आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन की ख़बरें, माकन ने किया इनक़ार

Posted by

आज सुबह से दिल्ली के राजनीतिक गलियारों में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन की खबरें छाई हुई हैं। एक ओर जहां कहा जा रहा है कि आप नेता दीलिप पांडेय ने ये साफ किया है कि टिकटों को लेकर बात चल रही है। वहीं इन सब बातों का खंडन करते हुए दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष ने ऐसे किसी गठबंधन से इनकार किया है।

अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस आम आदमी पार्टी से किसी भी तरह का गठबंधन नहीं करने वाली है। यहां तक कि पार्टी नेतृत्व आप से किसी भी तरह की बातचीत नहीं कर रही है।

माकन ने आप सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि ‘मोदी नाम के राक्षस को जन्म देने वाले केजरीवाल हैं।’ जब माकन से पूछा गया कि केजरीवाल ने मनमोहन सिंह जैसे शिक्षित प्रधानमंत्री की देश को जरूरत है ट्वीट किया था इसका क्या मतलब है तो इसका भी उन्होंने जवाब दिया।

माकन ने कहा कि अब जब दिल्ली सरकार को जनता खारिज कर रही है तो हम आगे आकर उनकी सहायता क्यों करें। हम उनके तीन सीटों वाले किसी फॉर्मूले को नहीं मान रहे।

वहीं दीलिप पांडेय ने कहा था कि आप के कुछ वरिष्ठ नेता दिल्ली, हरियाणा और पंजाब कांग्रेस के टच में हैं। कांग्रेस नेता हमारा सपोर्ट चाहते हैं।

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर तालमेल के लिए विपक्षी दलों के बीच गठबंधन पर बातचीत शुरु हो गयी है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा को चुनौती देने के लिए राज्य स्तर पर एक दूसरे के घोर विरोधी दल भी एक जुट हो रहे हैं। इसके पीछे अभी हाल में 4 लोकसभा और 10 विधान सभा सीटों के उपचुनाव में विपक्षी गठबंधन को मिली सफलता को कारण माना जा रहा है।

उत्तर प्रदेश में बसपा और सपा तथा कर्नाटक में कॉन्ग्रेस और जेडीएस के बीच चुनावी गठबंधन के बाद अब दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी भी 2019 के आम चुनाव में भाजपा का मुक़ाबला करने के लिए कॉन्ग्रेस के साथ चुनावी तालमेल की कोशिश कर रही है। बताया जाता है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कॉन्ग्रेस पार्टी के बीच वार्ता का क्रम जारी है। कॉन्ग्रेसी नेता जयराम रमेश और अजय कामन ने 24 मई को आम आदमी पार्टी से औपचारिक बातचीत शुरु की। दिल्ली की 7 संसदीय सीटों के लिए जो इस समय भाजपा के पास है, कॉन्ग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच तालमेल की बात चल रही है।

बताया जाता है कि आम आदमी पार्टी अपने लिए 5 और कॉन्ग्रेस के लिए 2 सीटों की पेशकश कर रही है जबकि कॉन्ग्रेस दिल्ली की तीन संसदीय सीटों नई दिल्ली, चांदनी चौक और उत्तर पश्चिमी दिल्ली की सीटों की मांग कर रही है। गठबंधन पर अभी दोनों दलो ने खुलकर कुछ नहीं कहा है।