खुशी कूलवाल आत्महत्या मामला : इन्दौर के हाईप्रोफ़ाईल रईसज़ादो और एक IAS अफसर की घृणित कहानी

Posted by

Omprakash Chouksey
============

खोजी खबर
खुशी कूलवाल आत्महत्या मामला :

(Omprakash Chouksey-9893456101)

इन्दौर के तीन बिगलैड़ रईजादो और इन्दौर मे पदस्थ एक IAS अफसर का नाम सुर्खियों में

इन्दौर। फांसी लगाकर खुदकुशी करने 

वाली खुशी कूलवाल की आत्महत्या के पीछे क्या एक आईएएस अफसर और एक प्रतिष्ठित कॉलेज “होराइज़न ओएसिस पार्क (निपानिया)” के तीन बिगडे रईसजादों का हाथ है ?

जी हां, “मीडिया”के पास ये सनसनीखेज जान

कारी है जिसके मुताबिक इन्दौर के तीन बिगड़े रईसजादों और इन्दौर के एक आईएएस अफसर ने इस महिला का भरपूर फायदा उठाया और उसे इस हद तक मानसिक या

तना दी कि उसने तंग आकर गत् “गुरुवार की रात” में खुदकुशी कर ली। लेकिन स्थानीय आरोपी आईएएस अफसर के प्रभाव के कारण पुलिस इस मसले पर कार्रवाई नहीं कर पा रही है और मामले को रफा—दफा करने में जुटी हुई है।

हमारे सूत्रों के मुताबिक इस अफसर और महि

ला का “आॅडियो” भी पुलिस के पास है लेकिन इसे पुलिस ने जारी नहीं किया गया है और ना ही इस आईएएस अफसर से अभी तक कोई पूछताछ ही की है।

इस आईएएस की शिकायत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह तक भी पहुंच चुकी है लेकिन भोपाल में अपने तगड़े संपर्कों के कारण इस अफसर की कुर्सी अभी तक बची हुई है।

दरअसल, ये आईएएस “इंदौर” के पहले “भोपाल” में तैनात थे और वहां भी इनकी रंगरेलियों के किस्से वल्लभ भवन से लेकर प्रशासनिक हलकों में आम थे।

खुशी कूलवाल-का इतिहास इस प्रकार से है सर जी,

37 साल की खुशी अपने पति “मयंक कूलवाल” से काफी तंग आ चुकी थी और दोनों ने ही एक-दूसरे से तलाक के लिए अर्जी दे रखी थी। दरअसल, खुशी कूलवाल अपने पति मयंक की कुछ आदतों से बेहद तंग थी और वो उसे छोड़कर अकेले रहने लगी थी। बताया जा रहा है कि खुशी अपने बेटे के कारण दोबारा मयंक के साथ रहने के लिए तैयार भी हो गई थी लेकिन इस बीच उसकी पति और ससुराल वालों से नहीं बनी और उसने पति के खिलाफ महिला थाने में शिकायत भी की थी।

दारुबाजी और अय्याशी के लिए बदनाम यशवंत क्लब से मिल रही जानकारी पर यकीन करे तो कुछ समय पहले खुशी की सास ने क्लब में जबरदस्त हंगामा ​किया था और कुछ महिलाओं पर खुशी को बर्बाद करने का आरोप भी लगाया था। यशवंत क्लब में बेहद चर्चित रही खुशी हाई प्रोफाइल और लेट-नाइट पार्टियां करने के लिए मशहूर थी। क्लब में ही वो इन बिगलैड रईसजादों के संपर्क में आई और इनके जाल में ऐसे उलझी की कभी बाहर निकल ही नहीं पाई।

हमें मिल रही जानकारी के मुताबिक ये रईसजादे खुशी के साथ गोवा में छुट्टियां मनाने भी गए थे और वहां की तस्वीरें और फोटो सोशल मीडिया पर भी चर्चा का विषय बने हुए है। यहां तक की हाल ही में हुए यशवंत क्लब के चुनाव में भी गोवा का वीडियो बड़ा मुद्दा भी था। इन लोगों ने बायपास पर एक निजी स्कूल को अपनी अय्याशी और शराबखोरी का अड्डा बना रखा था।

 

इन तीन रईसजादों में से एक होटल समूह से जुड़ा है और प्रशासन में काफी

 अच्छी पकड़ रखता है। वहीं दूसरा शख्स पुराने दरबार परिवार से जुड़ा है। तीसरा शख्स दिवालिया हो चुका है और बैंक ने संपत्ति की नीलामी के लिए विज्ञापन भी दिया था लेकिन जब से इस आईएएस की स्थापना शहर में हुई है तबसे इस शख्स की आर्थिक स्थिति में आश्चर्यजनक ढंग से सुधार आया है।

फिलहाल पुलिस से जुड़े एक आ​ला अधिकारी इस मामले को खुद देखने और दोषियों पर कार्रवाई की बात कह रहे हैं लेकिन इस हाई प्रोफाइस केश की ईमानदारी से जांच की जाये तो कई बड़े लोग इसमें घिरेंगे।

दरअसल, खुशी को रहने के लिए पहले एक फ्लैट दिया गया और फिर उस पर पैसे के लिए दबाव बनाया गया। पैसा ना चुकाने पर उससे कई गलत काम करवाने और लोगों को बदनाम करवाने की कोशिश भी की गई। जिसके बाद चारों तरफ से आ रहे दबाव को खुशी सहन नहीं कर पाई और उसने आत्महत्या कर ली सर जी।

=========
ताजा खबर (पार्ट-2)

Omprakash Chouksey
======

सवाल है:- भोपाल निवासी और इन्दौर मे सेवारत एक आईएएस अफसर और हाईप्रोफाईल रईसजादो के विरुद्ध मीडिया के बार-बार खुलासे-दर-खुलासे के बाबजूद इन्दौर पुलिस हाथ-पर-हाथ धरे किसके आदेश का इन्तजार (प्रकरण कायमी के लिए) कर रही हैं ?

भोपाल। गत् गुरुवार दिनांक-19 जुलाई को खुशी कूलवाल आत्महत्या मामले में इन्दौर पुलिस प्रकरण कायमी के लिए आज तक हाथ-पर-हाथ धरे किसका इन्तजार कर रही है, यह भी नहीं बता पा रही है ? जबकि मीडिया बालों के इतने खुलासे-पर-खुलासे करने के बाबजूद भोपाल निवासी और इन्दौर मे सेवारत एक IAS अफसर और तीन बिगलैड रईसजादो के विरुद्ध पूछताछ करने से अभी तक कतरा रही है, वहीं ताजा जानकारी यह आ-रही है कि:-

यशवंत क्लव की सदस्या रही खुशी कूलवाल की मौत से जुड़े हुए तीन रईसजादो और एक आईएएस अफसर के बारे मैं नई जानकारियाँ आ रही है।

सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि इन्दौर के एक फार्म हाउस पर रोजाना शराब और शबाब की पार्टियां जमती थी, और इन पार्टियों में अन्य पुरुषों के संग महिलाओं में खुशी कूलवाल भी शामिल होती थी।
पुलिस इस आत्महत्या मामले में खुशी कूलवाल के लिव-इन-पार्टनर राहुल पाटनवाला से भी पूछताछ नही कर पा रही है जो कि अहम् गवाह भी है।

विश्वसनीय स्रोत से प्राप्त जानकारी दी गई है कि इन्दौर शहर के एक प्रतिष्ठित कालेज के ये ओल्ड स्टूडेंट्स एसोसिएशन के तीनों रईसजादे लाखों रुपये छात्रों से लेकर कलेज मे एडमिशन कराने का दावा किया करते थे। इन लोगों की इस कालेज प्रिंसिपल से भी बडी. नजदीकियां भी एडमिशन ही बजह.है।

सूत्रों ने हमें बताया है कि रायपुर(छ ग) निवासी एक शराब कारोबारी का कामकाज भी इनमें से एक के पास जिम्मेदारी है।

अब लोग सवाल यह भी उठा रहे हैं कि एक आईएएस अधिकारी को शराब-माफिया से इतनी घनिष्ठता की जरूरत क्यों आन पड़ी ?

इस हाईप्रोफाईल मामले में पुलिस भी बेहद दबाव में बताई जा रही है, लेकिन कोई भी असलियत बयान करने से डर रहे हैं सर जी।

Omprakash Chouksey-9893456101