सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान कहां हैं?

Posted by

सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान को लेकर अब सऊदी अरब और विशेषकर राजकुमारों में सुगबुगाहट होने लगी है।

कुछ पश्चिमी मीडिया ने ऐसी रिपोर्टें देना शुरू कर दिया है कि आले सऊद शासन के युवराज मोहम्मद बिन सलमान 21 अप्रैल 2018 को रियाज़ में स्थित रॉयल पैलेस में हुई गोलीबारी में गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।

पश्चमी मीडिया की रिपोर्टों के अनुसार सऊदी अरब के शाही महल में 21 अप्रैल को हुई गोलीबारी से पहले आले सऊद शासन के युवराज मोहम्मद बिन सलमान दुनिया भर के मीडिया की सुर्ख़ियां बने हुए थे, लेकिन 21 अप्रैल की घटना के बाद से उनका कुछ अतापता नहीं चल रहा है। पश्चिमी मीडिया के अनुसार ट्रम्प द्वारा ईरान के साथ परमाणु समझौते के समाप्त किए जाने के बाद सबको यह उम्मीद थी कि सऊदी युवराज मीडिया के सामने आएंगे लेकिन उनकी किसी भी तरह की कोई प्रतिक्रिया न आने के बाद अब उनके घायल होने की अफ़वाहों को बढ़ावा मिल रहा है।

सऊदी अरब के प्रसिद्ध ब्लॉगर मुज्तहिद और सरकार विरोधी कुछ वरिष्ठ नेताओं ने दावा किया है कि 21 अप्रैल को आले सऊद के शाही महल पर अज्ञात हमलावरों की गोलीबारी में सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान गंभीर रूप से घायल हो गए थे। जबकि कुछ सऊदी राजकुमारों का कहना है कि घायल मोहम्मद बिन सलमान को अमेरिकी सैनिक किसी सुरक्षित स्थान पर लेकर गए हैं और ज़्यादा संभावना यह है कि सऊदी युवराज का इस्राईल में इलाज चल रहा है।

मध्यपूर्व के मामलों के अधिकतर जानकारों का भी मानना है कि सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान, जो अरब दुनिया के नेता होने का दावा करते हैं, उनका अचानक ऐसे ग़ायब हो जाना काफ़ी आश्चर्यजनक है, विशेष रूप से ईरान का परमाणु समझौता और उसके बाद लेबनान के संसदीय चुनाव में हिज़बुल्लाह की भारी जीत, इराक़ में हुए आम चुनाव के परिणाम और बैतुल मुक़द्दस में अमेरिकी दूतावास का स्थानांतरित होना, यह सभी ऐसी महत्वपूर्ण घटनाएं हैं जिनपर मोहम्मद बिन सलमान की ओर से कोई प्रतिक्रिया न आना उन अफवाहों को बल देता है जिनमें यह कहा जा रहा है कि सऊदी युवराज 21 अप्रैल की घटना में गंभीर रूप से घायल हो चुके हैं।

एक वरिष्ठ अरब टीकाकार का कहना है कि पिछले दो सालों से, सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और व्हाइट हाउस के अधिकारियों को इस बात के लिए राज़ी करने का प्रयास कर रहे थे कि वॉशिंग्टन ईरान के साथ हुए समझौते से बाहर निकल जाए और इसी संदर्भ में उन्होंने दो बार अमेरिका का दौरा भी किया। लेकिन यह बात आश्चर्यजनक है कि ट्रम्प के इतने बड़े फ़ैसले के बाद जहां पूरी दुनिया प्रतिक्रिया दे रही है मोहम्मद बिन सलमान चुप्पी साधे हुए हैं।