दिल्ली हाई कोर्ट ने रखी लोकतंत्र की लाज, चुनाव आयोग और महामहिम का फ़ैसला पलटा, आप के 20 विधायकों की सदस्यता बहाल

Posted by

भारत में आम आदमी पार्टी को दिल्ली हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। अदालत ने सत्ताधारी पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित करने वाले नोटिफ़िकेशन को रद्द कर दिया है और इन विधायकों की सदस्यता बहाल हो गई है।

ज्ञात रहे कि चुनाव आयोग की सिफ़ारिश पर राष्ट्रपति ने इन 20 विधायकों को अयोग्य ठहराते हुए इनकी सदस्यता रद्द करने का आदेश दिया था। जिसके बाद आम आदमी पार्टी ने दिल्ली हाई कोर्ट में इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील की थी। शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के बाद कहा कि चुनाव आयोग को आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को अपनी बात कहने का मौक़ा देना चाहिए था। हाई कोर्ट ने ये भी कहा कि चुनाव आयोग ने मौखिक सुनवाई के नियमों का ख़्याल नहीं रखा।

दिल्ली सरकार ने मार्च 2015 में 21 आप विधायकों को संसदीय सचिव के पद पर नियुक्त किया था। जिसके बाद वकील प्रशांत पटेल ने इस पूरे प्रकरण को लाभ का पद बताकर राष्ट्रपति के पास शिकायत करके 21 विधायकों की सदस्यता खत्म करने की मांग की थी, राष्ट्रपति ने मामला चुनाव आयोग को भेजा और चुनाव आयोग ने मार्च 2016 में 21 आप विधायकों को नोटिस भेजा, जिसके बाद इस मामले पर सुनवाई शुरू हुई थी।

हाई कोर्ट के इस फ़ैसले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया कि सत्य की जीत हुई। दिल्ली के लोगों द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों को ग़लत तरीक़े से बर्ख़ास्त किया गया था। दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली के लोगों को न्याय दिया है। दिल्ली के लोगों की बड़ी जीत। दिल्ली के लोगों को बधाई।

VIKRANT YADAV

Verified account

@ReporterVikrant
माननीय ECI SOURCES को अपने वकील के जरिए ये दिल्ली हाई कोर्ट को बताना चाइए था, जिसने अपने आदेश में कहा है कि विधायकों को उनका पक्ष रखने का मौका नहीं मिला।।।

ANI

Verified account

@ANI
Election Commission gave ample opportunities to AAP MLAs with written notices served to individual MLAs on Sept 28 & Nov 2′ 17. The MLAs should have given the written representation to the Commission but they never gave: ECI Sources

Arvind Kejriwal

Verified account

@ArvindKejriwal
सत्य की जीत हुई। दिल्ली के लोगों द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों को ग़लत तरीक़े से बर्खास्त किया गया था। दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली के लोगों को न्याय दिया। दिल्ली के लोगों की बड़ी जीत। दिल्ली के लोगों को बधाई।