छत्तीसगढ़ चुनाव : कांग्रेस पार्टी ने रमन सिंह के ख़िलाफ़ अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला को उतारा

Posted by

कांग्रेस पार्टी ने छत्तीसगढ़ में ज़बरदस्त वार किया है, बीजेपी के पास इसकी कोई काट भी नहीं है, चुनावी सर्वे में बीजेपी वैसे ही तीनों बड़े राज्यों में कांग्रेस से पिछड़ती नज़र आ रही है, जानकारों के मुताबिक छत्तीसगढ़ में दोनों पार्टियों के बीच कांटे की टक्कर होगी लेकिन फिलहाल कांग्रेस ने बीजेपी को मुश्किल में डाल दिया है|

चर्चा थी कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री रमन सिंह के खिलाफ राजनांदगांव में कांग्रेस की तरफ से चुनाव कौन लड़ेगा? लेकिन चर्चाओं पर विराम लगाते हुए कांग्रेस ने अपनी दूसरी सूची जारी कर दी है, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला को राजनांदगांव से टिकट दे दिया गया है। सूची से साफ है कि चुनाव मैदान में रमन सिंह के सामने करुणा शुक्ला होंगी। पिछले दिनों ये चर्चा चली थी कि पूर्व मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा सीएम के खिलाफ मैदान में हो सकते हैं। फिर नाम ताम्रध्वज साहू का भी आया।

दरअसल, कांग्रेस चाह रही थी कि मुख्यमंत्री रमन सिंह के खिलाफ कोई बड़ा नाम उतारा जाए। किसी भी कांग्रेस नेता में रमन सिंह के खिलाफ उतरने का साहस नहीं दिख रहा था। लिहाजा अपने अस्तित्व को बरकरार रखने के लिए कांग्रेस का कोई बड़ा चेहरा हामी भरने को तैयार नहीं था। दूसरी तरफ करुणा शुक्ला के लिए फिलहाल उनकी पसंदीदा जगहों में गुंजाइश बनती भी नहीं दिख रही थी।

कौन हैं करुणा शुक्ला?

करुणा शुक्ला पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की भतीजी हैं, कांग्रेस में शामिल होने से पहले वह छत्तीसगढ़ से बीजेपी सांसद रह चुकी हैं। बाद में उपेक्षा का आरोप लगाकर करुणा ने अपना पाला बदला और कांग्रेस में शामिल हो गईं। करुणा शुक्ला के राजनीतिक करियर की बात की जाए तो 1993 में पहली बार विधानसभा सदस्य चुनी गई। 2004 में जांजगीर सीट से जीत दर्ज कराई थी। उसके बाद 2009 के लोकसभा चुनाव में चरणदास महंत से हार गई थीं। भाजपा में रहते हुए करुणा शुक्ला कई महत्वपूर्ण पदों पर रही हैं।