बीजेपी सांसद रामशंकर कठेरिया के कार्यक्रम में चले लात और घूंसे

Posted by

आगरा।जीत पर जीत से बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व और प्रधानसेवक सहित पार्टी नेतृत्व ख़ुशी से नहीं समा रहे हैं, 2019 तो क्या 50 तक सत्ता में रहने का सपना बीजेपी देख रही है, दावे किये जाते हैं कि मोदी सरकार में विकास की गंगा बह रही है, हर ओर विकास ही विकास हो रहा है, देश और दुनियां में बीजेपी और मोदी की लोकप्रियता चरम पर है, मगर आगरा में ग्राम सुराज अभियान के तहत आंवलखेड़ा में सोमवार रात करीब नौ बजे लगाई गई चौपाल में हंगामा हो गया। चकबंदी पर किसानों के दो गुट भिड़ गए।

एससी-एसटी आयोग के अध्यक्ष एवं भाजपा सांसद रामशंकर कठेरिया, डीएम गौरव दयाल और एसएसपी अमित पाठक के सामने ही किसानों में लात-घूंसे चल गए।

चौपाल में शिकायतें सुनी जा चुकी थीं। उज्ज्वला योजना के प्रमाण पत्र वितरित कर दिए गए थे। तभी मुरथर अलीपुर गांव के किसानों के दो पक्ष खड़े हो गए। दोनों में 30-35 किसान थे।

एक पक्ष ने कहा कि गांव में चकबंदी होनी चाहिए। दूसरे ने विरोध किया। सामने मंच पर बैठे अधिकारी और सांसद हैरान थे कि यह क्या हो रहा है, लेकिन किसान आपस में उलझते जा रहे थे। पहले कहासुनी हुई, इसके बाद मारपीट की नौबत आ गई।

पुलिस उन्हें रोकने के लिए दौड़ी, लेकिन इससे पहले ही उन्होंने कुर्सियां उठा लीं और एक-दूसरे पर फेंकने लगे। पुलिस ने दोनों पक्ष से एक एक किसान को हिरासत में ले लिया। इस पर वे शांत हुए।

उधर, कठेरिया ने कहा कि वह 19 मई को मुरथर अलीपुर जाएंगे। वहां चकबंदी पर गांव की राय ली जाएगी। सबकी बात सुनने के बाद कोई निर्णय लिया जाएगा। इस पर हंगामा पूरी तरह से शांत हो गया।