भाजपा नेता ने नौकरी के नाम पर ठगे लाखों रुपये

Posted by

पूर्व सांसद प्रतिनिधि और धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक का चुनाव लड़ चुके भाजपा के पूर्व नेता सचिवालय में नौकरी धोखाधड़ी में फंस गए। पूर्व सांसद प्रतिनिधि के खिलाफ नौकरी लगवाने में जुड़ी एक महिला ने ही एसएसपी कार्यालय में तहरीर दी। शिकायत मिलने पर एसएसपी ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।

वर्तमान में ऑल उत्तराखंड पेरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष नीरज सिंघल पूर्व में हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक के सांसद प्रतिनिधि रह चुके हैं। हालांकि पार्टी से बगावत कर धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने पर उन्हें प्रतिनिधि पद से निशंक ने हटा दिया था।

उन्होंने पटेलनगर थाना क्षेत्र निवासी बबीता रानी शर्मा को झांसा दिया कि उसकी सरकार में अच्छी पकड़ है। वह बेरोजगार युवाओं को सचिवालय में सीधी भर्ती के जरिए नौकरी दिला देंगे। आरोप है कि उसके झांसे में आकर महिला ने 13 युवाओं को नौकरी के लिए तैयार कर लिया। आरोप है कि उनसे नौकरी का झांसा देकर आरोपी ने लाखों रुपये हड़प लिए।

उन्हें नौकरी नहीं मिली तो वह बबीता पर रकम वापसी का दबाव बना रहे हैं। बबीता ने एसएसपी कार्यालय पहुंचकर नीरज के खिलाफ लिखित शिकायत की। एसएसपी ने बबीता के बजाए पीड़ितों से तहरीर लेकर नीरज समेत अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है।

इंस्पेक्टर नेहरू कॉलोनी राजेश साह ने बताया कि पीड़ित को मंगलवार को थाने बुलाकर मुकदमा दर्ज किया। इसके बाद मामले की जांच की जाएगी।

ऐसे किया फर्जीवाड़ा
राजपुर रोड पर दून के प्रतिष्ठित स्कूल संचालक की 0.19 एकड़ जमीन थी। स्कूल संचालक के नाम दर्ज इस जमीन से .16 एकड़ जमीन उसे मुआवजा देकर लोनिवि ने अधिग्रहण कर ली। ऐसे में उनके नाम मौके पर केवल .03 एकड़ भूमि बची, लेकिन लोनिवि को दी गई भूमि राजस्व अभिलेखा में लोनिवि के नाम दर्ज होने से पहले ही मुआवजा लेने के बावजूद पूरी .19 एकड़ का जमीन स्कूल संचालक से एक रिटायर आईएएस के नाम बेनाम कर दिया। पूर्व आईएएस यह .16 एकड़ जमीन बगल के प्लाट धारकों की कब्जा जमा रहा है।

एसआईटी ने गड़बड़ी पकड़ी
एसआईटी जांच में पीड़ित के साथ हुई धोखाधड़ी पकड़ ली गई। धोखाधड़ी के मामले पकड़े में जाने के सीधे मुकदमे का आदेश देने वाले एसआईटी भूमि के सेल अफसरों का रवैया भी इस मामले में प्रभावी नहीं रहा है। उन्होंने गड़बड़ी पर पीड़ित को कोर्ट जाकर आरोपी पर मुकदमा दर्ज कराने की सलाह दी है।