पुलिस सतर्क होती तो चार हत्याएं नहीं होतीं, योगी, बोले- कहां गई पुलिस…!

Posted by

उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से ही यहाँ की कानून व्यवस्था सवालों के घेरे में है, मुख्यमंत्री योगी ने पुलिस को खुली छूट दे रखी है, सरकार से मिली ढिलाई के कारण पुलिस का ध्यान अपराध रोकने पर कम कमाई और प्रमोशन के लिए एनकाउंटर करने पर अधिक है\

कासगंज में कानून व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यदि पुलिस सक्रिय और सतर्क होती तो चार हत्याएं नहीं होतीं। मुख्यमंत्री का सख्त रुख देख पुलिस अफसर सकते में आ गए।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जब पुलिस की सतर्कता है तो डकैत कैसे घूम रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जब ऐसी घटनाएं होंगी तो आक्रोश तो फूटेगा ही।

मुख्यमंत्री ने पूछा कि कितनी डायल 100 हैं तो अफसरों ने उन्हें बताया कि 19। फिर मुख्यमंत्री बोले कि 19 गाड़ियां होने के बावजूद भी गश्त कमजोर है जो ठीक नहीं है, इसे सुधारें।
वहीं चंदन हत्याकांड के फरार पांच आरोपियों के बारे में उन्होंने डीआईजी से पूछा कि इनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि पुलिस सख्त कार्रवाई करे और गिरफ्तारी सुनिश्चित करे।

हिंसा के जो भी अपराधी जेल में बंद हैं उन पर एनएसए की कार्रवाई की जाए। अपराधियों में कानून का खौफ होना जरूरी है। स्कूल, कॉलेजों के बाहर एंटी रोमियो स्क्वॉयड की तैनाती रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 28 विवेचनाएं ऐसी हैं जो 6 माह पुरानी हैं और 89 विवेचनाएं ऐसी हैं जो 3 महीने पुरानी हैं। इन विवेचनाओं के निस्तारण सही तरीके से हों। विवेचना लेट होने से अपराधियों को मदद मिलती है।

थाने में आने वाले फरियादियों से अच्छे से पुलिस व्यवहार करे। एडीजी अजय आनंद, डीआईजी पीयूष कुमार श्रीवास्तव ने मुख्यमंत्री को सभी बिंदुओं पर कार्य करने का भरोसा दिया।