#आतंकवादी सनातन संस्था 15 अगस्त के मौके पर धमाके कर के देश को दहलाना चाहती थी, देखें रिपोर्ट

Posted by


मुंबई।हाय रे, इस देश होगा, यहाँ जिसे देखो वही पापी, गुनहगार, भृष्ट, चोर, छिन्द्रा, लूज़ कॅरेक्टर का निकल रहा है, राजनीती में साफ़ सुथरी राजनीती का दावा तो लोग करते हैं मगर कहानियां सामने आती हैं तो बड़ी गड़बड़ निकलती है, 15 अगस्त से पहले महराष्ट्र पुलिस और ATS ने कुख्यात सनातन संस्था के एक गुर्गे को धरदबोचा है, उसके पास से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद हुआ है, सूत्रों के मुताबिक सनातन संस्था 15 के मोके पर देश में आतंकवादी कार्यवाही करने की फ़िराक़ में थी, यह संस्थान पहले भी अनेक आतंकी वारदातों में शामिल रहा है|

महाराष्ट्र में पालघर ज़िले के नालासोपारा इलाक़े में महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने गुरूवार रात एक घर से आठ देसी बम बरामद किए हैं. एटीएस ने इस मामले में वैभव राउत को गिरफ़्तार किया है, जो कथित रूप से दक्षिणपंथी संगठन सनातन संस्था का समर्थक है. विस्फोटक के अलावा कुछ किताबें भी बरामद हुई हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के अनुसार, एटीएस की टीम ने एक वरिष्ठ आईपीएस अफसर की अध्यक्षता में देर रात छापेमारी की. सुबह तक चली छापेमारी के बाद वैभव राउत को गिरफ्तार कर लिया गया. स्थानीय सूत्र बताते हैं कि राउत से हिरासत में पूछताछ होगी और उसे अदालत में पेश किया जाएगा.

विस्फोटकों को जांच के लिए मुंबई फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी को सौंप दिया गया है. नाम न छापने का अनुरोध करते हुए एक अधिकारी ने कहा, ‘हम इन विस्फोटकों के स्रोत को जानना चाहते हैं और यह भी जानना चाहते हैं कि राउत इनका उपयोग कैसे करने वाला था. इसलिए हिरासत में पूछताछ जरूरी है.’

दैनिक भास्कर की ख़बर के अनुसार, एटीएस ने करीब आठ बजे वैभव के घर में छापा मारा था और आठ देसी बम बरामद किए थे. घर से कुछ दूर उसकी दुकान में सल्फर (गन पाउडर) और डेटोनेटर भी बरामद हुए हैं. ज़ब्त किए गए विस्फोटकों से 25-30 बम बनाए जा सकते हैं.

Early morning visuals from Vaibhav Raut’s residence in Mumbai’s Nala Sopara area from where Anti-Terrorism Squad (ATS) recovered some suspicious material yesterday. Vaibhav Raut detained. More details awaited. #Maharashtra pic.twitter.com/fVeZVQRuAc

— ANI (@ANI) August 10, 2018

हालांकि, सनातन संस्था के वकील संजीव पुनेलिकर ने मीडिया को बताया कि वैभव उनके संगठन का सक्रिय सदस्य नहीं है, बल्कि वो उनके संस्था के एक सदस्य का साथी है. उन्होंने आगे बताया, ‘वैभव को पालघर पुलिस ने गोमांस प्रतिबंध मामले के संबंध में तड़ीपार कर रखा था. वो हिंदुत्व का कार्यकर्ता है, लेकिन हमारा सदस्य नहीं है. हालांकि, मुझे एटीएस के दावों पर शक है कि उसके पास विस्फोटक थे.’

पुनेलिकर ने कहा कि संस्था राउत को कानूनी सहायता उपलब्ध कराएगी.

सनातन संस्था से संबंधित लोगों को वाशी, ठाणे, पनवेल (2007) और गोवा (2009) ब्लास्ट में गिरफ़्तार किया जा चुका है.

प्रगतिशील लेखक और विचारक नरेंद्र दाभोलकर (2013), गोविंद पानसरे और एमएम कलबुर्गी (2015) और वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्याओं में सनातन संस्था से संबंधित लोगों का नाम सामने आया.

महाराष्ट्र पुलिस और सीबीआई कई बार जांच के दौरान संस्था के संस्थापक जयंत बालाजी अठावले से पूछताछ कर चुकी है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)
=============

Ajit Anjum

@ajitanjum
ये सनातन संस्था वाले देसी बम-बारूद-डेटोनेटर का क्या करने वाले थे ? देशहित और धर्महित की खातिर इनके बमों का क्या काम? ये कैसे सनातनी हैं , जो आतंकियों की तरह बम बना रहे थे ..’देशभक्त’ पत्रकारों -एंकरों को आज इन पर पिल पड़ना चाहिए जैसे किसी दाढ़ी वाले पर पिल पड़ते हैं .

Sakshi Joshi

@sakshijoshii
सनातन संस्था में 8 बम मिले।वैभव नाम के शख़्स को गिरफ़्तार किया गया है।अभी अगर किसी वसीम के यहाँ से मिले होते तो उसे आरोपी नहीं आतंकी लिख दिया जाता।इसलिए आतंकवाद को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए।हाँ धर्म के नाम पर आतंकी बनाने का काम जरूर किया जा रहा है।

Riya Kulkarni

@riyakulkarni_
15 अगस्त को मदरसों में कैमरा लगा कर राष्ट्र्गान का विडीओ बनाकर सरकार को दिखाइए ,
और
कट्टरवादी “सनातन संस्था” में भी कैमरा लगवा दो, “बम कैसे बनाए जाते है” सरकार को ये भी तो पता चलना चाहिए ? 🙏🏻

Sapna Choudhary

@sapna_indian
बम बारूद डेटोनेटर #संघियों के यहाँ से बरामद हो रहा है और आप कहते हैं कि आतंकवादी #मुसलमान हैं ~