#खण्डवा : फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट में चलें बलात्कार के मुकद्म्मे, राष्ट्रपति के नाम दिया ज्ञापन!

Posted by

खण्डवा (इस्माईल खान/इमरान कुरैशी)| ( सोमवार शाम 7 बजे नगर निगम चौक, गांधी प्रतिमा के सामने, खण्डवा (म.प्र.) में एक सर्वधर्म मौन विरोध प्रदर्शन रखा गया था, जिसमे लगातार सामने आ रहे बलात्कार के केसों में पीड़िताओं के केसेज फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट में चलाकर जल्द से जल्द इंसाफ दिलाने एवं रेपिस्ट तथा उनके सहयोगियों दोनो के लिए फाँसी की सजा की मांग करते हुए राष्ट्रपति महोदय के नाम नायब तहसीलदार जी को ज्ञापन दिया गया, साथ ही कठुआ कांड में मृतिका मासूम 8 साला बच्ची आसिफा को श्रद्धांजलि देने के साथ ही उन्नाव, सासाराम, सूरत आदि सभी पीड़िताओं के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए अपना विरोध दर्ज करवाया गया ।

उक्त कार्यक्रम गंगा जमुनी तहजीब ग्रुप के आह्वान पर आयोजित किया गया । ग्रुप के प्रवक्ता इस्माइल खान ने बताया के समाज की गंदगी साफ करना हम सभी का कर्त्तव्य है जिससे हम बच नही सकते, कुछ लोगों की कुत्सित मानसिकता की वजह से आये दिन रेप केसेज बढ़ते ही जा रहे हैं इसमे हमे किसी भी धर्म, जाती, पार्टी या समुदाय को न देखते हुए इन सभी रेपिस्ट और उनका सहयोग या समर्थन करने वालों को फाँसी तक पहुंचाने की मांग सरकार से लोकतांत्रिक रूप से करना ही चाहिए जिस हेतु इस आयोजन को कराया गया ।

ग्रुप के संयोजक अशफाक काज़ी ने बताया कि यह कार्यक्रम पूर्णतः गैर राजनीतिक था जिसमे किसी प्रकार का शोर शराबा या नारेबाजी नही करते हुए ग्रुप के सदस्यों के साथ खण्डवा शहर के आम भारतीय जागरूक नागरिकों द्वारा समाज एवं देश के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते हुए मौन रहकर हाथो में बैनर एवं तख्तियां जिनके द्वारा बालात्कारियों एवं उनके सहयोगियों के लिए फांसी की मांग की गई थी के द्वारा अपना विरोध दर्ज कराया गया ।

उक्त कार्यक्रम में गंगा जमुनी तहजीब ग्रुप के सदस्य जिनमे शेख शकील, अशफ़ाक काज़ी, इस्माईल खान, शादाब रज़ा, इमरान कुरैशी, इरफान पठान, तोशिफ शेख, सलीम तालिब, फरीद खोकर, शेख फरहाज़, अदनान काज़ी, जुनेद खान, नासिर हुसैन, के साथ ही शहर काजी प्रतिनिधि जनाब बाबा काज़ी साहब, नेता प्रतिपक्ष अहमद पटेल, डॉ बी पी मिश्रा, प्रवीण हलदे, अचल वाघ, मंगला सोलंकी, अकरम जाटू, एड. केशव झबरे, आसिम पटेल, सुरेश गन्नोरे, राहुल वाघ, आमीन खत्री, सलीम खान, आदिल मंसूरी, दिलावर खान एवं कई गणमान्य नागरिकों के साथ ही शहर के महिला पुरुषों के साथ ही छोटी बच्चियों ने भी अपना विरोध दर्ज करवाया ।