*क्या कुंडली मिलान एक अभिशाप है*

Posted by

डॉ. मुमुक्षु वाया मुदित मिश्र विपश्यी
=================
*मित्रो जब से कंप्यूटर का चलन आया है तब से कुंडली मिलान की प्रथा हमारे जैन समाज में सबसे ज्यादा हो गई है । इससे पहले कभी भी हमारे पूर्वज कुंडली का मिलान नही करते थे ।*
*आज आप के पूर्वज या माँ बाप जिनको आप अपने जीवन में उच्चतम स्थान देते होंगे । एक बार उनकी कुंडली मिलान करके देखिएगा । मै दावे के साथ कहता हूँ 90% कि कुंडली नही मिलेगी , जब कि सबसे सफलतम परिवार वही होगा ।*

*आज आप शक्ल-सूरत,पढाई,आर्थिक स्थिति , शहर उम्र सब मिलाने के बाद कुंडली में आकर अटक जाते हो । इस कुंडली मिलान के चक्कर आप सब एक अच्छे जीवन साथी से चूक रहे है ।।*
*कहते है भगवान राम-सीता जी कुंडली सबसे अच्छी मिली थी फिर हुआ क्या 14 वर्ष वनवास और फिर महल से निकला गया ।।*
*आज समाज इतना पढा लिखा हो गया है कम से कम इस वैज्ञानिक युग में हमे इन अंधविश्वासों को दूर करके एक अच्छे जीवन साथी की तलाश करनी चाहिए न कि एक अच्छी कुंडली की ।*

*अगर आप मेरी बातों से सहमत है तो अपने बॉयोडाटा में जन्म की तारीख तो लिखे पर जन्म के समय की जगह लिखे *हम कुंडली नही मिलाते । आप सब पढ़े लिखे लोग है, इसे एक अभियान बना दे । हमारे परिवारों की आधे से ज्यादा समस्या तो यु ही हल हो जाएगी जो कुंडली के चक्कर में अटकी है ।*
——————-
*कुंडली का सच*
———————-
*एक बार बनारस में हिंदुस्तान का सबसे बड़ा ज्योतिष सम्मेलन हुआ । वँहा पर एक व्यक्ति 10 कुण्डलिया लेकर आया और उसने ज्योतिषियों के समाने कुछ प्रश्न रखे ।*
*1- इन 10 कुंडलियो में से कौन सी कुंडली लड़के की है और कौन सी लड़की की ?*
*2- इन 10 कुंडलियो के आधार पर व्यक्ति के जन्म का समय और स्थान क्या है ?*
*3- कुंडली के आधार पर कोन जैन,कोन सोनी,कोन पोरवाल, कौन सिंधी , कौन पँडित , कौन ठाकुर कौन किस जाति का है ?*
*4- इन 10 कुंडलीयो में कौन कौन सा व्यक्ति जीवित अथवा मृत है ?*
*5- इन 10 कुंडली के आधार पर कौन सा व्यक्ति शादी शुदा है और कौन कौन सा कुँवारा है ?*

*उस महा सम्मेलन में किसी भी ज्योतिषी के पास इन सवालों का जवाब नही था ।*
*मित्रो जिस कुंडली को देखकर आप आज यानी वर्तमान नही बता सकते है ,* *उन कुंडलियो के आधार पर भविष्य को देखना एक मूर्खता के अलावा कुछ भी नही है ।*
*मित्रो कुंडली मिलान के चक्कर में आप अपने बच्चो का भविष्य अन्धकार में ढकेल रहे है|

|* {साभार : डॉ. मुमुक्षु जी} ◆समीक्षार्थ◆