‘संघ परिवार’ का मुस्लिम मुक्त भारत एजेंडा : शिवसेना की मांग ”औरंगाबाद, उस्मानाबाद, ख़लीलाबाद” के नाम बदले महराष्ट्र सरकार

Posted by

भारत में 2014 के चुनावों के बाद 1200 के बाद राष्ट्रवादियों की सरकार बनी थी, यह सरकार जनता से ‘विकास’ के वोट लेकर बनी थी लेकिन कुछ ही महिनों के बाद सरकार पटरी से उतर गयी और ऐसी उत्तरी कि आज तक रेत और कीचड़ में फँसी है, इसके विकास का नारा आज के दिन खुद प्रधानसेवक को याद नहीं रहा है, प्रधानसेवक को जहाँ भी मौका मिलता है वह ‘संघ परिवार’ के विनाशकारी एजेंडे को आगे बढ़ाते नज़र आते हैं, प्रधानसेवक की देखी देखा उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी ‘संघ परिवार’ के एजेंडे को अपना और मुस्लिम पहँचान को मिटाने में जुट गयी, ‘ख़रबूज़े’ की देखी देखा ‘तरबूज़े’ रंग दिखाने लगे हैं, अब शिवसेना ने महराष्ट्र सरकार से मांग की है कि वह औरंगाबाद, उस्मानाबाद, ख़लीलाबाद के नाम बदले, शिवसेना की मांग का समर्थन मुसलमानों में अपनी बेटी ब्याहने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुभ्रमनियम स्वामी ने भी की है|