#भारत का इतिहास पार्ट 76 : तुग़लक़ वंश का पतन

Posted by

तुग़लक़ वंश का पतन

इन तीनों योग्य शासकों के बाद कोई और शासक सही शासन न कर सके। इसके बाद तुग़लक़ वंश का पतन शुरू हो गया। इनके अलावा कुछ शासक और हुए जिनका नाम इस प्रकार है:-

नसरत शाह तुग़लक़
==========
नसरत शाह तुग़लक़ वंश का आठवाँ सुल्तान था। वह सुल्तान फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ का पौत्र था। नसरत शाह की शासन अवधि अत्यंत कम रही थी।

जनवरी, 1395 ई. में नसरत शाह को गद्दी पर बैठाया गया, किन्तु तीन या चार ही वर्ष नाम मात्र का शासक रहने के उपरान्त उसकी हत्या 1398 ई. कर दी गई।
अपने शासन काल में नसरत शाह फ़िरोज़ाबाद में दरबार लगाता था, जबकि उसका प्रतिद्वन्द्वी चचेरा भाई महमूद तुग़लक पुरानी दिल्ली में शासन करता था।
नसरत शाह की मृत्यु से महमूद तुग़लक, तुग़लक़ वंश का एकमात्र निर्विरोध प्रतिनिधि रह गया था।

महमूद तुग़लक़

===========
महमूद तुग़लक़ (1399-1413 ई.) दिल्ली के तुग़लक़ वंश का अंतिम सुल्तान था। उसके राज्यकाल में अनवरत संघर्ष चलते रहे और दुरावस्था अपनी चरम सीमा पर पहुँच गयी। महमूद तुग़लक़ के समय तक दिल्ली सल्तनत से दक्षिण भारत, बंगाल, ख़ानदेश, गुजरात, मालवा, राजस्थान, बुन्देलखण्ड आदि प्रान्त स्वतन्त्र गये थे।

शासन
महमूद तुग़लक़ के समय में मलिक सरवर नाम के एक हिजड़े ने सुल्तान से ‘मलिक-उस-र्शक’ (पूर्वाधिपति) की उपाधि ग्रहण कर जौनपुर में स्वतन्त्र राज्य की स्थापना की। महमूद तुग़लक़ का शासन इस समय दिल्ली से पालम (निकटवर्ती कुछ ज़िलों) तक ही सीमित रह गया था। इस समय नसरत शाह तुग़लक़ एवं महमूद तुग़लक़ ने एक साथ शासन किया। महमूद तुग़लक़ ने दिल्ली से तथा नुसरत शाह ने फ़िरोजाबाद से अपने शासन का संचालन किया। महमूद तुग़लक़ के समय में तैमूर लंग ने 1398 ई. में दिल्ली पर आक्रमण किया। एक पैर से लंगड़ा होने के कारण उसका नाम ‘तैमूर लंग’ पड़ गया था। तैमूर के आक्रमण से डरकर दोनों सुल्तान राजधानी से भाग गये। 15 दिन तक दिल्ली में रहने के पश्चात् तैमूर वापस चला गया और ख़िज़्र ख़ाँ को अपने विजित प्रदेशों का राज्यपाल नियुक्त किया।

तैमूर आक्रमण के बाद सिमटा दिल्ली सल्तनत का विस्तार
एक मान्यता के अनुसार तैमूर आक्रमण के बाद दिल्ली सल्तनत का विस्तार सिमट कर पालम तक ही रह गया था। तैमूर के वापस जाने के पश्चात् महमूद तुग़लक़ ने अपने वजीर मल्लू इमबार की सहायता से पुन: दिल्ली सिंहासन पर अधिकार कर लिया, पर कालान्तर में मल्लू इक़बाल मुल्तान के सूबेदार ख़िज़्र ख़ाँ से युद्ध करते हुए मारा गया। मल्लू इक़बाल के मरने के बाद सुल्तान ने दिल्ली की सत्ता एक अफ़ग़ान सरदार दौलत ख़ाँ लोदी को सौंप दी।