ताजमहल इस्लामी तहज़ीब की पहचान नहीं है..दम है तो अपनी तारीख़ लिखकर दिखाओ!

ताजमहल इस्लामी तहज़ीब की पहचान नहीं है..दम है तो अपनी तारीख़ लिखकर दिखाओ!

Posted by

Muhammad Shaheen via Khan Junaidullah
————————

ताजमहल इस्लामी तहज़ीब की पहचान नहीं है यह इस्लाम के अन्दर घुसपैठ कर चुके फितने की पहचान है जिसका नाम राफज़ियत है यह फितना हुमायूँ की ईरान से भारत वापसी पर साथ आया, अकबरे आज़म की हुकूमत में परवान चढ़ा और जहांगीर की हुकुमत में फला फूला, शाहजहाँ की हुकूमत में इस फितने का ज़हूर ताजमहल की सूरत में मंज़रे आम हुआ, फिर शहंशाह आलमगीर औरंगज़ेब रह0 ने इस फितने की सरकोबी की, हिन्दुस्तान की अवाम की अमानत शाही खज़ाने की फिजूलखर्ची में बरबादी करने की सज़ा हज़रत आलमगीर औरंगज़ेब रह0 ने अपने बाप शाहजहाँ को आठ साल की नज़रबंदी की शक्ल में दी और इसी नज़रबंदी में शाहजहाँ की मौत हुई..!!

अगर इस्लामी तहज़ीब की अलामत देखनी हैं तो मुहम्मद बिन क़ासिम की दरियादिली में देखिये, महमूद ग़ज़नवी की शुजाअत में देखिये, एक गुलाम के सुल्तान कुतुबुद्दीन बनने के सफर में देखिये, सुल्तान इल्तुतमिश की इबादत गुज़ारी में देखिए, ग़यासुद्दीन बलबन की दिलेरी में देखिये, अलाउद्दीन खिलजी के राजकाज में देखिये, मौहम्मद शाह तुग़लक की मेहमान नवाज़ी में देखिये, और असली हक़ीक़ी मुग़ल ए आज़म शहंशाह आलमगीर औरंगज़ेब रह0 की बावन साला अदल औ इंसाफ की हुकूमत में देखिये..!!

इमारतों में इस्लामी तहज़ीब देखना चाहते हैं तो कुतुबमीनार में मिलेगी, हौज़े शम्सी में मिलेगी, तुगलकाबाद के भारी भरकम किले में मिलेगी, पुराने किले में मिलेगी, सीरो फोर्ट और फिरोजशाह कोटला में मिलेगी, कलकत्ता से पेशावर ग्रैंड ट्रंक रोड में मिलेगी, बुलन्द दरवाज़े में मिलेगी, लालकिला और जामा मस्जिद में मिलेगी,

नवाब सिराजुद्दौला और सुल्तान टीपू की शहादत में मिलेगी, शाह इस्माईल देहेलवी की शहादत में मिलेगी, 1857 के जिहादे हुर्रियत में फांसी के फंदे चूमने वाले लाखों उलेमा की दास्तानों में मिलेगी, सेल्यूलर जेल की खामोश दीवारों में मिलेगी, जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन के नीचे दफन अकबरी मस्जिद की बुनियादों में मिलेगी..!!

इस सरज़मीने हिन्द औ पाक का ज़र्रा ज़र्रा इस्लामी तहज़ीब की गवाही दे रहा है नाम बदल देने से इस तहज़ीब के नक्शो निगार को मिटाना नामुमकिन है एक हज़ार साल की तारीख को किताबों के पन्नों से खुरच कर मिटाने वालों… दम है तो अपनी तारीख लिखकर दिखाओ