राष्ट्रवाद के अंधों को नहीं पता इस्लामिक और पाकिस्तान के झंडे में फ़र्क़, मुस्लिम बुजुर्ग से की हाथापाई : वीडियो

Posted by

राष्ट्रवाद के अंधों को देश के सबसे बड़े दुशमन और पड़ोसी मुल्क के तक के झंडे के बारे में जानकारी नहीं है. जिसे वे आए दिन गली के नुक्कड़ों, चोराहों पर जलाते फिरते है. बावजूद दावा देश की रक्षा और सुरक्षा करने का है।2014 से पहले भारत में ऐसा गन्दा, दहशत वाला माहौल कभी नहीं रहा है, केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से ही देशभर में आतंक का माहौल बना हुआ है, फ़र्ज़ी राष्ट्रवादी, फ़र्ज़ी देश भक्तों की फौज पैदा हो गयी है और इनके निशाने पर है मुस्लिम समाज, यह लोग अपनी आतंकी कार्यवाहियों से मुस्लिम समाज में भय पैदा काना चाहते हैं और इस काम में इनको सरकार व प्रशासन का भरपूर सहयोग मिलता है| 

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. जिसमे भगवा ब्रिगेड से जुड़े कुछ लोगों एक मुस्लिम बुजुर्ग को अपशब्द कर रहे है. साथ ही उसके साथ हाथापाई कर रहे है. बता दें कि मुस्लिम बुजुर्ग का कसूर सिर्फ इतना है कि उनकी बस पर इस्लामिक झंडा लगा हुआ है. जिसकी इजाजत देश का संविधान और कानून भी देता है।

इस दौरान फर्जी राष्ट्रवाद और मुस्लिमों से अंधी नफरत में डूबे कुछ नौजवान आते हैं और उस झंडे को उतारकर पैरों तले रौंदते हों फिर वहां पर खड़े एक मुस्लिम बुजुर्ग को गालियां देते हैं, और उनसे कहते हैं कि इस झंडे को पैरों से कुचलो और कहो पाकिस्तान मुर्दाबाद. बुजुर्ग उनकी बातों को मान लेते हैं और पाकिस्तान मुर्दाबाद कहने लगते हैं।

इसके साथ ही वे उस बुजुर्ग को भद्दी गालियां देते हैं, इतना ही नहीं वे तथाकथित देशभक्त समुदाय विशेष को भी गालियां देते हैं. मजे की बात यह है कि जिस बस पर यह झंडा लगा हुआ था उसी बस पर मेरा भारत महान लिखा हुआ है, लेकिन आंखों पर लगे हुए नफरती चश्मे के शीशे से वह सब नजर नही आया।

हालांकि ये पहला मामला नहीं है. मुस्लिमों के लिए दुनिया के सबसे सुरक्षित मुल्क में मुसलमानों के साथ आए दिन ऐसे कारनामे देखने को मिलते है।