने का मौका नहीं दिए जाने पर दौरा बीच में छोड़ने की धमकी दी थी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि वह टीम के लिए नहीं बल्कि निजी रिकार्ड के लिए खेलती है।

भारतीय क्रिकेट टीम की सबसे अनुभवी खिलाड़ी मिताली राज के विवाद में एक नया मोड़ सामने आया है। महिला टीम के मुख्य कोच और पूर्व भारतीय क्रिकेटर रमेश पोवार ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को एक रिपोर्ट सौंपी है।

रिपोर्ट में पोवार ने मिताली पर कोचों को ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है।पोवार ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मिताली ने उन्हें ओपनिंग न देने पर महिला वर्ल्ड टी-20 से नाम वापस लेने और संन्यास लेने की धमकी दी थी। उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय महिला वनडे टीम की कप्तान मिताली को कोचों को ब्लैकमेल करना और उन पर दबाव डालना बंद करना चाहिए।

पोवार ने कहा कि मिताली को खुद से पहले टीम के हित को देखना चाहिए। मिताली के बारे में किया गया यह खुलासा महिला टी-20 विश्व कप में भारत के प्रदर्शन पर कोच द्वारा किए गए मूल्यांकन का हिस्सा है, जिसमें भारत को इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में हार मिली थी।

उल्लेखनीय है कि इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में मिताली को अंतिम एकादश से बाहर रखने की बात ने बड़े विवाद का रूप ले लिया और इस मामले में कोच पोवार से टी-20 विश्व कप में भारतीय टीम के प्रदर्शन की रिपोर्ट मांगी गई।

मिताली के इस आरोप पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पोवार ने उन्हीं पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा, ‘मुझे आशा है कि मिताली कोचों को ब्लैकमेल करना और उन पर दबाव डालना बंद करते खुद से पहले टीम के हित के बारे में सोचना शुरू करेंगी। आशा है कि वह एक बड़ी छवि को देखना शुरू करेंगी और महिला क्रिकेट की बेहतरी की ओर काम करेंगी।’