वो मुकद्दर का सिक़न्दर जानेमन कहलायेगा

Posted by

वेदिका सिंह

____________
मैंने पहले कहा था कि सिंकदर की कहानी सुनाऊँगी आपको।कल जब चप्पल टूटी तो मैं चाय की दुकान पर बैठ गयी और दो चाय एक मैगी खाई और २-३ कहानी लिखी।जब ठूस लिया तो आगे बढ़ी मोची ढूंढने(कभी कभी ये छोटे लोग कितने क़ीमती लगते हैं ना!रहीमदास जी ने है रहिमन देखि बड़ेन को, लघु न दीजिए डारि!जहां काम आवे सुई, कहा करे तरवारि!पर आपको क्यों बता रही🙁 आप कहेंगे रहीम मेरे धर्म का तो था नहीं शायद🤔फ़िर ये सही बात कैसे कह सकता है🙄)
थोड़ी दूर पहुँची तो एक लगभग ८-१० साल की उम्र का बच्चा पीछे लग गया।सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र का नाती लग रहा था क्योंकि बोला-“दीदी ये कुछ सूट के कपड़े हैं जिस दुकान में काम करता था वहाँ से चुराकर लाया हूँ,आप ३०० रूपये में ८ सूट खरीद लीजिये या फ़िर जितने हों उतने ही दे दीजिए”
मैं अचंभित थी उसके मासूम कबूलनामे पर।एक अपराधी एक चोर इतनी आसानी से अपना अपराध स्वीकार कर रहा।

मैंने पूछा-“क्यों चुराया हीरो?”
बोला-” दीदी ३ महीने से काम पर रखे था सेठ, लेक़िन पगार नहीं दे रहा था,मौका देखते ही मैंने हाथ साफ कर दिया।(हाथ साफ़ करने का मतलब डेटॉल हैंडवाश से धुलना नहीं इसका मतलब है चुराना, नहीं कुछ युवा गेम ऑफ़ थ्रोन्स और अंग्रेजी पिक्चर देखकर हिंदी बोलने में शर्म करते हैं😛और बोलेंगे क्या आती भी नहीं हिंदी!माँ को ही नहीं जानते!शर्मनाक है🤔🙄😏)
मेरा दिल गार्डन गार्डन(गदगद) हो गया।मैंने कहा उससे-“सही किये गुरु!जब घी सीधी उंगली से ना निकले तो उंगली मत टेढ़ी करो बल्कि घी का डिब्बा ही छुपा दो या चुरा लो”
ये छोटा अपराधी मेरा दोस्त बन गया था थोड़ी ही देर में।चप्पल सिलवाने के बाद मैंने फुटकर २००० में से उसे १००० दिए और हिदायत भी दी कि “कानपुर(राम राज्य) है ये दारू गुटखा नहीं सीधे जाकर खाना खा लो”
पता नहीं कहाँ गया होगा,क्या किया होगा पैसे का।अम्मी अबू थे उसके,हो सकता है हामिद की तरह अम्मी के लिए चिमटा खरीद हो या हो सकता है पूरे पैसे की शराब पी गया हो।
जाते जाते बोल गया मासूम अपराधी कि दीदी बहुत लोग मिले पर आपको याद रखूँगा हमेशा।
मैंने कुछ कहा नहीं बस उसे कैद कर लिया अपनी कहानी में और अपने सस्ते वीवो मोबाइल के कैमरे में!
अब अगर वो मासूम अपराधी पुलिस की गिरफ़्त में आकर,जेल जाकर,थर्ड डिग्री टार्चर झेलकर और फ़िर छूटकर कभी खूंखार अपराधी भी बन गया ना तो भी मेरी कहानी में सिकंदर मासूम अपराधी ही रहेगा।
सुप्रभात😊
आपका दिन शुभ हो☺
फ़ोटो-मैं और मुकद्दर का सिकन्दर
दूसरी फ़ोटो में उसके द्वारा चुराए और मेरे द्वारा खरीदे वो ८ सूट