मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में अब पांच ‘बाबा’ बने मंत्री!

Posted by

बीजेपी की केंद्र सरकार हो या किसी राज्य की, किसी के पास जनता को बताने के लिए कोई उपलब्धि नहीं है, मोदी सरकार चार साल तक जनता को ‘जुमले’ बोल बोल कर बहलाती रही है वहीँ प्रदेशों की सरकारें भी नाकाम साबित हुई हैं|

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार अब धार्मिक और समाज के संतों के जरिए राजनीतिक माहौल बनाने में लग गई है। इसी क्रम में उसने नर्मदा नदी के लिए जन-जागरूकता अभियान चलाने के लिए एक विशेष समिति बनाई है। इसमें पांच संत सदस्य है और सभी को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है। आधिकारिक तौर पर मंगलवार को जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि राज्य शासन ने प्रदेश के विभिन्न चिन्हित क्षेत्रों विशेष रूप से नर्मदा के किनारे पौधरोपण, जल संरक्षण और स्वच्छता के प्रति निरंतर जन-जागरूकता अभियान चलाने के लिए विशेष समिति गठित की है।

इस समिति में बतौर सदस्य नर्मदानंद, हरिहरानंद, कम्प्यूटर बाबा, भैय्यू महाराज और पंडित योगेंद्र महंत को शामिल किया गया है। इन सभी को राज्यमंत्री का दर्जा मिलेगा।
संभवत: राज्य के गठन के बाद से यह पहला मौका होगा, जब संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिया जा रहा हो। यह संत सरकार के इस प्रस्ताव को मानते हैं या नहीं, यह आने वाला समय ही बताएगा।

लेकिन इतना तो साफ लग रहा है कि संतों के सहारे नर्मदा नदी के संरक्षण का प्रचार-प्रसार किया जाने वाला है। इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा’ निकाली थी। पौधरोपण किया था, उसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी अपनी पत्नी अमृता राय सिंह के साथ पदयात्रा कर रहे हैं।

=========

Congress

Verified account

@INCIndia

व्यापम महाघोटाला, रहस्यमय हत्याएं, आकंठ भ्रष्टाचार इन दिनों मध्य प्रदेश ही नहीं पूरे देश में चर्चा का विषय है, मौजूदा हालात मध्य प्रदेश में भाजपा के खत्म होते जनाधार को बताने के लिए काफी हैं

Kedar Sirohi

@KedarSirohi

मध्य प्रदेश सरकार का परफॉरमेंस खुद मुख्यमंत्री जी ने कल बता दिया है,बस 80 विधायको के टिकट काटेंगे।
मतलब 80 कोई काम के नही थे

SHREYAT

@Mr_Shreyat

कल के भारत बंद के बाद मध्य प्रदेश के भिंड, मुरैना, ग्वालियर और आस-पास के जिलों में इंटरनेट सेवा बंद है।
दलित बस्तियों में पानी और बिजली की आपूर्ति नहीं हो रही है।
पुलिस और अर्धसैनिक बल सरकार के आदेश के बाद कॉम्बिंग ऑपरेशन करके महिलाओं और बच्चों के साथ भी मारपीट कर रहें है।

Yogesh Khobragade

@YogeshKhobraga9

जब दिल्ली और हरियाणा में कच्चे कर्मचारियों का वेतन, समान कार्य समान वेतन के आधार पर मिलने लगा है, तो मध्य प्रदेश सरकार क्यों तानाशाही रवैया अपनाए हुए हैं क्या उसे संविधान पर भरोसा नहीं है, ऐसी सरकार को सत्ता में बैठने का कोई अधिकार नहीं है! शोषन राज़