#गंगा_की सफ़ाई के लिए 112 दिन से आमरण #अनशन कर रहे डॉ जी डी अग्रवाल ऊर्फ़ स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद का निधन

Posted by

गंगा की अविरलता और निर्मलता को बनाए रखने के लिए विशेष एक्ट पास कराने की मांग को लेकर आमरण अनशन कर रहे स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद का आज दोपहर बाद एम्स ऋषिकेश में निधन हो गया। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश को स्वामी सानंद अपना शरीर दान कर गए हैं।

एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश थपलियाल ने इस बात की पुष्टि की है। डाॅक्टरों के मुताबिक कमजोरी और हार्ट अटैक से स्वामी सानंद का निधन हुआ है। बुधवार को स्वामी सांनद को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था।

Suraj Singh

@SurajSolanki
स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद (प्रो. जीडी अग्रवाल) ने आज ही ये पत्र भी लिखा.
मां गंगा द्वारा बुलाए जाने का दावा करने वाले सिर्फ भावनाओं से खेलते हैं. असल में चुनावी जुमलों के जरिए जनता को मूर्ख बनाया जाता है. दुखद.
एक गंगा प्रेमी को जान गंवानी पड़ी.

Mohammad Iqbal

@Mohdiqbal1951
अकल्पनीय परिदृश्य है. हमारे धार्मिक ग्रंथों में उल्लेखित पवित्र गंगा नदी की निर्मलता के लिए स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद ने अपने प्राण अर्पित कर दिए. इसे विडंबना ही कहना अपेक्षित होगा कि यह दुखद घटना उस धरा पर घटित हुई, जहां आकर देश के प्रधान सेवक स्वयं को गंगा पुत्र घोषित करते हैं.

Nikunj Gangwar

@NikunjGangwar
#गंगा_नदी की सफाई के लिए 112 दिन से आमरण #अनशन कर रहे डॉ जी डी अग्रवाल जी (स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद जी) की आज मृत्यु हो गयी है। वे आईआईटी के पूर्व प्रोफेसर थे। उनको हमारी श्रद्धांजलि जो उन्होंने इतने महान कार्य के लिए अपने प्राण अर्पित कर दिए हैं।

लगातार कई महीनो से अनशन पर बैठे स्वामी सांनद ने मंगलवार को जल भी त्याग दिया था। स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद 22 जून से गंगा के लिए कानून बनाने की मांग को लेकर अनशनरत थे।

स्वामी सानंद के निधन के आहत और गुस्साए मातृ सदन के संस्थापक स्वामी शिवानंद ने आरोप लगाया है कि सांनद की हत्या हुई है। उन्होंने कहा कि बुधवार को सानंद को एम्स ले जाते वक्त मैंने कहा था कि वहां उनको मार दिया जाएगा और वैसा ही हुआ। वहीं ब्रहृचारिणी विभा दीदी ने कहा है कि स्वामी सानंद ने गंगा के लिए जान दी है।

जबरन स्वामी सानंद को उठाकर एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया था
बता दें कि सांसद रमेश पोखरियाल निशंक से वार्ता विफल होने के बाद मंगलवार को उन्होंने जल भी त्याग दिया था। बुधवार को पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार दोपहर 12:30 बजे पुलिस बल मातृसदन पहुंचा था।

इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट और कनखल सीओ मातृसदन पहुंचे और आश्रम में धारा 144 लगाए जाने की बात कही। इस पर स्वामी शिवानंद भड़क गए और आश्रम में धारा 144 लगाना नियमों के विरुद्ध बताया। इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट ने स्वामी शिवानंद से सानंद को ले जाने की अनुमति मांगी। सिटी

मजिस्ट्रेट के आग्रह को स्वामी शिवानंद मान गए। मगर स्वामी सानंद ने जाने से इनकार कर दिया था। इसपर सिटी मजिस्ट्रेट सहित पुलिस बल ने जबरन स्वामी सानंद को उठाकर एंबुलेंस में बैठाकर एम्स ऋषिकेश में भर्ती करा दिया था।


स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद उर्फ प्रोफेसर जीडी अग्रवाल ने गंगा रक्षा के लिए अपनी तरफ से तैयार ड्राफ्ट के आधार पर एक्ट बनाने के लिए केंद्र सरकार को नौ अक्तूबर तक का समय दिया था। मांग पूरी न होने पर वह दस अक्तूबर से जल त्यागकर अनशन पर बैठ गए थे।

स्वामी सानंद ने 13 जून को प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था, लेकिन पत्र का कोई जवाब न आने पर वह 22 जून को अनशन पर बैठ गए थे। कुछ दिनों बाद प्रशासन ने उन्हें जबरन उठाकर एम्स में भर्ती कराया था।

कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद उन्हें वापस मातृसदन छोड़ा गया था। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने मातृसदन में स्वामी सानंद ने मिलकर अनशन समाप्त करने की अपील की थी। इस बीच उन्हें कई बार एम्स में भर्ती कराया गया, लेकिन स्वामी ने अनशन नहीं तोड़ा।