23 के नतीजे को लेकर तड़ीपार परेशान है!

23 के नतीजे को लेकर तड़ीपार परेशान है!

Posted by

Chandra Prakash Rai

हा हा हा हा , जियो राजा

अक्सर मीडिया वाले बनारसियों का इंटरव्यू लेते हैं लेकिन अजीब बयानबाजी के चलते एडिटिंग करनी पड़ती है, जैसे –

आपका नाम ?

बनारसी – तोहसे मतलब नाम जान के का करबा ?

आप करते क्या हैं ?

बनारसी – उ कविता सुनले हउआ,
अजगर करे न चाकरी पंछी करे न काम और बनारसी करे लगी काम त हो जाई भैया झाम !

आपके बनारस में सैलानी आते हैं जिसमें स्टार और नेता होते हैं। कैसा लगता है आपको ?

बनारसी – होइहैं उ सब नेता अपने हियाँ, हमहन खुदे स्टार हई।

अच्छा आप न्यूज चैनल कौन सा देखते हैं ?

बनारसी – हम चूतिया हैं जो न्यूज़ चैनल देखेंगे ? मार के बबवा क चिलम, छान के भाँग हम खुदे बीबीसी लंदन बन जाई ला ।

अच्छा ये बताइये गलियों में इतनी गन्दगी क्यों है ?

बनारसी – देखा भाय इहाँ बस गली में ही गन्दगी हौ। दिमाग में एकदम शुद्धता भरल हौ ।

आप लोग इतना पान क्यों खाते हैं ?
बनारसी – और हम पूछीं कि तुम सब साँस काहें लेते हो तब ?

अच्छा ये बताइये बनारस में जाम लगने की विशेष वजह क्या है ?

बनारसी – अब तोहरे जइसन आलतू-फालतू लोग अइहैं त जाम लगबे करी ।

अच्छा आप इस बार वोट किसको करेंगे ?

बनारसी – कौनो के देदेब, तोहसे मतलब ?

#जियो_बाबा बनारसी

Rashtriya Janata Dal

Verified account

@RJDforIndia

तड़ीपार परेशान है!

23 के नतीजे को लेकर
और
24 के बिहार में NDA के भूचाल को लेकर!

कुछ तो मालूम पड़ा है उसे….

 


Jitendra Narayan

एक तरफ़ अमित शाह के गुंडों द्वारा समाज सुधारक और आधुनिक विचारों के वाहक ईश्वरचन्द्र विद्यासागर के मूर्ति को तोड़ा जाना…दूसरी तरफ़ कमल हासन द्वारा नाथूराम गोड्से को देश का पहला आतंकी कहे जाने पर भाजपा द्वारा विरोध किया जाना…

क्या अब भी भाजपा के असली आतंकी चाल-चरित्र के बारे में कोई शक रह गया है…???

Jitendra Narayan

पश्चिम बंगाल जैसी स्थिति देश को विखंडन की ओर ले जा सकती है…जिसके लिए केवल नरेन्द्र मोदी और अमित शाह ही नहीं,बल्कि चुनाव आयोग और सर्वोच्च न्यायालय समान रुप से दोषी होंगे…!!!

तत्कालीन राज्यपाल जगमोहन के नेतृत्व में 1987 के चुनाव में की गई व्यापक धाँधली ने ही कश्मीर में अलगावाद की चिंगारी को भड़काने का काम किया था…!!!

Tauqeer Khan
#लोकसभा ग़ाज़ीपुर ____ वोट पड़ेगा मुस्लिम मतदाता 95% गठबन्धन
यादव 85 % गठबन्धन
दलित 90% गठबन्धन
टोटल 4.5 लाख
#कुशवाहा 50 % बीजेपी बाकि 30% #बाबु सिंह कुशवाहा के साथ बाकि 15 से 20 % गठबन्धन के साथ
#राजभर 40% बीजेपी 40% ओमप्रकाश राजभर के साथ बाकि गठबन्धन
बिन्द। 60% बीजेपी
भूमिहार 80% बीजेपी
ठाकुर 70%बीजेपी
बाकि जातियों का बचा हुआ वोट 65 %बीजेपी
बीजेपी का वोट हुआ 3 लाख __#काम ख़त्म
गठबन्धन 4.5 + 1 लाख अदर=5.5 लाख
गठबन्धन का जीत 2 से ढाई लाख की #मार्जिन
जाती समीकरण सच्चाई है #विकाश जाय #गांजा पिने !
अब #फैसला बचे हुए लोगों को करना है कि #जीत के साथ रहना है या #हार के साथ जाना है !


udhir Sankrityayan

उसने क्या कहा, झूठ बोला या फेंका इसमें उलझ कर समय बर्बाद करने की कोई जरूरत नहीं । उसकी तो चाल यही है कि आप व्यर्थ की बातों में उलझे रहें और वो अपना काम करता रहे।
व्यर्थ के बातों में समय बेकार करने से बेहतर है जनता के मुद्दों को थामे रहें…
राजनीति कहती है..चर्चा बनी रहनी चाहिए चाहे आप विख्यात हों या कुख्यात ,और वो घुटा हुआ घाघ राजनेता है।

Jitendra Narayan

अधिकारियों ने कहा कि नोटबंदी न करो, तो नहीं सुना…

लेकिन कोई गाली दे देता है तो तुरंत सुन लेते हैं और दोहराते रहते हैं…

डाक्टर तबरेज़ राजपूत
सिद्धार्थनगर में evm की हेराफेरी यह दर्शाता है कि चुनाव आयोग की इसमें मिलीभगत है – भला हुआ चौकीदार चोरी करता हुआ पकड़ा गया

 

Disclaimer : लेख सोशल मीडिया में वॉयरल है, लेखक/लेखिका के निजी विचार हैं, तीसरी जंग हिंदी का कोई सरोकार नहीं है!