मैने क्षत्रिय धर्म का पालन किया है : बसपा को धोखा देने वाले विधायक अनिल कुमार सिंह के बोल!

Posted by

राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने वाले बीएसपी विधायक अनिल कुमार सिंह को मायावती ने पार्टी से सस्पेंड कर दिया है. राज्यसभा चुनाव के दिन अनिल ने खुलकर योगी आदित्यनाथ का समर्थन किया. मायावती द्वारा लिए गए इस कड़े फैसले के बाद अनिल ने कहा है कि उन्होंने बीजेपी को वोट देकर क्षत्रिय धर्म का पालन किया था.

अनिल कुमार सिंह का कहना है कि उन्होंने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के कामों से प्रभावित होकर बीजेपी उम्मीदवार को वोट दिया. साथ ही अनिल ने कहा कि उन्होंने वही किया जो उनके चुनाव क्षेत्र के मतदाता चाहते थे. अब सवाल यह है कि उम्मीदवार तो क्षत्रिय था नहीं, न ही भाजपा क्षत्रियों की पार्टी है. फिर आखिर अनिल सिंह किससे क्षत्रिय होने का नाता जोड़ रहा है?? शायद योगी आदित्यनाथ से…. क्योंकि अब बच वही जाते हैं. और योगी आदित्यनाथ ने इसके खिलाफ कोई बयान भी नहीं दिया है. तो आदित्यनाथ जी फिर ये संन्यासी होने का शोर क्यों… भगवा उतारिए और ठाकुर नेता बनकर मैदान में आइए.

भारतीय जनता पार्टी जाति, धर्म की नहीं बल्कि ‘विकास’ की राजनीती करती है ऐसा मीडिया में बीजेपी के नेताओं को कहते देखा जा सकता है जबकि सच्चाई यह है कि आरएसएस और बीजेपी हमेशा से ही दलित, पिछड़े और अल्पसंखयकों के खिलाफ रही है और उनका हर मोके पर उत्पीड़न किया है|

==========

Wasim Akram Tyagi

बसपा ने अपने उस विधायक को पार्टी से निकाल दिया है जिसने राज्यसभा चुनाव में क्रास वोटिंग करके बसपा उम्मीदवार को हराने में महत्तवपूर्ण भूमिका निभाई थी। पार्टी से निकाले गये विधायक अनिल कुमार सिंह ने कहा है कि क्रास वोटिंग करके उन्होंने क्षत्रिय धर्म का पालन किया है। सवाल यहीं से पैदा होता है कि आखिर क्षत्रिय धर्म है क्या ? क्या क्षत्रिय धर्म यही है जिसका सबूत अनिल सिंह ने गद्दारी करके दिया है ? अनिल सिंह ने चुनाव की रात अपने बेटे की कसम खाकर विश्वास दिलाया था कि वह क्रास वोटिंग नहीं करेंगे लेकिन चुनाव वाले रोज उन्होंने इसका उल्टा किया। इस देश का क्षत्रिय समाज अनिल सिंह से सवाल करे कि गद्दारी करना कबसे क्षत्रिय धर्म कहलाने लगा ?

काकावाणी

@AliSohrab007
Mar 25
UP: राज्यसभा चुनाव में BSP और SP को
डर था कि BSP विधायक अनिल कुमार सिंह
क्रास वोटिंग कर सकता है,
बीती रात अनिल कुमार सिंह ने पहले तो
सपा~बसपा की दावत उड़ाई फिर
अपने बेटे की कसम खाकर
दोनों पार्टियों को विश्वास दिलाया कि
वह क्रास वोटिंग नहीं करेंगे
और सुब्ह नमो नमो…☺