इराक़ संसदीय चुनाव के परिणाम घोषित : मुक़तदा सद्र बने किंग मेकर : रिपोर्ट

Posted by

इराक़ में संपन्न हुए संसदीय चुनाव के परिणामों की घोषणा कर दी है।इराक़ के चुनाव आयोग ने एक बयान जारी करके दस प्रांतों के चुनाव परिणामों का एेलान कर दिया है, जानकारी के मुताबिक़ मुक़तदा सद्र के नेतृत्व वाले “साएरून” गठबंध बग़दाद में सबसे आगे है और उसके बाद बद्र संगठन के महासचिव हादी अलआमेरी के नेतृत्व वाला फ़त्ह और नूरी मालेकी के नेतृत्व वाला दौलतुल क़ाननू गठबंधन दूसरे और तीसरे नंबर पर है। वासित व ज़ीक़ार प्रांतों में भी साएरून गठबंधन को सबसे अधिक सीटें मिली हैं।

इराक़ से मिलने वाली रिपोर्टों के मुताबिक़ सद्र धड़े से संबंधित साएरून गठबंध जश्न मनाने की तैयारी में व्यवस्त है। ज्ञात रहे कि इराक़ में शनिवार 12 मई को संसदीय चुनाव आयोजित हुए थे। संसद की 329 सीटों के लिए 320 से अधिक राजनैतिक दलों, धड़ों और गठबंधनों के बीच प्रतिस्पर्धा थी। चुनाव में 44 प्रतिशत से अधिक लोगों ने भाग लिया।
========
इराक़ में मुक़तदा सद्र बने किंग मेकर, प्रधान मंत्री पद के लिए रखी शर्त

इराक़ के धर्मगुरु मुक़तदा सद्र के नेतृत्व में अल-सायरून गठबंधन ने 12 मई को हुए संसदीय चुनाव में सबसे अधिक सीटें जीत ली हैं।

इराक़ के संसदीय चुनाव में राजनीतिक पार्टियों के कई गठबंधन बने, लेकिन कोई भी गठबंधन 329 सीटों में से सरकार के गठन के लिए ज़रूरी सीटें नहीं जीत पाया है।

यही कारण है कि गठबंधन सरकार के गठन के लिए कोशिशें तेज़ हो चुकी हैं। इसी संदर्भ में अल-सायरून गठबंधन के नेता मुक़तदा सद्र ने प्रधान मंत्री हैदर अल-अबादी से टेलीफ़ोन पर विचार विमर्श किया है।

ग़ौरतलब है कि हैदर अल-अबादी का गठबंधन चुनाव में तीसरे नम्बर पर रहा है और उन्होंने टेलीफ़ोन पर चुनाव में सबसे अधिक सीटें जीतने के लिए मुक़तदा सद्र को बधाई दी है।

हैदर अल-अबादी का गठबंधन चुनाव में तीसरे स्थान पर है, जबकि दाइश के ख़िलाफ़ लोहा लेने वाले स्यवं सेवी बल हश्दुश्शाबी के प्रमुख हादी अल-आमेरी का गठबंधन अल-फ़तह दूसरे स्थान पर रहा है।

इस बीच, मुक़तदा सद्र के गठबंधन के प्रवक्ता सलाह अल-अबीदी ने कहा है कि चुनाव में जीत हासिल करने वाला उनका गठबंधन, प्रधान मंत्री पद के लिए अपने किसी नेता के नाम पर आग्रह नहीं कर रहा है।

अल-अबीदी ने यह भी संकेत दिया कि प्रधान मंत्री पद के लिए उनका गठबंधन वर्तमान प्रधान मंत्री हैदर अल-अबादी के नाम पर सहमति जता सकता है, लेकिन सशर्त रूप से।

उन्होंने कहा, अगर अल-अबादी हमारी कुछ शर्तों को पूरा करने का वादा करें तो हमें प्रधान मंत्री पद के लिए उनकी उम्मीदवारी पर कोई आपत्ति नहीं होगी।