येदियुरप्पा ही बनेंगे मुख्यमंत्री, कर्नाटक में BJP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार : जावड़ेकर

Posted by

224 सीटों वाली कर्नाटक विधानसभा के 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78, जेडी(एस) को 38 सीटें मिली हैं। अन्य को दो सीटें मिली हैं। कोई भी राजनीतिक दल 112 सीटों का जादुई आंकड़ा नहीं छू पाई जो पूर्ण बहुमत वाली सरकार के लिए जरूरी था।

कांग्रेस ने बीजेपी को बाहर रखने के लिए गठबंधन की सरकार बनाने के लिए जेडी(एस) से सौदेबाजी की। जेडीएस के कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री पद की पेशकश की। लेकिन बहुमत से कुछ ही सीटें कम जीतने वाली सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी भाजपा के हौसले पस्त नहीं हुए हैं। वह अब भी ताल ठोक रही है। भाजपा का दावा है कि सत्ता की कुर्सी पर येदियुरप्पा ही विराजमान होंगे। लेकिन वह क्या संभावनाएं है जिसके आधार पर भाजपा कर्नाटक में सरकार बनाने का दावा कर रही है। ये हैं वो 10 आधार:

1. सबसे पहली स्थिति है कांग्रेस-जेडी(एस) सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत 112 विधायकों का समर्थन पत्र नहीं दे सकी, तो भाजपा को मौका मिल सकता है।

2 . राज्यपाल भाजपा को विधानसभा की सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते सरकार बनाने का न्योता दें सकते हैं और विधानसभा में विश्वास मत हासिल करने के लिए समय दें सकते हैं।

3. दूसरी स्थिति के समय जब विधानसभा में भाजपा को विश्वासमत हासिल करना होगा तब कांग्रेस-जेडी(एस) के 15 विधायक गैर-मौजूद हों तो भाजपा को फायदा होगा।

4. ऐसे में विधानसभा में विधायकों की प्रभावी संख्या 222 से घटकर 207 रह जाएगी। बहुमत साबित करने का जादुई आंकड़ा भी घटकर 104 हो जाएगा।

5. चूंकि भाजपा के 104 विधायक हैं इसलिए ऐसी स्थिति में भाजपा आसानी से बहुमत साबित कर सकती है।

6. भाजपा ने चुनाव प्रचार के दौरान लिंगायत अस्मिता का मुद्दा बरकरार रखने का मुद्दा बनाया था। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा भी इसी लिंगायत समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने से रोकने के लिए कांग्रेस-जेडी(एस) ने हाथ मिला लिया है।

7. कांग्रेस के टिकट पर लिंगायत समुदाय से 21 विधायक और जेडीएस के टिकट पर इस समुदाय के 10 विधायक चुनाव जीते हैं। भाजपा को इसका फायदा मिल सकता है।

8. जेडी(एस) से गठबंधन होने से निवर्तामान मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया और डी शिवकुमार पर भी नजर है।

9. जेडी(एस) के प्रदेश अध्यक्ष एचडी कुमारस्वामी दो विधानसभा सीटों से चुनाव जीते हैं। विधानसभा में विश्वासमत से पहले उन्हें एक सीट छोड़ने को कहा जाएगा।

10. बीएस येदियुरप्पा और बी श्रीरामुलु लोकसभा सदस्य भी हैं और दोनों ने विधानसभा चुनाव भी जीता है। इसलिए ऐसे में दोनों नेता विश्वासमत की तस्वीर साफ होने के बाद ही किसी एक सीट से इस्तीफा देंगे। तब भाजपा को इसका फायदा मिलेगा।
=======
News24

@news24tvchannel
प्रकाश जावड़ेकर का दावा, कहा- कर्नाटक में BJP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार

Ankita Shah

@Ankita_Shah8
32 सीट लाने वाली भाजपा दिल्ली में सरकार नहीं बना सकी…9 महीने राष्ट्रपति शासन रहा..भाजपा ने साम-दाम-दंड-भेद से भरपूर कोशिश की पर AAP के विधायक नहीं तोड़ पाई।
सलाम हमारे उन विधायकों पर 🙏

Shivam Shrivastava

@Shivam_INC
बेंगलुरु में मीडिया से बात करते हुए कुमारास्वामी ने बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने हमारे विधायकों को मंत्री बनाने और 100 करोड़ रुपये देने का लालच दिया है…! लोकतंत्र की खुलेआम धज्जियाँ उड़ा रही है भाजपा..! #BJPChor100Crore

India News UP/UK

@Indianewsup
Inkhabar: कर्नाटक LIVE: सिद्धारमैया का बड़ा आरोप- कर्नाटक में विधायकों की खरीद-फरोख्त के पीछे पीएम नरेंद्र मोदी