#इस्लाम_की पनाह में #काफ़िर_की_बहन

Posted by

Sikander Kaymkhani
===============·
(ईमान कि खातिर सारी मुसीबत बरदाश्त कर ली)

((4000 साल पहले जिस वक्त को हिंदू लोग महाभारत होना बताते है लेकिन कोई सबूत नही मिलता लेकिन फ़िरऔन की लाश आज भी रखी है ))

#हज़रते आसिया रज़ियल्लाहु अन्हा #फिरौन कि बीवी थी और फिरौन वो बदबख्त था जिसने खुदा होने का दावा किया था (माज़ अल्लाह)
हजरते आसिया रज़ियल्लाहु अन्हा ने अपने पति फिरौन से अपने ईमान को छुपा रखा था! जब फिरौन को पता चला कि हज़रते आसिया #अल्लाह और उसके रसूल #हज़रते मुसा अलैहिस्सलाम पर ईमान लाई है तो उसने हुक्म दिया कि उन्हे तरह-तरह कि तकलीफ दि जाए ताकि हज़रते आसिया अपना ईमान छोङ दे! लेकिन हज़रते आसिया ने अपने ईमान पर साबित कदम रही

तब फिरौन ने कींले मंगवाई और उनके जिस्म पर कीले ठोक दी और फिर फिरौन कहने लगा अब भी वक्त है ईमान छोड़ दो मगर हज़रते आसिया ने जवाब दिया तु मैरे वजूद पर कादिर है पर मेरा दिल मेरे #रब कि #पनाह मै है

अगर तु मेरे बदन के तुकङे -तुकङे कर दे तब भी मेरे दिल मेअल्लाह कि मोहब्बत बढती जायेगी #मूसा अलैहिस्सलाम का वहा से गुजर हुआ तो हज़रते आसिया ने पुछा मेरा रब मुझसे #राज़ी है या नही? हज़रते मूसा अलैहिस्सलाम ने फरमाया ऐ आसिया आसमान के फरिश्ते तेरे ईन्तिज़ार मे है और अल्लाह तेरे कारनामों पर फख्र फरमाता है
दुआ कर तेरी हाजत पूरी होगी! हज़रते आसिया रज़ियल्लाहु अन्हा ने दुआ मांगी ऐ अल्लाह मुझे अपने ज्वारे रहमत मे #जन्नत मे मकान अता फरमा मुझे #फिरौन और ज़ालिम लोगो से निजात अता फरमा ,,,,,,

हज़रते सलमान रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते है कि हज़रते आसिया को धुप मे तकलीफ दी जाती थी जब लोग तकलीफ दे कर लोट जाते थे तो फरिश्ते अपने परो से अाप पर सांया किया करते थे और वह अपने जन्नत वाले घर को देखती रहती थी, ,,,,

हज़रते अबु हुरैराह रज़ियल्लाहु अन्हु फरमाते है कि जब फिरौन ने हज़रते आसिया रजियल्लाहु अन्हा को धुप मे लिटा कर चार कीले उनके जिस्म मे गङवा दी और उनके सिने पर चक्की का पाट रख दिये गये तो हज़रते आसिया ने आसमान कि तरफ निगाह उठा कर अर्ज़ कि

“ऐ अल्लाह मेरे लिए अपने ज्वारे रहमत मे जन्नत मे एक मकान अता फरमा (मुकाशिफतुल कुलुब सफा 81)

फलसफा -वो नैक लोग सब तकलीफें बरदाश्त कर लेते थे पर अपना ईमान नही छोङते थे और इन मुसीबतों मे भी अल्लाह से कभी शिकवे शिकायत नही करते थे बस अल्लाह कि शुक्र गुजारी और जन्नत का सवाल करते रहते थे और हम अपने ईमान के नुर को बढाने के लिये क्या कर रहे है?

हमको हमारी किसी बहन की पोस्ट पर गंदगी बेहया पिक्चर दिख जाए तो वाह वाही और लानत भरे कमैंट की बौछार लगा देते हैं… यही तो तो शैतान का अमल है जो हमे अभी दिखाई नही देरहा है कल कयामत मे सब पता चल जाएगा
जितने कमैंट उतने ही गुनाह मिले नामाए आमाल में

आपकी दुआ की तालिब गुनहगार mehrun nisa khan