प्रधानमंत्री मोदी की जयपुर रैली : राजिस्थान की संभावित हार का डर दिखा साफ़ : देखें वीडियो

Posted by

Sagar_parvez
===============
खुद की तारीफ करने….
जयपुर रैली : मोदी से बातचीत के लिए लाभार्थियों को दी गई है खास ट्रेनिंग

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 12:30 बजे से जयपुर में विभिन्न केंद्रीय और राज्य सरकार योजनाओं के लाभार्थियों से मिले. इस दौरान 12 लाभार्थियों के ऑडियो-विज़ुअल की प्रस्तुति दिखाई. राज्य प्रशासन एक सप्ताह पहले से ही इस आयोजन की तैयारी कर रहा है. प्रधानमंत्री की यात्रा से पहले राज्य सरकार ने अपनी पूरी मशीनरी तैनात की. राजस्थान से दो लाख से ज्यादा लोग इस आयोजन में आने का दावा किया गया.

प्रधानमंत्री मोदी के प्रधानमंत्री उज्वला योजना, प्रधान मंत्री आवास योजना और प्रधान मंत्री मुद्रा योजना समेत 12 सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों से बातचीत की. शहर में संवेदनशील क्षेत्रों को सीसीटीवी कैमरों द्वारा कवर किया गया है और अस्थायी नियंत्रण कक्ष फ़ील्ड इकाइयों को सतर्क करेंगे यदि वे किसी भी संदिग्ध गतिविधि को देखते हैं.बालों को छोड़ कला रंग किसी भी रूप सभा स्थल तक नहीं पहुँचने दिया गया

मोदी इस दौरान केंद्र और राज्य में बीजेपी सरकारों द्वारा संचालित 12 योजनाओं के लगभग 2.5 लाख लाभार्थियों को सम्बोधित किए. गौरतलब है कि इस वर्ष के अंत में एक राजस्थान में महत्वपूर्ण विधानसभा चुनाव भी होना है. सरकार प्रत्येक बस के लिए 20 रुपये प्रति किलोमीटर का भुगतान की, जिसमें 7.2 करोड़ रुपये खर्च हुए.

अलवर, उदयपुर और अजमेर जिलों से आने वाली बसों की संख्या सबसे ज्यादा है. सिर्फ जयपुर जिले में 532 बसों से लाभार्थियों को अमृतन के बाग स्टेडियम में लाया. इस रैली के जरिए स्मार्ट सिटी पहल शुरू. इन लाभार्थियों के लिए परिवहन, भोजन और आवास की व्यवस्था की. राज्य सरकार राजस्थान ने राज्य के विभिन्न हिस्सों से लोगों को लाने के लिए 5,579 बसों की व्यवस्था की है.

सरकार ने बाड़मेर जिला प्रशासन को 24.10 लाख रूपये आवंटित किए हैं और जिला कलेक्टरों से प्रधानमंत्री के आयोजन के लिए 5,000 लाभार्थियों को भेजने के लिए कहा. इस रैली के लिए भरतपुर जिला प्रशासन ने पांच लाभार्थियों का चयन किया है जिन्होने मोदी से बात की. रिपोर्ट के

लाभार्थियों को सवालों के जवाब देने के लिए प्रशिक्षित गया, जिनमे से एक मंजू देवी ने इसमें भाग लेने से इनकार कर दिया.

मंजू देवी ने कहा, “राजकुमारी स्कीम के तहत मेरी बेटी के जन्म के बाद मुझे 2,500 रुपये की दो किस्तें मिल गईं है. मुझे मोदी को सकारात्मक जवाब देने के लिए कहा गया था और कोई सवाल न पूछने के लिए कहा गया था. इसी तरह कुम्हेर ब्लॉक के बेलारा कला गांव के निवासी उमराव सिंह जैसे अन्य लाभार्थियों ने स्वीकार किया कि प्रशासन ने उन्हें प्रशिक्षित किया है.

राजस्थान के सूचना प्रौद्योगिकी के उप निदेशक सत्यनारायण चौहान ने पुष्टि की है कि पांच लोगों को प्रशिक्षित किया गया है.