ऐसे लोग केवल पशुओं के साथ ही सेक्स करते हैं, जानवरों की सेक्स लाइफ़ : only for A

Posted by

हरियाणा के मेवात इलाके में एक गर्भवती बकरी से सेक्स और उसके बाद बकरी की मौत की खबर अंतरराष्ट्रीय सुर्खिंयों में है। मामला 25 जुलाई का है, लेकिन सुर्खियां चार दिनों बाद बनीं। मेवात पुलिस प्रवक्ता जितेंद्र कुमार के मुताबिक इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 377 और एनिमल क्रूएलिटी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। मामला जब पुलिस के पास पहुंचा तो बकरी का पोस्टमॉर्टम कराया गया। हालांकि पोस्टमॉर्टम में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है।

पोस्टमॉर्टम में मौत की वजह अंदरूनी चोट बताया गया है। मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। पुलिस पीआरओ जितेंद्र ने बताया कि अभी मामले की जांच चल रही है।

लेकिन जानवर के साथ सेक्स।।।
=============
जानवरों के साथ सेक्स को अंग्रेज़ी में बेस्टिएलिटी कहते हैं। इसका एक और मतलब भी है अति क्रूर व्यवहार। ऑक्सफर्ड डिक्शनरी के मुताबिक़, किसी इंसान और जानवर के बीच इंटरकोर्स को बेस्टिएलिटी कहते हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायटेक्नॉलजी इन्फॉरमेशन यानी एनसीबीआई की वेबसाइट के मुताबिक़, किसी इंसान का जानवर के साथ सेक्स करना काफ़ी गंभीर मामला है, लेकिन जानवरों के खिलाफि हिंसा के जो मामले दर्ज होते हैं, उनमें इस तरह के मामलों का प्रतिशत बहुत कम होता है। भारत में यह एक दंडनीय अपराध है।

एनसीबीआई, रिसर्च जरनल में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक बेस्टिएलिटी एक तरह की यौन हिंसा है, जिसमें किसी जानवर का इस्तेमाल यौन संतुष्टि के लिए किया जाता है।

इसका मकसद सिर्फ़ शारीरिक संतुष्टि है, कोई भावनात्मक लगाव नहीं। एनसीबीआई के मुताबिक कुछ समुदायों में बेस्टिएलिटी को यौन संक्रमित बीमारियों के इलाज के तौर पर देखा जाता है। दिल्ली स्थित सेक्सोलॉजिस्ट विनोद रैना के मुताबिक़ ऐसे लोग ‘सैडिस्ट’ प्रवृत्ति के होते हैं। ये पूरी तरह से एक दिमाग़ी मामला है।

बतौर डॉ. रैना बेस्टिएलिटी की दो मुख्य वजहें हो सकती हैं। एक तो यौन कुंठा और दूसरा सेक्शुअल फैंटिसी के लिए। एक रिपोर्ट के अनुसार, कई बार बच्चे भी इस तरह की हरकतें करते हैं, लेकिन अगर किसी बच्चे के संदर्भ में ऐसा कोई मामला सामने आए तो इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए।

आगे जाकर ये खतरनाक हो सकता है। रिपोर्ट में इस बात पर भी ज़ोर दिया गया है कि अक्सर इस तरह के मामलों को नजरअंदाज कर दिया जाता है, लेकिन ऐसा करना ख़तरनाक हो सकता है।

बतौर डॉ. रैना, “बेस्टिएलिटी के लिए कई बार माहौल भी ज़िम्मेदार होता है। कई बार परिवारों मे सेक्स को लेकर इस तरह का माहौल होता है कि लोग इस पर खुलकर बात भी नहीं कर पाते। ऐसे में कई बार सेक्स को एक्सप्लोर करने के लिए भी लोग जानवरों का इस्तेमाल करते हैं।”


लेकिन क्या ये कोई पहला मामला है?
===========
भले ही हरियाणा की इस घटना ने सभी को चौंका दिया है, लेकिन ये कोई पहला मामला नहीं है। अमरीका के उत्तरी-पूर्वी फ्लोरिडा में पशुओं पर होने वाले यौन हमले में बकरियों को सबसे ज़्यादा टारगेट किया जाता है।
एनसीबी की रिपोर्ट में भी एक ऐसे ही मामले का ज़िक्र किया गया है जिसमें एक 18 साल के युवक ने अपनी गौशाला में पले दो बछड़ों के साथ दुष्कर्म किया। दोनों बछड़ों में से एक की बाद में मौत हो गई। बाद में जब बछड़े की फॉरेंसिक जांच हुई तो ह्यूमन सीमन मिला।

हालांकि जब उस युवक को गिरफ़्तार किया गया तो उसे किसी भी तरह का पछतावा नहीं था। भारत में ऐसे मामले, आईपीसी की धारा 377 के तहत दर्ज होते हैं। भारत के अलावा कई यूरोपीय देशों जैसे नीदरलैंड, फ्रांस और स्विट्ज़रलैंड, डेनमार्क में ये प्रतिबंधित है। इसके अलावा जर्मनी में भी इस पर रोक है। ब्रिटेन में साल 2003 में इससे जुड़ी सज़ा में बदलाव किया गया और आजीवन कारावास की अधिकतम सज़ा को घटाकर दो साल कर दिया गया।

हालांकि हंगरी, फिनलैंड में ये अब भी अपराध नहीं है। साल 2011 में आई डेनमार्क सरकार की एक रिपोर्ट के मुताबिक 17 फ़ीसदी जानवरों के डॉक्टर मानते हैं कि उन्होंने जितने जानवरों का अब तक इलाज किया, उनमें से कम से कम एक साथ किसी इंसान ने दुष्कर्म किया।

क्या यह कोई मनोविकार है?
=============

एनसीबी की रिपोर्ट की मानें तो इस तरह की समस्या उन लोगों को ख़ासतौर पर होती है जो एक असंतुलित जीवन गुज़ारते हैं।

जिनका बचपन घरेलू हिंसा और तनाव के बीच गुज़रा हो। इसके अलावा जो बचपन में यौन हिंसा का शिकार होते हैं, उनमें भी इस तरह के व्यवहार की आशंका बढ़ जाती है। साइकोलॉजिस्ट डॉ. प्रवीण बताते हैं कि अबनॉर्मल सेक्शुअल एक्टिविटीज को पैरीफिलिया कहते हैं।

“पैरीफिलिया के कई प्रकार होते हैं। बेस्टिएलिटी इनमें से एक है। बेस्टिएलिटी असामान्य व्यवहार और बीमारी के बीच की चीज़ है। पर इकलौता असामान्य व्यवहार नहीं है। नैक्रोफ़ीलिया इसका दूसरा प्रकार है, जिसमें व्यक्ति किसी मृत के साथ शारीरिक संबंध बनाता है।”

क्या हो सकती हैं प्रमुख वजहें?
==========
– बचपन में बुरा अनुभव
– अकेलापन
– मानसिक विकार

क्या है इलाज?
========
डॉ. प्रवीण के मुताबिक इसके लिए अवर्सिव थेरेपी दी जाती थी, लेकिन आज के समय में ये बहुत चलन में नहीं है। इस थेरेपी में शख़्स को ये महसूस कराया जाता था कि वो किसी जानवर के साथ है, लेकिन इस दौरान उसे करंट दिया जाता था ताकि बाद में अगर वो इस तरह कुछ करे तो उसे वो दर्द याद आए और वो ख़ुद ही उससे दूर हो जाए।

हालांकि अब ये तरीक़ा चलन में नहीं है।”ऐसे लोगों के लिए और भी कई तरह के इलाज हैं, लेकिन सच्चाई यही है कि कोई भी उपाय बहुत कारगर नहीं है।” डॉ. प्रवीण मानते हैं कि इस तरह के मामले बहुत ही कम देखने को आते हैं, लेकिन इसे सिर्फ़ बीमारी नहीं माना जा सकता है।

वो मानते हैं कि ऐसे मामलों में सख़्ती बरतने और ऐसे शख़्स का सही इलाज दोनों साथ-साथ करने से ही फ़ायदा हो सकता है।

पशुओं के साथ सेक्स करने वाले कैसे-कैसे लोग


===================
ह्यूमन-ऐनिमल रोल-प्लेयर्स- जिन्होंने जानवरों के साथ कभी सेक्स नहीं किया है, लेकिन सेक्स की इच्छा भड़कने पर ये जानवरों की तरफ़ रुख करते हैं। रोमैंटिक पशु प्रेमी- ऐसे लोग जानवरों को पालतू बनाकर रखते हैं और ये साइकोसेक्शुअली की ओर आकर्षित होने लगते हैं। हालांकि ये सेक्स नहीं करते हैं।

असामान्य कल्पनाशील लोग- ये ऐसे लोग हैं जो पशुओ के साथ सेक्शुअल इंटरकोर्स के बारे में सोचते हैं, लेकिन ऐसा कभी करते नहीं।

पशुओं से हवस- ऐसे लोग पशुओं को स्पर्श करते हैं। ये पशुओं को गले लगाते हैं और उस तरीक़े से छूते हैं। ये पशुओं के गुप्तांगों को भी छूते हैं, लेकिन सेक्स नहीं करते।

अतिउत्साही- ये पशुओं के हर हिस्से को देखते हैं। कई बार ये कामुक नज़रिए से नापते हैं। यहां तक कि पशुओं के बीच होने वाली यौन गतिविधियों के दौरान ये कुछ ज़्यादा ही सक्रिय हो जाते हैं।

क्रूर कामुकता- ये पशुओं के साथ रेप करते हैं। इस दौरान उन्हें ये प्रताड़ित भी करते हैं।

मौक़ापरस्त- ये सेक्शुअल रिलेशन के मामले में नॉर्मल होते हैं, लेकिन मौक़ा मिलने पर पशुओं के साथ भी शुरू हो जाते हैं।

नियमित पशु प्रेमी – ऐसे लोग पशुओं के साथ सेक्स करना ज्यादा पसंद करते हैं। इन्हें मानवीय सेक्स से ज़्यादा ये रास आता है।

हिसंक- ये सेक्स के दौरान पशुओं को मार भी देते हैं। यहां तक कि ये पशुओं के मर जाने के बाद भी उनसे सेक्स करते हैं।

एक्सक्लूसिव पशु प्रेमी- ऐसे लोग केवल पशुओं के साथ ही सेक्स करते हैं।

सोर्स – बीबीसी हिंदी

============
अमेरिका के ऑक्लोहामा में रहने वाली एक युवती ने बिल्ली के साथ यौन संबंध बनाये। इसके बाद जब पड़ोसी ने युवती को संबंध बनाते हुए देख लिया तो युवती ने उसे चाकू के बल पर धमकाना शुरु कर दिया। एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपी खबर के अनुसार अपने घर में अकेले रह रही युवती ने बिल्ली के साथ संबंध बनाना शुरु कर दिया था। संबंध बनाने के दौरान ही पड़ोस में रह रहे 72 साल के बुजुर्ग ने यह सब देख लिया।

बुजुर्ग ने इस बारे में आसपास के लोगों को भी बताया। युवती को जब इस बात का पता चला तो उसने बुजुर्ग को चाकू लेकर उसको धमकाने पहुंच गयी। युवती ने चाकू निकालते हुए बुजुर्ग से कहाए बाहर जाओ मैंने तुम्हें देख लिया है।


अगर तुम बाहर नहीं जाओगे तो मैं तुम्हें मार डालूंगी। इस मामले की जांच करते हुए स्थानीय पुलिस ने युवती को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के एक अधिकारी ने बतायाए हमनें जांच करने के बाद महिला को गिरफ्तार किया है और साथ ही पांच हजार डॉलर का जुर्माना भी लगाया है।

=========

वकील करता था कुत्ते से सेक्स
February 25, 2018

पेंसिलवेनिया। आज के समय में इंसानियत इस हद तक गिर चुकी है कि, इंसान तो इंसान जानवर भी इससे अछूते नहीं है। आपने आज तक कुत्तों से लाड़ दुलार और प्यार की खबरे पढ़ी होंगी। लेकिन एक वकील ने अपने पालतु कुत्ते के साथ ऐसी शर्मनाक हरकत की है कि, जिसे जानकर कोई भी दंग रह जायेगा। इस वकील को उसी के कुत्ते के साथ सेक्स करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। जानिए क्या है पूरा मामला —

दरअसल ये मामला पेंसिलवेनिया का है। पेंसिलवेनिया के पिट्सबर्ग का रहने वाला अटॉर्नी इवान डेवोरेन पेशे से वकील है। डेवोरेन के पड़ोसी ने पुलिस को सूचना दी थी कि, वो अपने पालतु कुत्ते के साथ सेक्स करता है। पड़ोसी द्वारा इस तरह की शिकायत मिलने पर मौके पर पुलिस पहुंच गयी। पुलिस ने इवान के घर की छानबीन की और उसके घर से कई आपत्तीजनक वस्तुएं बरामद की।

पुलिस को इवान के घर से उसका क्रीम कलॅर का लैब्राडोर स्ट्रीवर कुत्ता भी बरामद हुआ है। इसके अलावा उसके घर से वो काउच भी मिला है जिसका इस्तेमाल वो वकील सेक्स करने के लिए करता था। इवान के घर से पुलिस को गांजा और हिरोइन भी बरामद हुई है। पुलिस को शक है कि, इवान नशे की हालत में ही कुत्ते के साथ इस प्रकार का कुकृत्य करता होगा।

पुलिस ने इस मामले में आरोपी इवान के खिलाफ जानवरों के साथ दुर्व्यवहार और उन्हें प्रताड़ित करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया , जिसके बाद इवान को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया गया। इस बारे में उसके पड़ोसी ने पुलिस को बताया कि, उसने कई बार अपने बालकनी से इस दृश्य को देखा है जब इवान कुत्ते के साथ सेक्स करता था। पड़ोसी के अनुसार इवान ने लगभग 10 बार कुत्ते के साथ संभोग किया है।
==============

लड़की ने किया कुत्ते के साथ सेक्स
April 13, 2017

जानवर और इंसान का तो काफी पुराण रिश्ता है। दोनों अच्छे दोस्त होते है। लेकिन कुछ लोग जानवरों के बिना बोलने का नाजायज फायदा भी उठाते है। जानवरों के साथ सेक्स इन तो हम रोज अख़बारों में पढ़ते ही है। ऐसी ही घटना एक लड़की के साथ ही उसने अपना आपा खो दिया और कुत्ते के साथ ही सेक्स करने लगी। इस लड़की ने सेक्स तो करी लेकिन उसकी सेल्फी भी ले डाली जिसका उसे भारी नुकसान भी भुगतना पड़ा।

इस लड़की को जानवरों के साथ अप्राकृतिक सेक्स करते हुए गिरफ्तार किया गया। अमेरिका के फ्लोरिडा की यह महिला सेक्स में अत्यधिक रूप से उत्तेजित होने के चलते कुत्ते के साथ सेक्स कर बैठी और फिर सेक्स करते हुए सेल्फी भी ले डाली। स्थानीय पुलिस ने 18 साल की एक टीनेजर पर अपने डॉगी के साथ सेक्स करने और इस दौरान सेल्फी लेने का मामला दर्ज किया है। लड़की की इसी हरकत के कारण उस पर जानवरों के साथ अप्राकृतिक सेक्स और सेक्शुअल ऐक्टिविटी करने का मामला दर्ज किया गया है।

उसके फोन में आपत्तिजनक फोटो मिले हैं। जानकारी के अनुसार आरोपी लड़की एशली मिलर ने कुत्ते के साथ पिछले 5 साल में लगभग 40 बार ओरल सेक्स करवाया है। कुत्ते को आइसक्रीम पसन्द थी इसलिए वह अपने बेडरूम का दरवाजा बन्द करके अपने प्राइवेट पार्ट पर आईसक्रीम गिरा देती थी। और कुत्ता उसे खाने लगता था। और जब कुत्ता लड़की के प्राइवेट पार्ट को अपने मुंह से छूता था तो लड़की को सुख की अनुभूति होती थी।

==========

जानवरों की सेक्स लाइफ से जुड़े अमेजिंग फैक्ट्स
———————–

जिस तरह इंसानों में समलैंगिकता, ग्रूप सेक्स, हस्तमैथुन, सेक्स चेंज, आम बात है उसी तरह पशु-पक्षियों में भी ये सभी चीज़ें आम है और मनुष्यों से बढ़कर है। आज इस लेख में हम जानवरों की सेक्स लाइफ से जुड़े कुछ ऐसे ही इंटरेस्टिंग फैक्ट्स के बारे में जानेंगे।

1. समलैंगिकता (Homosexuality)
मनुष्यों की तरह जानवरों में भी समलैंगिकता पाई जाती है। करीब 450 पशु-पक्षियों की प्रजातियों में समलैंगिकता पाई गई है। विकीपीडिया में इन पशु-पक्षियों की प्रजातियों की सूची भी दी गई है। इस संदर्भ में उल्लेखनीय है कि वर्ष 2007 के अंत में ओस्लो विश्वविद्यालय में एक प्रदर्शनी लगाई गई थी, जिसमें ऐसे पशु-पक्षियों को प्रदर्शि‍‍त‍ किया गया था। समुद्री पक्षियों में यह प्रवृत्ति इस हद तक होती है कि ये मादा पक्षी न केवल साथ साथ रहते हैं वरन एक ही घोसलों में रहते हैं और एक साथ ही चूजों को जन्म भी देते हैं।

ऐप तो बिना उम्र या लिंग देखे यौन संबंध बनाते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि सेक्स संबंधों का उन पर काफी अच्छा प्रभाव होता है और वे शांत रहते हैं। नर शुतुरमुर्गों में भी समलैंगिकता पाई जाती है और वे एक दूसरे को आकर्षित करने के लिए एक विशेष प्रकार का नाच भी करते हैं। वर्ष 1994 में प्राणी वैज्ञानिकों ने गहरे समुद्र में दो नर ऑक्टोपस को यौन संसर्ग करते देखा था। शोध करने वालों ने पाया कि समुद्र में पाए गए दोनों ऑक्टोपस नर थे लेकिन वे अलग-अलग प्रजाति के थे।

बहुत कम पशु-पक्षी केवल एक साथी के साथ संबध रखने वालों की श्रेणी में आते हैं। लेकिन ऐसा वो मजबूरी में ही करते हैं।

2. सामूहिक सम्भोग (Group Sex)
यदि बात सामूहिक सम्भोग की हो तो जानवर, इंसानो से कई कदम आगे है। संसार की सबसे बड़ी सेक्स ओरजी का खिताब रेड साइडेड गार्टर स्नेक को जाता है। कनाडा के मनिटोबा प्रान्त मे हर साल 30000 गार्टर स्नेक, शीत निद्रा के बाद, मैटिंग (सम्भोग) के लिए इकठ्ठा होते है। इस समय एक एक मादा के साथ सैकड़ों सांप एक साथ सम्भोग करते है।

टोड्‍स जिस तरह से यौन संसर्ग करते हैं उसे एम्प्लेक्सस कहा जाता है। इस स्थिति में नर मेंढक मादा के शरीर पर पीछे से चढ़ जाता है और उसके अंडों का बाहर से ही गर्भाधान करता है। अगर प्रतियोगिता ज्यादा बढ़ जाती है तो कई मेंढक एक ही मादा के शरीर पर चढ़ जाते हैं और इसका परिणाम यह भी होता है कि मादा कभी-कभी पानी में डूब जाती है। पर अगर मादा मेंढक बची रहती है तो वह एक साथ कई मेंढकों के बच्चे पैदा करती है।

सामाजिक विस्तार के लिए अगर एक साथ कई नर-मादाओं का मेल जरूरी होता है तो बोनबो प्रजाति के बंदरों में यह आम तौर पर पाई जाती है। चूँकि यह समाज मादा प्रधान होता है इसलिए मादाएँ बिना किसी हिंसा के अधिक से अधिक नरों के साथ संबंध बना सकती हैं।

3. हस्तमैथुन (Masturbation)
आदमियों के बारे में कहा जाता है कि 99 फीसदी लोग हस्तमैथुन करते हैं और बाकी बचे एक फीसदी लोग इस बारे में झूठ बोलते हैं। लेकिन बंदर इस मामले में काफी कुख्यात होते हैं। बहुत सारे जानवर अपने जननांग को चाटने का काम करते हैं। हालाँकि यह हमेशा ही सेक्स संबंधी कारणों से नहीं होता है, लेकिन कंगारुओं को ऐसा करते आसानी से देखा जा सकता है। इसी तरह की प्रवृति घोड़ों में भी देखी जाती है और इनके पालक इस पर रोक लगाने की कोशिश करते हैं जो कि घोड़ों के वीर्य पर बुरा असर डालती है।

4. सेक्स चेंज (Sex Change)
अपने सेक्स में परिवर्तन लाना मनुष्यों के लिए पशु-पक्षियों की तुलना में दुष्कर काम है। लोगों को तरह-तरह के इंजेक्शनों और सर्जरी की मदद लेनी पड़ती है, लेकिन कीड़े-मकोड़ों, जमीन पर घूमने और वनस्पतियाँ खाने वाले घोंघों और कुछ मछलियों के लिए अपना लिंग बदल लेना सरल काम है।

इन प्राणियों की कुछ प्रजातियों तो ऐसी भी होती हैं जो कि जीवन के शुरुआत में एक लिंग की होती हैं, लेकिन बाद के समय में अपना लिंग बदल लेती हैं। एक समुद्री कीड़ा, जिसे ऑफ्रीयोट्रोका प्यूराइलिस प्यूराइलिस कहा जाता है, जीवन की शुरुआत में नर होता है, लेकिन बाद में मादा में बदल जाता है। जो नर शरीर से बड़े हो जाते हैं, वे मादा में बदल जाते हैं।

इतना ही नहीं, जब दो मादा गोबी मछलियाँ संसर्ग करती हैं, तो उनमें से एक नर बन जाती है। बाद में यह मछलियाँ बड़ी आसानी से मादा भी बन जाती हैं। कई प्राणी तो ऐसे भी होते हैं जिनमें नर और मादा दोनों के अंग होते हैं। घोंघे और केंचुए इसी तरह के प्राणी होते हैं।

इन प्राणियों के अलावा समुद्री घोघें तो बाकायदा स्पर्म ट्रेडिंग तक करते हैं ताकि दोनों को बराबरी का हिस्सा मिल सके। पर इन प्राणियों में भी आपसी संसर्ग ही अधिक होता है और आत्म गर्भाधान कम होता है, लेकिन उत्तरी अमेरिका में बनाना घोंघे पाए जाते हैं जो 25 सेंटीमीटर तक लंबे होते हैं और यह स्वत: ही गर्भाधान करते हैं।

लिंग बदलने की क्षमता रेंगने वाले प्राणियों में अधिक होती है क्योंकि इन्हें संभावित साथी बड़ी मुश्किल से ही मिलता है। परंतु मैनग्रोव मछलियों की एक प्रजाति ऐसी भी होती है जो कि स्वत: गर्भधारण कर सकती है।

5. यौन संबंधों के लिए होती है लड़ाई (Fight for sexual relation)
यौन संबंध बनाने के लिए नर पशु अपने प्रतिद्वंद्वियों से लड़ने को भी तैयार रहते हैं। इसके लिए वे हर हथियार का इस्तेमाल करते हैं जिसमें सींग भी शामिल होते हैं। इस लड़ाई में नर पशु की जान भी कई बार चली जाती है।

संभोग के बाद कुछ जानवर ये सुनिश्चित करते हैं कि उस मादा के साथ संबंध बनाने वाले वे अकेले नर हों। जैसे हेजहॉग स्पर्म मादा के वजाइना के इर्द-गिर्द एक कुदरती घेरा बना लेता है। इस वजह से अन्य नर पशु उस मादा तक नहीं पहुंच सकते हैं।

6. जबरदस्ती सेक्स (Rape)
सेक्स में जबरदस्ती इंसान ही नहीं कर सकते। ब्लैकटिप रीफ़ नर शार्क सेक्स के लिए मादा को मनाने की कोशिश ही नहीं करते। वो तो उस पर हमला कर एक तरह से जबरन सेक्स कर लेते हैं। स्टैनफोर्ड के जीव विज्ञानी डगलस जे मैक्कौले बताते हैं कि सेक्स के लिए ये शार्क अपने ख़तरनाक दांतों को ही हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं। कई मेल शार्क मादा का पीछा करते हैं। दल का मुखिया उसकी पूंछ पर काट लेता है। काटे जाने से मादा शार्क की रफ़्तार कम हो जाती है तो वही नर शार्क उसके पर को सीने के पास से पकड़ कर उसे रेतीली सतह पर खींच ले जाता है, जहां वह उसके साथ संभोग करता है।

7. तोहफों का आदान प्रदान (Gift Exchange)
पशुओं के संसार में तोहफों का आदान प्रदान आम बात है, खासकर खाने पीने की चीज़ें। कुछ अध्ययन ये भी बताते हैं कि पशु पक्षी ऐसे साथी चाहते हैं जो सपन्न हों। अगर वाकई ऐसा है तो इंसानों के ये फितरत जानवरों से मिलती जुलती हैं।

8 जिराफ़ मूत्र चखकर करते है साथी का फैसला (Giraffe)
जो ये सोचते हैं कि यूरोलैंगिया या गोल्डन शावर इंसानी दिमाग की उपज है वो ग़लत हैं। जिराफ़ों के सेक्स का मूत्र से सीधा संबंध है। सिर्फ़ साथी को मूत्र करते देखने, सूंघने, छूने से ज़्यादा. नर जिराफ़ मादा जिराफ़ के मूत्र को चख कर ये तय करता है कि वो उससे साथ संभोग करने लायक है या नहीं। दरअसल मिलन के लिए नर जिराफ़ मादाओं के कई झुंडों के पास जाता है। वो मादा जिराफ़ के पुट्ठों को छूता है तो मादा जिराफ़ मूत्र की धार छोड़ती है। नर जिराफ़ इसे चख कर देखता है और उसके आधार पर अपनी राय बनाता है। मादा जिराफ़ मूत्र की धार छोड़ती है। नर जिराफ़ इसे चख कर देखता है और उसके आधार पर अपनी राय बनाता है। कई बार नर जिराफ़ चुनने से पहले कई मादाओं को ‘चख’ कर देखता है। ऐसा नहीं कि हमेशा नर ही पहल करे। अगर कोई मादा जिराफ़ नर में रुचि रखती है तो वो नर के छूने का इंतज़ार नहीं करती। अपनी तरफ़ से पहल करते हुए नर के पास से गुज़रते ही वो मूत्र करना शुरू कर देती है।

9 दरियाई घोड़े (Hippopotamus)
जिराफ़ मूत्र से साथी का चुनाव करते हैं तो दरियाई घोड़ा सेक्स के लिए माहौल बनाने में गोबर का इस्तेमाल करते हैं। नर दरियाई घोड़े अपनी सीमा रेखा खींचने के लिए गोबर का छिड़काव करते हैं तो दरियाई घोड़ी सेक्स के लिए अपनी सहमति जताने के लिए। जब इलाके का कोई दरियाई घोड़ा मादा के पास जाता है तो वो घूमती है, अपना सिर नीचे और पिछवाड़ा ऊपर करती है और गोबर करते हुए पूंछ हिलाकर गोबर का छिड़काव करती है। इसे उसकी सहमति का ऐलान माना जाता है.

10. रेड फॉक्स (Red Fox)
यौन प्रक्रिया के दौरान रेड फॉक्स मादा की माँस पेशियाँ सिकुड़ जाती हैं और पेनिस एक घंटे तक हिल नहीं सकता. इस तरह दोनों एक साथ रहते हैं।

11. खरगोश (Rabbit)
खरगोशों में यौन संबंध की प्रक्रिया एक मिनट से भी कम में खत्म हो जाती है।

12. नर की होती है जिम्मेदारी
जानवरों में मादा को संभोग के लिए आकर्षित करने का काम नर का होता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इसलिए नर पशुओं या पक्षियों का शरीर काफी रंगदार होता है।

========

इन देशो में इंसान जानवरों को चुनते हैं सेक्स के लिए..

आजकल सेक्स एक आम विषय बन चूका है। जिसके बारे में सब सुनना चाहते हैं लेकिन बात कोई नहीं करना चाहता। कुछ ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने इसमें हदें पार कर दी हैं। जी हाँ कुछ ऐसे लोग भी हैं जो जानवरों के साथ सेक्स करते हैं और इनके साथ सम्बंध बनाने की खबरें आती रहती हैं। तो आईए देखते हैं आखिर कौन-कौन से देश हैं जहां लोगों को जानवरों से प्यार है, लेकिन दूसरा वाला।

* जर्मनी- यहाँ भेद के साथ किया जाता है सेक्स। और इनके साथ सेक्स करने से यहाँ के कानून को कोई दिक्कत नही है।

* दक्षिण अमेरिका- यहाँ के लोग गधों के साथ सेक्स करते हैं क्योंकि शादी के पहले सम्बंध बनाना गैरकानूनी है।

* अमेरिका – यहाँ सेक्स करने के लिए घोड़ों का इस्तेमाल होता है।

* डेनमार्क – करीब 17% लोग वहां जानवरों के साथ सेक्स करना पसंद करते हैं।

* ब्राज़ील – यहाँ के लोग भी जानवरों के साथ सेक्स करते हैं जिससे इंसानो के गुप्तांगों में कैंसर होजाता है।

* हंगरी – दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी पार्न इंडस्ट्री हंगरी में ही है. यहां के लोग जानवरों के साथ सेक्स को खुल कर दुनिया को बताते हैं।

*फ़िनलैंड – इस देश में जानवरों के साथ सेक्स एक आम बात है।

* मैक्सिको – मैक्सिको में एक ऐसा त्योहार मनाया जाता है जहां लोग अपने गधों के साथ सेक्स करते हैं।