#स्मृति मल्होत्रा के स्मृति_ईरानी बनने की कहानी जानिये!#हवेली_जिंदाबाद..!!VIDEO!!

Posted by

शायद ही कोई जिसे ”क्यूंकि सास भी कभी बहु थी……टीवी पर आने वाला सीरियल याद न हो, इस सीरयल में ‘तुलसी वीरानी का किरदार निभाने वाली चर्चित अभिनेत्री आज भारत की वरिष्ठ मंत्री हैं जिनका नाम है स्मृति_ईरानी| स्मृति_ईरानी आज देश की नामवर महिला नेत्री हैं, वह जब सदन में बोलती हैं तो सदन थरथराने लगता है, उनके बोले हुए संवाद सुन कर कई बार फ़िल्मी संवादों का धयान आ जाता है, एक सवाल के जवाब में जब उन्होंने कहा था ‘हम अपना सर कलम कर के आप के क़दमों में रख देंगे’,,,याद ही होगा को सुन कर धर्मेंद्र की सुपर, डुपर फिल्म धर्मवीर याद आगयी थी जिसमे धर्मेंद्र एक बूढ़ा आदमी बन कर गए जीतेन्द्र के साथ साधु बन कर महल गए थे और ज़ीनत अमन जो कि राजकुमारी हैं से कहते हैं ‘तो हम अपना सर काट के आप के क़दमों में रख देने, फिर उसे ठोकर मारते रहिये, मारते रहिये,,,”,,,अदाकारी स्मृति_ईरानी के बहुत काम आयी है, सदन की चर्चा में यह साफ़ देखने को मिल जाता है|

स्मृति_ईरानी भारत की कैबनिट मंत्री हैं लेकिन यह सरकार और जनता दोनों के लिए बड़े ही शर्म का मुकाम है कि देश की एक वरिष्ठ महिला मंत्री की गन्दी तस्वरें गूगल पर पड़ी हैं, सरकार को चाहिए था कि इन्हें शिकायत कर के हटवाती मगर खुद प्रधानमंत्री भी गूगल पर ‘मोस्ट वांटेड अपराधियों’ की लिस्ट में टॉप पर विराजमान हैं|

यहाँ पढ़िए स्मृति_ईरानी के संघर्ष से सत्ता रक् की कहानी

NiYaz Khan
============
#स्मृति_ईरानी……..!!

स्मृति ईरानी का नाम पहले स्मृति मल्होत्रा था स्मृति ईरानी का पुराना समय बहुत ही तंगी और गरीबी में बीता था, स्मृति इरानी अपने पुराने समय में मॉडलिंग किया करती थी वह मॉडलिंग से मिलने वाले पैसे से खर्च पूरा नहीं हो पाता था जिस वजह से उन्हें रेस्तरां में काम करने की भी नौबत आ गई थी इसी दौरान स्मृति ईरानी कि दोस्ती एक महिला से हो गई यह महिला बहुत ही ज्यादा रहीस खानदान से थे उनकी दोस्त से देखा नहीं जाता था इसी के चलते एक दिन वही रईस दोस्त स्मृति ईरानी को अपने घर ले आए बस यहीं से स्मृति ईरानी की जिंदगी में बदलाव आना शुरू हो गया रईस महिला बहुत ही सीधी साधी और साफ दिल की थी वह स्मृति को अपनी बहन मानती थी.

जिस रहीस खानदान की महिला ने स्मृति ईरानी को अपना दोस्त बनाया था उनका नाम मोना ईरानी था मोना अरबपति खानदान की बहू थी और उनकी एक बेटी थी वह समय ऐसा था जब स्मृति मल्होत्रा बहुत परेशान थी अपने जीवन को लेकर स्मृति के पास कई बार फ्लैट का किराया देने का पैसा भी नहीं हुआ करता था और यह उनकी दोस्त से देखा नहीं जाता था इसी के चलते एक दिन वही रईस दोस्त स्मृति ईरानी को अपने घर ले आए.

स्मृति ईरानी अब अपनी रईस दोस्त मोना के साथ उनके घर पर ही रहने लगी लेकिन जब स्मृति को पता लगा कि मोना के प्रति बहुत ही रहीस खानदान से हैं जोकि टाटा खानदान से हैं उनकी रिश्तेदारी #Godrej और टाटा खानदान से है वह हैरान रह गई, इसी के बाद से स्मृति ने धीरे-धीरे जुबिन ईरानी जो कि मोना के पति थे उन्हें अपने प्यार के जाल में फंसाना शुरू किया और मोना ईरानी की बसी बसाई गृहस्थी उजाड़ डाली,फिर उसके बाद स्मृति ईरानी ने राजनीति मे कदम रखा और 2003 “भाजपा” की सदस्यता ग्रहण की और दिल्ली की चांदनी चौक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ी और हार गयी, उसके बाद महाराष्ट्र यूथ विंग उपाध्यक्ष बनी तो कभी राष्ट्रीय सचिव बनी तो कभी भाजपा महिला मोर्चा का कमान मिली, फिर 2011 मे गुजरात से राजसभा से सांसद बनी फिर उसी वर्ष हिमाचल प्रदेश मे महिला मोर्चा की कमान मिली और फिर 2014 में अमेठी से चुनाव लड़ी और वहा भी हार गयी उसके बाद भी भारतीय जनता पार्टी ने उनको केंद्र में सरकार बनने के बाद #मानव_संसाधन_विकास_मंत्री बना दिया

“वजह”
#हवेली_जिंदाबाद……..!!!😉😉😉

===========
स्मृति_ईरानी की शिक्षा को लेकर भी विवाद चल रहा है, उनके सिवा कोई नहीं जानता है कि उन्होंने कहाँ से और कितनी शिक्षा प्राप्त की है, कुछ ऐसा ही मामला प्रधानमंत्री मोदी का भी उनकी शिक्षा के बारे में देशभर में उनके आलावा किसी को नहीं पता है कि प्रधानमंत्री कहाँ से और कितना पढ़े लिखे हैं, प्रधानमंत्री और स्मृति_ईरानी दोनों का नाम विवादों से जुड़ा है, दोनों ही आज देश के दिग्गज हैं, इसी को किस्मत कहते हैं, वार्ना तो हेमा मालिन जैसी बड़ी अभनेत्री और चुनाव जीती हुई नेत्री केवल आज भी एक सांसद ही हैं, अगर देखा जाये तो स्मृति_ईरानी किसी भी स्तर पर ड्रीम गर्ल हेमा मालिन के सामने नहीं ठहरती हैं मगर जब प्रधानमंत्री जिसे चाहेंगे मंत्री तो वही बनेगा इसमें क़ाबलियत की कोई ज़रूरत भी नहीं है|

======

मैकडॉनल्ड्स में झाड़ू मारने से लेकर देश की Textile मिनिस्टर बनने तक

टीवी इंडस्ट्री की सबसे पॉपुलर बहु और मोदी सरकार की मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति इरानी आज कल खूब चर्चा में हैं। स्मृति ने हाल ही में लोकसभा में जो स्पीच दी उसके बाद तो मानो लोग फिर से उनके फैन बन गए हैं। एक ज़माने में टीवी सीरियल देखने वाली हाउसवाइव्स की फेवरेट समृति आज बच्चे बचे की जुबां पर हैं। सोशल मीडिया हो या whatsapp लोग स्मृति की तारीफ करते नहीं थक रहे। जिस तरह स्मृति ने लोकसभा में विपक्षियों को तगड़ा जवाब दिया है वो वाकई तारीफ़-ए-काबिल हैं

स्मृति ने कम समय में पॉलिटिक्स दुनिया में आज अच्छा मुकाम हासिल कर लिया है। स्मृति की चर्चा आज चारो तरफ है। लेकिन स्मृति की ज़िन्दगी हमेशा से ऐसी नहीं थी। उन्होंने खूब मेहनत और स्ट्रगल किया है। उनके इस कामयाबी को पाने के लिए कोई शोर्टकट नहीं चुना। ऐसे में हमने सोचा क्यों न आज आपको स्मृति के बारे में वो सब बयाता जाए जो आप शायद नहीं जानते।

# स्मृति ईरानी घर चलाने के लिए 10 वीं के बाद से से काम करने लगी थी। उन्हें एक ब्यूटी प्रोडक्ट को प्रमोट करने के लिए सिर्फ 200 रुपये मिला करते थे।

# स्मृति एक बंगाली-पंजाबी परिवार से हैं। उनके पिता पंजाबी-महाराष्ट्रियन हैं और माँ बंगाली-आसामी।

# स्मृति का सपना हमेशा से पत्रकार बनने का था लेकिन जब एक जर्नलिस्ट ने उन्हें इंटरव्यू में रिजेक्ट किया तो उन्होंने ये ख़याल हमेशा के लिए अपने मन से निकाल दिया।

# 1998 में स्मृति ने फेमिना मिस इंडिया में हिस्सा लिया और वो फाइनलिस्ट भी थी लेकिन वो कम्पटीशन नहीं जीत पाई।

# स्मृति एक अच्छी डांसर भी हैं। वो मिका सिंह के साथ एक म्यूजिक एल्बम में ठुमका भी लगा चुकी हैं।

# 2000 में स्मृति की किस्मत पूरी तरह से बदल गयी जब एकता कपूर ने उनको एक शो में स्पॉट किया और उन्हें टीवी शो ‘क्योंकि सास भी कभी बहु थी” में लीड कास्ट किया।

# 2001 में स्मृति ने अपने बचपन के दोस्त ज़ुबीन ईरानी से शादी की जो पहले से शादी शुदा थे। स्मृति के के दो बच्चे हैं ज़ोहर और ज़ोइश। स्मृति की एक सौतेली बेटी भी है शनेल।

# स्मृति ने 2 टीवी शो ‘विरुद्ध’ और ‘थोड़ी सी ज़मीन और थोडा सा आसमान’ प्रोड्यूस भी किया है।

# स्मृति का राजनेतिक कैरियर 2003 में शुरू हुआ जब उन्होंने BJP की सदस्यता ग्रहण की और दिल्ली के चांदनी चौक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ी।

# साल 2011 में वो गुजरात से राज्यसभा की सांसद चुनी गयी और इसके बाद जो हुआ वो सब जानते हैं।

(तस्वीरें: Google)

=======

=============

Pic Souce : google

Teesri Jung Hindi not responcible for any controvery, claim, all sources given here