हार्ट फ़ेल होने पर अब नहीं होगी मौत, वैज्ञानिकों को मिली बड़ी क़ामयाबी

Posted by

न्यूयॉर्क।हार्ट फेल होने की स्थिति में स्टेम सेल का प्रयोग किया जा सकेगा. इससे जुड़े एक अहम शोध में वैज्ञानिकों के हाथ बड़ी सफलता लगी है.

शोध में कहा गया है कि हार्ट फेल्योर ( हृदय गति का रुकना) वाले लोगों में दिल की गति को बहाल करने के लिए स्टेम सेल का संभावित तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है.

इस शोध के नतीजों का प्रकाशन पत्रिका ‘नेचर बॉयोटेक्नोलॉजी’ में किया गया है. शोध की रिपोर्ट बंदरों पर अध्ययन के आधार पर तैयार की गई है. इसमें कहा गया है कि स्टेम सेल के इलाज से हार्ट फेल्योर वाले अफ्रीकी बंदरों में दिल सामान्य से 90 फीसदी बेहतर तरीके से काम करने की संभावना दिखी.

वॉशिंगटन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर चार्ल्स चुक मुरी ने कहा, ‘हार्ट फेल्योर से दुनिया भर में एक करोड़ लोगों की मौत होती है. यह रक्त प्रवाह के रुक जाने की स्थिति से होता है. स्टेम कोशिकाएं नई मांसपेशियां बनाने में मदद करेंगी, जो दिल से जुड़ेगी और फिर से रक्त का प्रवाह तेजी से होने लगेगा’.

मुरी ने कहा, ‘हमारे निष्कर्षों से पता चलता है कि मानव भ्रूण स्टेम सेल-कार्डियोमायसाइट्स से उत्पन्न होता है, जिनसे फिर मांसपेशी बनाई जा सकती है, जो कि अफ्रीकी बंदर के दिल में हृदय की गति को बहाल कर सकते हैं. यह दिल के रोगियों को उम्मीद बंधाती है’.
(एजेंसी से इनपुट)