जब इराक़ में अमरीकी सपना चकनाचूर हो गया

Posted by

इराक़ के शीया धर्मगुरु और साएरून गठबंधन के प्रमुख मुक़तदा सद्र ने कूफ़ा में इराक़ के फ़त्ह गठबंधन के प्रमुख हादी अलआमेरी से मुलाक़ात की और संसद में बड़ा गठबंधन बनाने के विषय पर आरंभिक सहमति बन गयी।

इराक़ में अमरीकी सैनिकों के हस्तक्षेप और उपस्थित के सबसे बड़े विरोधी के रूप में मुक़तदा सद्र और प्रतिरोध के मोर्चे में सबसे आगे स्वयं सेवी बल के वरिष्ठ कमान्डर हादी हामेरी के बीच निकटता और संबंध से गुरुवार को इराक़ में अमरीका का कई महीनों पुराना सपना चकनाचूर हो गया और इराक़ी चुनाव के हवाले से उसे सारे समीकरणों पर पानी फिर गया।

गुरुवार को होने वाली बैठक का परिणाम यद्यपि अभी तक औपचारिक रूप से घोषित नहीं किय गया है किन्तु फ़त्ह और साएरून गठबंधन के निकटतम सूत्रों ने अनुमान लगाया है कि शनिवार को दोनों नेताओं की फिर से महत्वपूर्ण बैठक हो सकती है जिसमें संसद सभापति, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के चयन का फ़ैसला होगा।

कुछ टीकाकारों का मानना है कि इराक़ विशेषकर दक्षिणी क्षेत्र बसरा के आर्थिक मुद्दों की सुनवाई की आवश्यकता के दृष्टिगत इस बात की संभावना है कि देश का प्रधानमंत्री कोई नया चेहरा ही हो सकता है।