#संघी_साज़िशे_और_भारतीय_मुस्लमान

Posted by

Sikander Kaymkhani
===========

#कौन_था_नाथूराम_गौडसे_और_क्यों_उसने_गांधीजी_को_मारा?

गोड़से संघी आतंकवाद का वो शुरुआती चेहरा था जिसका मकसद आतंकवादी वारदात को अंजाम देकर उसका इल्ज़ाम मुसलमानो पे डालना था। जिस सादिश को आज तक अंजाम दिया जा रहा। मुसलमानो के खिलाफ इस सादिश की शुरुआत संघ ने गोडसे से की थी।

-● स्कूल से भागा हुआ गोडसे उस समय भी नकली स्टाम्प बेचता था।

-● नाथूराम गोडसे का पिता डाक विभाग मे नौकरी करता था, औऱ उस समय स्टाम्प डाक विभाग द्वारा ही बेचे जाते थे।

-● इस जुर्म में व चोरी के जुर्म में दो बार वह जेल भी गया था।

-● गाँधी जी की हत्या के बाद पकड़े जाने पर उस ने #अल्ला_हो_अकबर कह कर खुद को मुसलमान साबित करने की पूरी कोशिश की थी।

-● पुलिस थाने में भी गोडसे ने शुरुआत में खुद को मुसलमान ही बताया था।

-● ताकि देश में हिन्दू मुस्लिम दंगे भङके जो की संघ व हिन्दू महासभा का असली मकसद था।

■ देश के कानून को गौडसे कितना महत्व देता था इस का पता इस बात से चलता है कि गान्धी हत्याकांड में सुप्रीम कोर्ट से फांसी तय हो जाने के बाद उसने सजा के खिलाफ अपील लन्दन की अदालत में की।

■ जबकी उस समय देश को आजाद हुये दो साल हो चुके थे औऱ लन्दन की उस अंग्रेज़ी अदालत ने कहा स्वतंत्र भारत के मामलों मे हम क्या कर सकते है।

■ अंग्रेज़ो के मुखबिर आखिर तक उनकी चापलूसी मे लगे रहे और ताकि नाथूराम गोडसे को बचाया जा सके।

■ स्वतंत्रता सेनानियों के खिलाफ गद्दारी औऱ अंग्रेज़ों की मदद करना हमेशा संघ का राजनीतिक धर्म बना रहा, औऱ संघ के महान नेताओ ने इसे हमेशा बखूबी निभाया भी।

Disclaimer : लेखक के निजी विचार हैं, लेखक के विचारों से तीसरी जंग का सहमत होना आवश्यक नहीं है, लेख से तीसरी जंग का कोई सरोकार नहीं है|