पाकिस्तान : आतंकवादी गुट के सरग़ना को मिली चुनाव में भाग लेने की अनुमति

Posted by

लाहौर उच्च न्यायालय ने पाकिस्तान में होने वाले आगामी संसदीय चुनावों में उम्मीदवार के रूप में सिपाहे सहाबा नामक आतंकवादी गुट के पूर्व सरग़ना अहमद लुधियानवी की योग्यता की पुष्टि करते हुए उसे चुनाव में भाग लेने की अनुमति प्रदान कर दी है।

पाकिस्तान की तत्कालीन परवेज मुशर्रफ सरकार ने आतंकवादी गुट सिपाहे सहाबा के नाम को आतंकी गुटों की लिस्ट में शामिल करते हुए उसकी तमाम गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन इस गुट ने अपना नाम बदलकर “अहले सुन्नत वल जमाअत” रख लिया था और एक बार फिर से पाकिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों में आतंकी गतिविधियां अंजाम देने लगा था। इस गुट की “अहले सुन्नत वल जमाअत” नाम से आतंकवादी गतिविधियां जारी होने के कारण वर्ष 2012 में एक बार फिर से इसपर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

उल्लेखनीय है कि आतंकवादी गुट सिपाहे सहाबा पाकिस्तान में एक जाना पहचाना एक ऐसा ख़ूंख़ार तकफ़ीरी आतंकवादी गुट है जो लश्करे झंगवी के साथ मिलकर इस देश के न केवल शिया बल्कि सुन्नी मुसलमानों के नरसंहार और टार्गेट किलिंग जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम देता है जिससे पाकिस्तान में धार्मिक मतभेदों को बढ़ावा मिलता है।

इस बीच लाहौर उच्च न्यायालय ने सिपाहे सहाबा आतंकवादी गुट के सरग़ना के बेटे नवाज़ मसरूर झंगवी की भी योग्ता की पुष्टि की है। इसी तरह, लश्करे तैयबा भी मुस्लिम लीग पार्टी के रूप में चुनाव में भाग लेने की कोशिश कर रहा था लेकिन वह सफल नहीं हो सका है।

ज्ञात रहे कि 15 वर्ष पहले आतंकवादी गुट सिपाहे सहाबा पर, पाकिस्तान में शिया मुसलमानों के नरसंहार सहित सैकडों पाकिस्तानियों के ख़ून से हाथ रंगीन होने के कारण, प्रतिबंध लगा दिया गया था और अब इस देश की अदालत द्वारा ऐसे आतंकवादी गुट के पूर्व सरग़ना और उसके आतंकियों को आम चुनाव में भाग लेने की अनुमति प्रदान करना, स्वयं इस देश के लिए ख़तरनाक साबित हो सकता है।