पाकिस्तान ने हमें सबसे ख़राब देश होने से बचा रखा है

Posted by

Girish Malviya
============
अगर आप विराट कोहली, आमिर खान, ऋषि कपूर, अनुष्का शर्मा, मैरीकॉम, रजनीकांत आदि को महान अर्थशास्त्री मानते हैं तो कृपया आगे और न पढ़ें और यदि आप इनकी अपेक्षा अमर्त्य सेन ओर ज्या द्रेज आदि को बड़ा अर्थशास्त्री मानते हैं तो आगे जरूर पढ़ें

कल अमर्त्य सेन ने भारत की अर्थव्यवस्था पर टिप्पणी करते हुए कहा कि “चीजें बहुत बुरी तरह खराब हुई हैं. 2014 से देश ने गलत दिशा में छलांग लगाई है. हम तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था में पीछे की तरफ जा रहे हैं. जो कि बहुत खतरनाक है.”

अमर्त्य सेन ने कहा, “बीस साल पहले छह देशों भारत, नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका और भूटान में से भारत का स्थान श्रीलंका के बाद दूसरे सबसे बेहतर देश के रूप में था. अब यह दूसरा सबसे खराब देश है. पाकिस्तान ने हमें सबसे खराब होने से बचा रखा है.”

प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज जिन्होंने मनरेगा जैसी योजना बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई उन्होंने कहा कि ‘मोदी सरकार को आर्थिक वृद्धि की ‘सनक’ से बाहर निकलने और विकास क्या है इसको लेकर व्यापक नजरिया अपनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कई क्षेत्रों में अपनी जिम्मेदारियों से भाग रही है और उन्हें कॉरपोरेट या राज्य सरकारों के भरोसे छोड़ दे रही है उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी से वित्तीय रूप से कमजोर वर्ग को झटका लगा है

जब नोटबन्दी हुई थी तब ज्या द्रेज ने कहा था कि नोटबन्दी एक पूरी रफ्तार से चलती कार के टायरों पर गोली मार देने जैसा कार्य हैं नोटबन्दी के 1 साल 8 महीने बाद उनकी बात सच साबित हुई है

– Girish Malviya