तेल का खेल, अब दुनिया को जंग में झोंकेंगे ट्रंप?

Posted by

Sagar_parvez
==================
शीत युद्ध के बाद पहली बार अमेरिका और रूस आमने-सामने हैं. अगर रूस ने सीरिया पर अमेरिकी हमले का जवाब दिया तो समझ लीजिए कि दुनिया एक बार फिर से तबाही के कगार पर खड़ी हो जाएगी.

एक तरफ हैं डोनाल्ड ट्रप तो दूसरी ओर ब्लादिमीर पुतिन. जैसे-जैसे दिन बीत रहे हैं दोनों के रिश्ते बेहद तल्ख होते जा रहे हैं, तो क्या ट्रंप पूरी दुनिया को जंग में झोंकने का मन बना चुके हैं? क्या ट्रंप तीसरे विश्व युद्ध का ब्लूप्रिंट तैयार कर रहे हैं?

दूसरे विश्व युद्ध के बाद ऐसे बदले हालात
दूसरे विश्व युद्ध में अमेरिका और सोवियत संघ ने मिलकर धुरी राष्ट्रों को धूल चटाई थी. लेकिन दूसरे वर्ल्ड वार के बाद हालात बदले और दोनों देश महाशक्ति बनने का सपना संजोए हथियारों की होड़ में लग गए, फिर शुरुआत हुई शीत युद्ध की. सोवियत संघ और अमेरिका के बीच मतभेद तो थे लेकिन दोनों सालों तक आमने-सामने नहीं आए.

इस अमेरिकी कदम से बिफर उठा था रूस
सितंबर 1962 में क्यूबा संकट की वजह से तीसरे विश्व युद्ध की आहट जरूर सुनाई देने लगी.अमेरिका क्यूबा आने वाली जहाजों पर पैनी नजर रखी जाने लगी. रूस बिफर गया और परमाणु पनडुब्बी क्यूबा के लिए रवाना कर दिए. अमेरिकी युद्धपोत और रूसी पनडुब्बी आमने-सामने हो गए. लेकिन राष्ट्रपति के दबाव में युद्ध टल गया.

तेल का खेल
उस वक्त युद्ध तो टल गया लेकिन रूस और अमेरिका के बीच तनाव कभी कम नहीं हुआ. अलग-अलग मुद्दों पर दोनों देशों में हमेशा मतभेद रहे. हाल के सालों में मध्य पूर्व में वर्चस्व दोनों के बीच तनाव की सबसे बड़ी वजह रही है. यानी रूस और अमेरिका तेल के खेल का चैंपियन बनना चाहते हैं. सीरिया और ईरान को रूस का समर्थन हासिल है तो सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात को अमेरिका का. इसी खेल में हालात बिगड़ रहे हैं. एक बार फिर तीसरे विश्व युद्ध की आहट सुनाई दे रही है. लेकिन अगर इस बार वर्ल्ड वार हुआ तो मुकाबला त्रिकोणीय होगा.