सिर्फ पुरुष ही नहीं महिलायें भी मास्टरबेट करती हैं : रिपोर्ट

Posted by

एक नार्मल सी फिल्म ‘वीरे दी वेडिंग’, जो 4 बेहद अमीर लड़कियों की दोस्ती की बेहद साधारण कहानी है, में ऐसा कुछ भी खास या अनोखा नहीं था कि उसको ऐसी बॉक्स ऑफिस सफलता मिलती| स्वरा भास्कर के बोल्ड डायलॉग और एक बेहद बोल्ड कहा जा सकने वाला हस्तमैथुन सीन| जी हां, बेहद बोल्ड, भारतीय सभ्यता के हिसाब से तो ज़रूर ही बेहद बोल्ड सीन, क्यूंकि यहाँ पर हम सेक्स को ही डिस्कस नहीं करते और यह तो लड़कियों के हस्तमैथुन जैसे संवेदनशील टॉपिक को छूता है|

स्वरा भास्कर को इस सीन के लिए सोशल मीडिया पर बहुत सारी गालियां और बद-दुआएं मिल रही हैं| लेकिन ऐसा हंगामा मचाना कहां तक उचित है? क्यों एक महिला का मास्टरबेशन अश्लीलता की श्रेणी में ला कर पटक दिया गया है? क्यों हम समाज की इस सच्चाई को स्वीकार नहीं करना चाहते कि सिर्फ पुरुष ही नहीं महिला भी अपनी सेक्सुअल सेटिस्फैक्शन के लिए मास्टरबेट करती हैं| यह उतना ही सच है जितना कि महिलाओं का पोर्न देखना| इस सच्चाई को हमें एक्सेप्ट करने में झिझक क्यों है?

स्वरा ने फिल्म पद्मावत में औरतों को योनि मात्र समझने के बयान से जो विवाद शुरू किया था वो उनके मास्टरबेशन सीन से तूल पकड़ चुका है| लोगो का मानना है कि ऐसा ‘फेमिनिज़्म’ के नाम पर ऐसा घटिया सीन करके स्वरा ने अपने बयान की ही बेइज़्ज़ती की है| इस सीन के बाद, उन्होंने खुद महिलाओं को योनि मात्र करार कर दिया है|

लेकिन क्या यह सब विवाद सही है? क्या अब भारतीय समाज को सच स्वीकार नहीं कर लेना चाहिए| सेक्स और सेक्सुअल फीलिंग कब तक पर्दों के पीछे छुपकर सांस लेती रहेगी| हम सभी जानते हैं कि भारत ही क्या विश्व के हर कोने में मर्द और औरत दोनों ही कभी ना कभी, किसी ना किसी हालात में हस्तमैथुन कर चुके हैं, तो फिर फिल्म के एक सीन पर इतना हंगामा क्यों? क्यों हम अब भी एक महिला को इस तरह खुले तौर पर अपनी सेक्सुअल ज़रुरत के लिए उठाये गए कदम को अश्लीलता की निगाह से देखते हैं? क्यों सेक्सुअली एक्सप्रेसिव महिला हमेशा कैरेक्टरलेस कहलाती है और एक पुरुष बोल्ड कहा जाता है?

आखिर क्यों हम महिला और पुरुष की ज़रूरतों को अलग – अलग तौलते हैं? एक पुरुष पेशाब करने के लिए कही भी खड़ा हो जाता है और उसे कोई अश्लील नहीं कहता, उसकी तरफ किसी का ध्यान ही नहीं जाता लेकिन अगर यही हरकत एक महिला कर दे तो वो बहस का मुद्दा, न्यूज़ की हेडिंग बन जाती है| समाज के इस दोगलेपन पर एक प्रश्न है ‘वीरे दी वेडिंग’ का हस्तमैथुन सीन और हम स्वरा भास्कर को इसके लिए कोस रहे हैं|

आखिर कौन है जो मास्टरबेट नहीं करता? या जिसने जीवन में कभी भी ऐसा नहीं किया है? मजाक में एक बात कही जाती रही है कि 98% पुरुष हस्तमैथुन करते हैं और बचे हुए 2% हस्तमैथुन करते तो हैं पर स्वीकार नहीं करते| लेकिन 2009 में किया गए एक सर्वे के अनुसार 61% पुरुषों ने हस्तमैथुन करना स्वीकार किया और महिला के सन्दर्भ में यह आंकड़ा भी 38% था|

2013 में हुए एक सर्वे के अनुसार 85% शादीशुदा पुरुषों ने शादी के बाद भी हस्तमैथुन करना स्वीकार किया है| 15% पुरुषों ने माना कि उनकी पत्नियों को उनके इस हरकत का पता है और 17% ने बताया कि उनकी पत्नियों को इस बात की जानकारी बिलकुल नहीं है| किसी भी सर्वे ने शादीशुदा महिलों पर ऐसा कोई सर्वे नहीं किया लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह बात शादीशुदा महिला पर लागू नहीं होती|

महिलाओं पर हुए एक सर्वे में यह बात निकल कर आयी कि 15 साल से बड़ी लड़कियों और महिलाओं ने अपने जीवन में कभी ना कभी हस्तमैथुन ज़रूर किया है| महिलाओं में हस्तमैथुन को लेकर एक वेब पोर्टल एजेंट्स ऑफ़ इश्क़ ने एक सर्वे में 100 भारतीय महिलों से बात की थी जिनमें से 17% महिलाओं ने माना की उन्होंने हस्तमैथुन के लिए पुराने नोकिया 3310 फोन का इस्तेमाल किया है|

भारत या विश्व की महिलाएं हस्तमैथुन से सिर्फ परिचित ही नहीं बल्कि सेक्सुअल प्लीजर के लिए खुल कर इसका उपयोग करती हैं तो एक बेहद साधारण सी बॉलीवुड फिल्म के एक बेहद नार्मल से सीन को लेकर विवाद को ऐसा तूल देना बेहद दुःखद है|

अगर किसी को इस फिल्म के बारे में बुराई करना ही था तो स्वरा भास्कर के डायलॉग और सीन से ज्यादा सोनम कपूर की एक्टिंग की करते, फिल्म की बेसिर पैर की कहानी पर करते| जाने अनजाने में ट्रॉल्स ने इस फिल्म की इतनी पब्लिसिटी कर दी कि एक फ्लॉप फिलोम सुपरहिट हो गयी|

========

क्‍या महिलाओं के लिए मास्‍टरबेट करना अच्‍छा नहीं होता ?
सेक्स की इच्छा बढ़ जाने के कारण महिलाएं अकसर मास्टरबेट यानी हस्तमैथुन करती हैं, लेकिन वे इस बात को लेकर परेशान नज़र आती हैं

1 – मास्‍टरबेट यानी हस्‍तमैथुन को लेकर हमारे मन में ढेरों सवाल और जिज्ञासाएं होती हैं. उनमें से एक सहज जिज्ञासा यह भी है कि क्‍या लड़कियों के लिए मास्‍टरबेट करना बुरा होता है.

2 – यौनेच्‍छा यानी सेक्‍स की इच्‍छा बहुत सहज और प्राकृतिक है. सामाजिक बंधनों और रूढि़यों के बावजूद सच यह है कि स्त्रियों में भी यह इच्‍छा कम नहीं होती.

3 -ये आपके शरीर को रिलेक्स करने में मदद करता है. इसे करने के बाद अच्छी नींद आती है. ये आपके शरीर को रिलेक्स करने में मदद करता है. इसे करने के बाद अच्छी नींद आती है.

4 – जब आपका पार्टनर दूर हो या आप सिंगल हों तो हस्तमैथुन करके खुद को सेटिस्फाइड कर सकती हैं. इससे आप तनावमुक्त महसूस करेंगी. जब आपका पार्टनर दूर हो या आप सिंगल हों तो हस्तमैथुन करके खुद को सेटिस्फाइड कर सकती हैं. इससे आप तनावमुक्त महसूस करेंगी.

5 – मास्‍टरबेट करने से शरीर में एंडॉरफिन्स डोपामाइन और ऑक्सीटोसिन हॉर्मोन रिलीज होते हैं, जिसके कारण ऑर्गज्‍म का एहसास होता है. यह एक सुखद एहसास है, जो खुशी देता है.

6 – इससे महिलाओं में आत्मविश्वास आता है. वे अपने काम में बेहतर प्रदर्शन कर पाती हैं. इससे महिलाओं में आत्मविश्वास आता है. वे अपने काम में बेहतर प्रदर्शन कर पाती हैं.

7 – कई लोगों को हस्तमैथुन करने से पीरियड्स के दौरान कम दर्द होता है. यदि आपको भी ऐसा ही महसूस होता है तो हस्तमैथुन आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकता है.

9 – हस्तमैथुन करने का तब तक कोई भी नकारात्मक असर नहीं पड़ता है जब तक इसकी अति न हो जाए. वैसे भी कहते हैं न कि अति किसी भी चीज की अच्‍छी नहीं होती.

9 – हस्तमैथुन से खून का प्रवाह बढ़ता है और बॉडी फ्री हो जाती है. इसे करने के बाद शरीर में नई ऊर्जा महसूस होती है. और हां, सबसे बड़ी बात कि मास्‍टरबेट करने को लेकर किसी भी तरह का अपराध बोध मन में न पालें. यह बहुत सहज स्‍वाभाविक है. आप कुछ गलत नहीं कर रहीं, सिर्फ खुद से प्‍यार कर रही हैं. खुद से प्‍यार करना अच्‍छी बात है.

=====