@फ़िलिस्तीनियों को याद करके रो पड़ीं #क्यूबा की राजदूत, इस्राईली प्रतिनिधि को दिया मुंह तोड़ जवाब : देखें वीडियो

Posted by

युनेस्को में क्यूबा की राजदूत ने फ़िलस्तीनी राष्ट्र के ख़िलाफ़ अतिग्रहणकारी ज़ायोनी शासन के अपराधों की निंदा करते हुए कहा कि इस्राईल के अपराधों की क़ुरबानी बनने वाले फ़िलिस्तीनियों के सम्मान में एक मिनट का मौन रखा जाए।

दरअस्ल संस्था की बैठक में परम्परा तोड़ते हुए इस्राईली प्रतिनिधि ने होलोकास्ट में मारे गए यहूदियों के सम्मान में एक मिनट के मौन का एलान किया और खड़े हो गए। इसके बाद क्यूबा की राजधानी ने आपत्ति जताई कि मौन का एलान इस्राईली प्रतिनिधि ने क्यों किया इसलिए कि मौन का एलान हमेशा अध्यक्ष की ओर से किया जाता है। अपनी प्रतिक्रिया में क्यूबा की राजदूत ने कहा कि मैं अध्यक्ष महोदय से अनुरोध करती हूं कि मारे गए फ़िलिस्तीनियों के सम्मान में एक मिनट के मौन की हमें अनुमति दें। मारे गए फ़िलिस्तीनियों की बात करते हुए क्यूबा की राजदूत भावुक हो उठीं और उनका गला भर आया।

इस्राईली राजदूतः

“इसलिए मैं इस संस्था से अनुरोध करता हूं कि खड़े होकर एक मिनट का मौन रखें उन साठ लाख यहूदियों के लिए जो नाज़ी जानवरों के हाथों मार दिए गए या उनसे लड़ते हुए मारे गए। कृपया हम एक साथ खड़े होते हैं।”

युनेस्को प्रमुखः

“धन्यवाद और अब क्यूबा की प्रतिनिधि”

क्यूबा की राजदूतः

“मुझे इस ओर ध्यान केन्द्रित करवाना है कि मौन के लिए खड़े होने की मांग करने का अधिकार केवल अध्यक्ष को है। इस्राईली प्रतिनिधि ने जो किया है वह क़ानून के विपरीत है और इस बैठक के नियमों के ख़िलाफ़ है और यह इस्राईल के ख़िलाफ़ पारित होने वाले प्रस्ताव पर हमला करने के उद्देश्य से भावनाओं को भड़काने की कोशिश है। यह आरोप लगाया जाएगा कि यह सारे प्रस्ताव यहूदियों की दुशमनी में पारित हुए हैं। यह कार्यवाही अस्वीकार्य है। हम राजनैतिक सरकस नहीं कर रहे हैं। हम पहले भी इस्राईली प्रतिनिधियों की ओर से इस प्रकार की हरकतें देख चुके हैं कि वह मनगढ़त इतिहास थोपते हैं। मुझे पता है कि केवल अध्यक्ष को यह अधिकार है कि वह खड़े होकर एक मिनट के मौन की मांग करे।

इसलि मैं माननीय अध्यक्ष से अनुरोध करती हूं कि हमें उन तमाम फ़िलिस्तीनियों के सम्मान में एक मिनट तक खड़े होकर मौन रहने की अनुमति दें जो बीते वर्षों में क़त्ल किए गए…..बहुत बहुत धन्यवाद”

=======