जर्मनी के मुसलमान फ़ुटबाल खिलाड़ी ओज़िल का फासीवाद के मूँह पर ज़ोरदार तमाचा

Posted by

तुर्की के न्याय मंत्री अब्दुल हमीद गुल ने जर्मनी के बेहतरीन फ़ुटबाल खिलाड़ी मेसूत ओज़िल के जर्मन नेश्नल टीम से रिटायरमेंट के फ़ैसले को फासीवाद के वायरस के ख़िलाफ़ एक शानदार गोल बताया है।

29 वर्षीय ओज़िल ने रविवार को जर्मन फ़ुटबाल फ़ेडरेशन के अधिकारियों पर नस्लवाद और भेदभाव का आरोप लगाते हुए रिटायरमेंट का एलान कर दिया था।

तुर्क मूल के इस खिलाड़ी का कहना है कि मई में जब से उनकी मुलाक़ात तुर्क राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोगान से हुए है, जर्मनी में उनके साथ अपमानजनक व्यवहार किया जा रहा था।

दुनिया के बेहतरीन मिडफ़ील्डरों में गिने जाने वाले ओज़िल का कहना है कि जब भी किसी मैच में वे गोल करते थे और टीम मैच जीत जाती थी तो उनकी चारो ओर बहुत प्रशंसा होती थी, लेकिन जब भी टीम मैच हारती है तो उनका तुर्क कहकर अपमान किया जाता था।

सोमवार को तुर्क न्याय मंत्री ने उनके इस फ़ैसले का समर्थन किया और उनके फ़ैसले को फासीवाद के ख़िलाफ़ शानदार गोल बताया।

उनका कहना था कि मैं ओज़िल को मुबारकबाद देता हूं, जो अपमान के सामने नहीं झुके और जर्मन नेश्नल टीम को छोड़ दिया और फासीवाद के ख़िलाफ़ एक बेहतरीन गोल दाग़ दिया।