‎ज़ी न्यूज़ ने किया कैराना उपचुनाव के समय मुस्लिम महिलाओं के बुर्के पर तंजिया हमला और अपमान

Posted by

Sikander Kaymkhani‎
===================
ज़ी न्यूज़ ने किया कैराना उपचुनाव के समय मुस्लिम महिलाओं के बुर्के पर तंजिया हमला और उनकी निजी गरिमा का अपमान

तालिबान से जोड़ कर चैनल उकसा रहा है कि मुस्लिम महिलाओं पर हों हमले

ये धार्मिक भावनाओं और मूल अधिकार पर है चोट

हम क्या पहनेंगे इस को आरएसएस नहीं तय करेगा
*******************

FIR की तैयारी हो रही है।

मैं सिर्फ इतना ही कहूंगा कि कुरान पाक में यह नहीं लिखा है कि बुर्का की बनावट या रंग कैसा होगा। मक़सद सिर्फ पर्दा करना है जिस से की बुरी नज़र से बचा जा सके।

लोगों ने अपने देश काल और संस्कृति के अनुसार बुर्का का डिज़ाइन और रंग बना लिया है।

अफगानिस्तान से ही मुग़ल भारत आये थे तो खान पान और पहनावा साथ आया। उस में नए डिज़ाइन बदलते रहे । shutter cock शब्द एक तंज़ के तौर पर गैर मुस्लिमों ने दिया है उस बुर्के के एक खास डिज़ाइन को।

सुधीर चौधरी को आज का कैराना नज़र आ रहा है , और ये बेवकूफ इस खास डिज़ाइन के बुर्के को तालिबान से जोड़ रहा है। ये बुरका तब से है जब अफगानिस्तान से मुसलमान यहाँ आये, जब की तालिबान तो अफगानिस्तान की राजनीति में शायद 1980 के बाद आये हैं।

भारत में बहुत मुस्लिम महिलाएं है जो बुरका नहीं पहनतीं हैं और उन पर कोई ज़ोर नहीं देता कि आप को पहनना लाज़िम है।

सुधीर चौधरी ने तालिबानी कह कर पूरे मुस्लिम समाज और खास कर ऐसा बुरका पहनने वाली महिलाओं का अपमान किया है जो नहीं जानतीं कि तालिबान है क्या।?

तालिबानी कह कर सुधीर चौधरी मुसलमानो को कट्टर और दूसरे शब्दों में आतंक का समर्थक कहना चाहता है। वो ऐसा माहौल बनाना चाहता है कि बुरका पहने वाली महिलाओं पर लोग हमला करें उनको तालिबानी कह कर।

इस तरह का सांप्रदायिक माहौल बनाना उन का मक़सद है। चौधरी दरअसल उकसावा दे रहा है। कुछ समय में मुस्लिम महिलाओं पर जो बुरका या हिजाब पहने हों, पर हमले भी शुरू हो सकते है।

चौधरी ने चुनाव आचार सहिंता का भी उल्लंघन किया है क्यों की 73 बूथों पर वोटिंग बाकी थी। हम चुनाव आयोग को भी शिकायत कर रहे हैं, और प्रेस कौंसिल को भी।

FIR दर्ज कराई जाएगी क्योंकि
सुधीर ने मुसलमानो की धार्मिक भावनाओं और मूलाधिकारों पर चोट की है।

तस्वीर में हैं भोपाल नवाब घराने की बेगम शाहजहाँ, जो अफगानी शैली का ही बुर्का पहनतीं थीं, जो उस वक़्त चलन में बुर्के का लोकप्रिय डिज़ाइन था।