उत्तर प्रदेश : धार्मिक स्थलों को लेकर दो समुदायों के बीच विवाद, पीएसी व पुलिस बल तैनात

Posted by

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जनपद में धार्मिक स्थलों को लेकर दो समुदायों के बीच विवाद हो गया। दोनों समुदायों के लोग आमने-सामने आ गए। पुलिस ने मौके पर जाकर स्थिति को संभाला। पुलिस के एक धार्मिक स्थल को गिराने के प्रयास की सूचना फैलने पर लोग भड़क गए। पुलिस के खदेड़ने पर महिलाओं सहित कई लोगों ने पथराव शुरू कर दिया, जिसमें पुलिस की दो गाड़ियों के शीशे टूट गए। कई पुलिस कर्मियों को मामूली चोट आई हैं।

वहीं भाजपा नगीना लोकसभा सांसद डॉ. यशवंत सिंह मौके पर पहुंचे। उसके बाद दोनों पक्षों में यथास्थिति का फैसला होने पर विवाद का निपटारा कर दिया गया। सुरक्षा की दृष्टि से गांव में पीएसी व पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

नहटौर के गांव इलाहबास में चामुंडा देवी का प्राचीन देवस्थल है। नवरात्रि के दौरान ग्रामीणों ने साफ-सफाई करके देवस्थल के ऊपर एक कमरा बना दिया था। शुक्रवार की सुबह को दूसरे समुदाय के कुछ लोगों ने मौके पर पहुंचकर मकान की दीवारों को गिराना शुरू कर दिया। लोगों को आता देख ये लोग फरार हो गए। इस बात को लेकर दोनों समुदायों के लोगों के बीच विवाद हो गए। दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। दूसरे समुदाय के लोगों ने भी ईदगाह में दीवार बनानी शुरू कर दी। दोनों समुदायों के बीच विवाद की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई।

 

Adesh Singh Rathore

@AdeshSinghRath6
धार्मिक स्थल को लेकर भिड़े दो समुदाय के लोग, पुलिस की गाड़ी में तोड़फोड़, फोर्स तैनात उत्तर प्रदेश के बिजनौर जनपद में धार्मिक स्थलों को लेकर दो समुदायों के बीच विवाद हो गया। दोनों समुदायों के लोग आमने-सामने आ गए।

इसके बाद एसडीएम धामपुर कुंवर वीरेंद्र सिंह मौर्य व सीओ धामपुर महावीर सिंह ने मौके का मुआयना शुरू किया। पुलिस ने बिना अनुमति के ईदगाह की बनाई गई दीवार को हटवा दिया। उसके बाद देवस्थल की ओर पुलिस गई।

ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस ने देवस्थल पर बनाए गए कमरे को गिराने का प्रयास शुरू किया। इस बात पर एक समुदाय के ग्रामीण भड़क गए। महिलाओं सहित कई लोगों ने इसका विरोध शुरू कर दिया। पुलिस के लाठी फटकारने पर ग्रामीणों ने पथराव शुरू कर दिया। पथराव शुरू होने पर गांव में भगदड़ मच गई। सीओ धामपुर सहित पुलिस की दो गाड़ियों के शीशे टूट गए। मामला मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचने पर प्रशासन में भी खलबली मच गई। एसपी उमेश कुमार सहित आला अधिकारी गांव पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों से वार्ता शुरू की।

नगीना सांसद डॉ. यशवंत के अलावा भाजपाई मुकेंद्र त्यागी, अमित चौधरी, शोभित त्यागी, ओमपाल सिंह आदि की उपस्थिति में दोनों समुदायों के बीच समझौता वार्ता चली, जिसमें यथास्थिति का समझौता होने पर विवाद का निपटारा हो गया। समझौते में एक पक्ष की ओर ग्राम प्रधान अबरार अहमद, इस्तकार, सईद अहमद, हनीफ, शहजाद, अब्दुला व दूसरी ओर कल्याण सिंह, चंद्रपाल सिंह, शिवनाथ सिंह, कैलाशचंद, अरुणा रहे।