मथुरा के शंकर लाल चतुर्वेदी ने बताया बाबा राम देव उर्फ छोटा वीरप्पन का सत्य!

Posted by

दिन का समय था पंडाल में लाखों लोगों की भीड़ थी, सामने बहुत बड़ा मंच था, मंच पर अनेक लोग भाषण देने के लिए बैठे थे,,,,यह काला धन के लिए दिल्ली के राम लीला मैदान में धर्मगुरु/योगगुरु/वयव्सायी/पूंजीपति लाला राम देव के कार्यक्रम का नज़ार था,,,सीन बदला,,,पुलिस पहुंची,,,मंच पर बैठा राम देव घबरा गया, इधर उधर देखा,,,मंच से छलांग लगा दी,,,और बाबा ग़ायब हो गया,,,अगला सीन,,,बाबा शलवार/जंपपर पहन कर मीडिया के सामने थे, चेहरे पर खौफ था, जैसे कहीं बंद कर के ‘कान की जड़’ में थपड़याई की गयी हो, बाबा की लीला बाबा जाने, हमें तो बस इन्तिज़ार है कि या तो खुद बाबा या फिर भारत की कोई एजेंसी ये खुलासा करे कि ‘वह शलवार’ जो बाबा पहन कर भागा था किस की थी|

आप के पास काम नहीं है, परेशान न हों, आप के पास रोज़गार नहीं है परेशान न हों, आप के यहाँ पानी नहीं आता है, परेशान न हों, इलाज का कोई बंदोबस्त नहीं है, परेशान न हों,,,,हर तकलीफ, समस्या का इलाज है ‘धर्म’, पोलिटिकल फिलॉसफर जे.एस.मिल के अनुसार ‘कोई भी वयक्ति धर्म के नाम पर अपना सब कुछ लगा सकता है’,,,जहाँ धर्म का और राजनीती का मिक्सचर बन जाता है तो वह ‘शहद और ज़हर’ के मिलने जैसा होता है,,शहद कोई फायदा करे न करे ज़हर अपना काम ज़रूर करता है,,,ऐसे समाज, देश जहाँ की सामाजिक वयवस्था कानून की जगह ‘आस्था’ ‘भक्ति’ ‘परम्परा’ आदि के दम पर कायम की जाती हैं वह देश और वहां का समाज खोखले आडम्बरों को अपना लेते हैं और तरक्की के रस्ते बंद कर लेते हैं, पाप की भी पुण्य समझ कर करते हैं, अच्छे और सच्चे, ईमानदार लोगों को अपराधियों के जैसा समझा जाता है, पाप का राज ‘रावण राज’ के रूप में सामने आता है, जिसमे रावण के योद्धा अपने घोर पापों पर प्राश्चित न कर खुश होते हैं,,,ललकारते हैं,,,और अंत में सब काल के गाल में समां जाते हैं,,,,,समुद्र मंथन में निकला अमृत पीने के बाद भी आज वह दैत्य कहीं नज़र नहीं आते, वह तो अमृतपान करने के बाद अमर हो गए थे,,,,नहीं,,,जो है, वही सच है,,,कि जब कुछ नहीं था तो खुदा था और जब कुछ न होगा तो खुदा होगा,,,,बेईमानी, मक्कारी, चालाकी, होशियारी, हेराफेरी कर जो कहते/सोचते हैं कि हमरे पास ‘सब कुछ है’,,,असल में वह अँधेरे में पड़े लोग हैं,,,’जिनकी अक्लों पर परदे पड़े हुए है, और वह देख नहीं सकते,,,,एक चिंघाड़ का होना होगा और ये ज़मीन, ये आसमान, ये समंदर, ये पहाड़, दरिया,,,सब ख़त्म हो जायेगा,,,हिसाब के दिन वह लोग घाटे में होंगे जिन्होंने दूसरों के हक़ मारे, दबाये हैं,,,,कोई अमल कोई भी अमल हक़तल्फ़ी से ज़यादा हौलनाक नहीं होता,,,,उस दिन किसी की सिफारिश काम नहीं आएगी, इंसान के कर्म खुद गवाही देंगे,,,हम कितने हिम्मतवर, बहादुर हैं ये इंसान अपने आप को देखा कर अंदाज़ा लगाये,,,लाखों की भीड़, दिन का समय, CCTV कैमरे,,,,और मंच से कूद कर भाग जाये,,,जब सामने आये तो चेहरे पर हवाईयां उडी हुई, जिस्म पर धोती लंगोटी की जगह किसी महिला की ‘शलवार – जम्पर’,,,क्या रक्खा है ऐसे मिस्टर इंडिया में,,,,जो चन्दन घिस कर माथे पर लगते हैं और चन्दन की तस्करी करते पकडे जाते हैं,,,धिक्कार है तुम पर,,,धिक्कार है तुम्हारे जीवन पर,,,धिक्कार,,,,रामलीला में मैंने रावण का पथ किया था उसका एक वाक्य ऐसे पाखंडियों के लिए,,,हे क़ायर कुबुद्ध, दूर होजा मेरी नज़रों से, उनको को ही सीख सिखा अपनी जा मिल जा तपसी बच्चों से’,,,रावण का अहंकार, घमंड ऐसा बना देता है जहाँ वह बुराई को बुराई नहीं समझता है और अच्छों को बुरा साबित करता है,,,,परवेज़ ख़ान

======================
लाला रामदेव की चीन भेजी जा रही 50 टन चंदन कि लकड़ी हुई जब्त

ये महान देश भारत की सच्चाई है जहाँ ”हर शाख़ पे उल्लू बैठा है”,,,शाखों/कुर्सियों पर बैठे उल्लू जनता को उल्लू बनाते हैं और अपने स्वार्थों की पूर्ति करते हैं, जो जितना बड़ा अमीर/धर्माधिकारी का उतना ही बड़ा पापी है, धर्म के नाम पर पाखंड भारत में खूब प्रचलित है, अब यह बड़ा उद्योग बन चुका है, राजनीती और पकडहंदी बाबाओं के गठजोड़ की दास्तां के रूप में कभी आसाराम के कारनामे सामने आते हैं, कभी बाबा गुरमीत कई, कबि श्री श्री रविशंकर के तो कभी उद्योगपति, धर्मगुरु, योगगुरु, समाजसेवी, देशभक्त, राष्ट्रवादी बाबा राम देव के,, बाबा रामदेव की राजनीती में ऊपर तक पकड़ है, देश के प्रधानसेवक, राज्यों के मुख्यमंत्री उनके चरणों में झुकते हैं, छोटे अधिकारीयों, नेताओं की अब क्या हैसियत है उन के आगे समझा जा सकता है, इन को Z+ सुरक्षा मिली हुई है|

देश के जाने माने रामकृष्ण यादव भारतीय योग-गुरु हैं, जिन्हें अधिकांश लोग बाबा रामदेव के नाम से जानते है जिनकी कंपनी पतंजलि आयुर्वेद से चीन भेजी जा रही 50 टन लाल चंदन की लकड़ी को डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) के कब्जे से छुड़ाने के लिए बाबा रामदेव की दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे।
हिंदी वेबसाइट इकॉनोमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक, यह लकड़ी DRI और कस्टम्स डिपार्टमेंट ने जब्त की थी. सरकारी एजेंसियों को शक था कि खेप में बेहतर क्वॉलिटी की ए और बी ग्रेड की लकड़ी है. जबकि पतंजलि का कहना है कि यह लकड़ी सी ग्रेड की है ,जिसे एक्सपोर्ट करने की इजाजत है।

पतंजलि की ओर से बताया गया है कि APFDCL ने इन सभी चीजों की जांच भी की है। पतंजलि ग्रुप के प्रवक्ता ने कहा कि यह विरोधियों की साजिश का नतीजा हो सकता है। संस्था ने कहा, “कुछ भ्रामक और झूठी सूचनाएं कुछ निहित स्वार्थ वाले तत्वों द्वारा दिए जाने की वजह से यह जांच हुई है।

ग्रुप ने कहा कि कहीं भी ए या बी कैटेगरी की लकड़ियों के एक्सपोर्ट का सवाल नहीं है। जांच एजेंसी ने कहा है कि पूरी जांच होने तक पतंजलि इन सामानों को एक्सपोर्ट नहीं कर सकती है। वहीं, पतंजलि समूह ने दिल्ली हाईकोर्ट से दरख्वास्त की है कि जब्त लकड़ियों को रिलीज किया जाए।

आप को बता दें कि पतंजलि कंपनी ने ये चंदन की लकड़ियां आंध्र प्रदेश वन विभाग द्वारा की गई एक नीलामी में खरीदी थी। भारत से बेहतरीन क्वालिटी की चंदन लकड़ियों का निर्यात प्रतिबंधित है। हालांकि, सामान्य किस्म की लकड़ियों को बाहर भेजा जा सकता है। चीन चंदन की लकड़ियों का सबसे बड़ा खरीददार है।

अंग्रेज़ी पत्रकार प्रियंका पाठक का ख़ुलासा,,,,,आसाराम और रामरहीम का बाप है रामदेव

==============

भारत में चमत्कारी, कारोबारी बाबाओं भरमार है, यह बाबा लोग कहने को तो अपने आप को अध्यात्मगुरु, धर्मगुरु, सदाचारी, ब्रह्मचारी बताते हैं मगर इनके अपने काम धंधे होते किसी माफिया, डॉन जैसे हैं, कोई बाबा समोसा खिला कर लड़का पैदा करने का दावा करता है तो कोई चूरन बेचकर अरबपति बन जाता है, बाबाओं पर सरकारें बड़ी मेहरबान रहती हैं, इन को करोड़ों रूपए की छूट मिलती है, इनको Z+ सुरक्षा मिल जाती है, आम आदमी धक्के खता है और यह बाबा लोग अपने आडम्बर से रचे मायाजाल के बल पर राज करते हैं, ये तथाकथित बाबा जब पकडे जाते हैं तब इन को असलियत सामने आती है उससे पहले तो देश के बड़े बड़े नेता इन के चरण छूते हैं आशीर्वाद लेते हैं| पोल खुलने पर पता चलता है कि बाबाओं का किसी माफिया के जैसा गैंग है, हवाला, तस्करी, हत्या, आतंकवाद से इन के सम्बन्ध निकलते हैं, अभी तक पकडे गए सभी बाबा नम्बरी हरामी टाइप के सामने आये हैं, अयाशी करना इन की फितरत में होता है|

बाबा गुरमीत राम रहीम, महान संत आसाराम बापू, श्री श्री रविशंकर, निर्मल बाबा, दाती महराज, बाबा भीमानंद, बाबा नित्यानंद, स्वामी चिन्यानंद, बाबा रामदेव आदि आदि भारत के चर्चित धर्मगुरु, अध्यात्मगुरु हैं, इन सभी का जीवन रहस्मयी कहानियों से भरा हुआ है|

देखें बाबा रामदेव के सम्बद्ध में अंग्रेज़ी पत्रकार प्रियंका पाठक का ये ख़ुलासा

==================
अंग्रेजी पत्रकार प्रियंका पाठक नारायण पिछले कुछ सालो से बाबा रामदेव पर स्टडी कर रही है प्रियंका पाठक ने करीब 6 साल की कठोर मेहनत से बाबा रामदेव पर रिसर्च करती रही और उसपर एक बुक लिखी है जिसका नाम है ‘गॉडमैन टू टाइकून’ । इस बुक में बाबा रामदेव के फर्श से शीर्ष तक के सफर को बड़े ही सहज तरिके से बताया है प्रियंका पाठक के अनुसार यह सब इनफार्मेशन उसने बाबा रामदेव के आसपास व उसके निजी रहे लोगो से ली है |
प्रियंका पाठक ने अपनी बुक में बाबा के खिलाफ ऐसे रहस्यों से पर्दा उढ़ाया है जो बाबा के समर्थकों को शायद गवारा नहीं होगा लेकिन एक बार निष्पक्ष होकर यदि सोचेंगे तो शायद पाठक की बातो पर आप विश्वास करेंगे ।

प्रियंका पाठक के अनुसार बाबा रामदेव के गुरु शंकर देव एक दिन सुबह की सैर के वक्त से गायब है या हो गए । आपको बता दे की गुरु शंकर देव वही शख्स है जिन्होंने ही हरिद्वार में बाबा रामदेव को दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट और अपनी अरबों रूपए की ज़मीने दान की ।

लगातार कई साल से बाबा रामदेव पर स्टडी कर रही प्रियंका पाठक ने इस किताब में बाबा के कई भेद खोलें हैं उसके अनुसार यह एक इत्तफाक था या साजिस का हिस्सा , आखिर बाबा रामदेव ने जिससे भी कुछ गुर सीखा वह कुछ समय बाद क्यों एक रहस्मयी मौत का शिकार हो गया ।
जब गुरु शंकर देव रहस्मयी तरीके से गायब हुए तो बाबा रामदेव उस वक्त जुलाई 2007 में ब्रिटेन यात्रा पर थे अपने प्रमुख गुरु के लापता होने के बाद भी रामदेव ने अपने ब्रिटेन यात्रा चालू रखी और गायब होने के दो महीने बाबा रामदेव भारत वापिस लौटे ।

बाबा रामदेव के एक ओर गुरु व मित्र आयुर्वेद के जाने माने वैद्य स्वामी योगानंद की हत्या भी कम रहस्मयी नहीं है 1995 में स्वामी योगानंद ने ही बाबा रामदेव को आयुर्वेद दवा बनाने का लाइसेंस उपलब्ध कराया था या यह कहे की आयुर्वेद की दुनिया में स्वामी योगानंद की छाव में ही बाबा रामदेव ने चलना सीखा था । अगले 8 सालो तक बाबा रामदेव ने स्वामी योगानंद के लाइसेंस पर दवाइया बनाता रहा लेकिन 2003 में बाबा रामदेव ने स्वामी योगानंद के साथ अपनी साझेदारी ख़त्म कर ली और कुछ ही महीने बाद स्वामी योगानंद का शरीर खून से लथपथ उसके ही घर में मिला । कुछ समय बाद 2005 में हत्या की छानबीन बंद कर दी ।

मार्च 2005 ट्रस्ट के व्यवसायीकरण को लेकर बाबा रामदेव का विवाद कर्मवीर से हो गया था कर्मवीर उस समय दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट के उपाध्यक्ष थे इसके बाद कर्मवीर ने हमेसा के लिए ट्रस्ट को अलविदा कह दिया ।

इसी तरह कुछ समय बाद सन 2009 में में बाबा रामदेव का का विवाद आस्था टीवी के संस्थापक सदस्य किरीट मेहता से हुआ मेहता के प्रयास और मेहनत से ही बाबा रामदेव को आस्था टीवी के ज़रिये ही अपना नाम कमाया और लोगो में पॉपुलर हुए । किरीट मेहता ने तो बाबा के खिलाफ अपहरण का केस भी दर्ज करवा दिया था।

राजीव दीक्षित, जिसके स्वदेशी अभियान पर आज पतंजलि का सम्पूर्ण करोबार चल रहा है 2010 में राजीव दीक्षित लोगो को सम्बोधित करने गए , उस वक्त बाथरूम में उनकी लाश मिली लेकिन अगर उस वक्त मरने के उपरांत उनका पोस्टमार्डर होता तो शायद उसकी मौत के रहस्य से पर्दा उठ जाता लेकिन उसकी मौत के तुरंत बाद राजीव दीक्षित के पार्थिव शरीर को बाबा के आश्रम में लाया गया व उसके शरीर को अग्नि देने में बहुत ही ज्यादा जल्दबाजी की गई और लोगो को कहा गया की उनकी मौत हार्ट अटैक से हुई है लेकिन राजीव दीक्षित की शव यात्रा में शामिल लोगो के अनुसार राजीव दीक्षित के होठो का रंग नीला पड़ने लगा था । अक्सर ऐसा शरीर, जहर के होने से होता है ।

और भी ऐसे हादसों से पर्दा उठाना बाकि हो सकता है जो बाबा रामदेव की सफलता का राज है
आपकी नजर में क्या बाबा रामदेव के नजदीकी रहे लोगो के साथ ये हादसे एक इतिफाक है या सोची समझी साजिश । कमेंट बॉक्स में अपने विचार जरूर लिखे ।

देखें वीडियो

==========

 

================
देखें कुछ लोगों के ट्वीट
*******************
Ravish Kumar‏
@Ravishtweets_
Follow Follow @Ravishtweets_
———————
चंदन की तस्करी तो विरप्पान खुले आम करता था लेकिन ये रामदेव बाबा साधु के लिबास मे कर रहा है;
“सलवार के लिबास मे राजनिती और साधु के लिबास मे चोरी”

Shishu Manav
‏———————

@ShishuManav12

Replying to @Ravishtweets_
एक बात समझ में नहीं आयी! बाबा की चीन को चंदन भेजने वाली खबर को मीडिया ने महत्व क्यों नहीं दिया! खबर रोचक थी! स्वदेशी का नारा दे रहे लाला राम के विदेशी कारोबार की कलई खोलने वाली थी! अफसोस पतंजलि हगनावटी की डिब्बी बंद की बंद रह गयी!

rameshkumar
‏———————

@2800Rk
Feb 24
More
Replying to @Ravishtweets_
सारे चोर लूटने मे तन मन धन से लगे है।
जो पकड़ जाय थोड़ा। हलला होगा
मिडिया चोर दबा देगी।

Shishu Manav
‏———————

@ShishuManav12

Replying to @Ravishtweets_
इस ढ़ोगी को देखते ही मेरा पारा हाई हो जाता है! अभी हाल के बैंक घोटाले को दृष्टिगत रख इसकी जांच के लिये मोदी जी व सीएम को सीधा ट्वीट किया है! अब देखना है इस सलवारी बाबा की लवार के नीचे भ्रष्टाचार का कितना बड़ा खंजाट फैला है! इनके भी बैंक से करोड़ों के लेनदेन की निष्पक्ष जांच हो?

rajiv sinha
‏———————

@rajivsi99211630

Replying to @Ravishtweets_
योग के नाम पर देश बेच देगा ई साधु रूपी डकैत…..

Adityrajsurya
‏———————

@Adityrajsurya1

Replying to @Ravishtweets_
So good sir kiya bta kahi hae nice so happi

vijay

———————
@Vjsin67

Replying to @Ravishtweets_
वेलकम मूवी जैसा लग रहा है माहौल।

केन्द्र मे उदय शेट्टी…
UP मे मजनू भाई….
अमेरिका मे RDX सर!

और दिल्ली में डॉक्टर घुंघरू

Sandip_ghaghada

———————
@GhaghadaSandip

Replying to @Ravishtweets_
Right sir

Pramod Thakur
‏———————

@PramodT86160471

Replying to @Ravishtweets_
अंग्रेजों ने जाते समय कहा था, इंडिया को गुलामी में आदत है, ये इससे उबर नही पायेगा। आज के परिदृश्य में या आने वाले दिनों में सुधार की कोई गुंजाइश नही है। 99% लोगों को 70 साल बाद भी गुलामी में जीना इस बात का पक्का प्रमाण है। बाकी सब बकबास है।

मिर्ची है .. कहीं तो लगेगी

@MohdAkr96930697
———————
Replying to @Ravishtweets_
श्री राम चंद्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आऐगा
एक सन्यासी बैठेगा सिंहासन पे दूजा तस्कर बन जाऐगा

Shaukat Ansari
‏———————

@Shaukataindia

Replying to @Ravishtweets_
#बाबारामदेव, आसाराम,राम रहिम,बिरेन्द्रदेव,
सबका बाप निकला पाखंडी#रामदेव, अपने को
राष्टभक्त कहता हैं…चोरी चोरी चंदन लकड़ी चाईना भेजता हैं. इघर देश मे घोटाले पे घोटाले
हो रहा हैं, ये ढ़ोंगी #रामदेव 50 टन चंदन चाईना भेजते हुऐं पकड़ा गया।

Manas Mukherjee

———————
@ManasMu89305398

Replying to @Ravishtweets_
This is shocking if true then take action according to law !

Zaffiruddin F Kazi

———————
@KaziZaffiruddin

Replying to @Ravishtweets_
Is par koi debate nhi hoga…

Veer
‏———————

@VeEr80416444

Replying to @Ravishtweets_
बाबा रामदेव कहते हैकि @ योग से सभी रोगों का इलाज किया जा सकता है

“तो ये दवाईयां क्यों बनाते है। “

इनकी बात कर रहे होT

C P Ashok
‏———————

@CPAshok2

Replying to @Ravishtweets_
I don’t agree…..If Ramdeo can be blamed then what MNCs doing……

Mehboob Bakkar
‏———————

@BakkarMehboob

Replying to @Ravishtweets_
रामदेव योजना के मुताबिक अपने फायदे के लिए चंदन का विवाद खड़ा करना चाहते हैं

Naseem Arshad
———————
@NaseemArshad10

Replying to @Ravishtweets_
मेरा भारत महान
चाहे 100 मे से 99 बेईमान

=========
मथुरा के शंकर लाल चतुर्वेदी ने बताया बाबा राम देव का सत्य

Maninder Singh Manchala
================
मथुरा के शंकर लाल चतुर्वेदी का बड़ा खुलासा रामदेव ने क्या-क्या किया इस बारे में दे रहे बयान।
वट्सप पर तेजी से फैल रहा है यह वीडियो, सूत्रों के द्वारा चतुर्वेदी जी ने बताया बाबा राम देव का सत्य।
वीडियो जरुर देखें शेयर भी करें।
मथुरा से शंकर लाल चतुर्वेदी