VIDEO : मोदी के चेहरे पर उदासी, नाउम्मीदी थी, आँखों में ख़ौफ़ था, बोलने के लिए शब्द नहीं थे : ये होने वाली हार का परिणाम है

VIDEO : मोदी के चेहरे पर उदासी, नाउम्मीदी थी, आँखों में ख़ौफ़ था, बोलने के लिए शब्द नहीं थे : ये होने वाली हार का परिणाम है

Posted by

बंगाल में मोदी की जहरीली भाषा सुनिए, तो पता चलेगा कि वे किस दिशा में जा रहे हैं। एक प्रधानमंत्री जो विकास की बात करता था, चुनाव खत्म होते-होते विशुद्ध रूप से धार्मिक रंग में रंग गया। चेहरे के भाव देखिए, सत्ता जाने की कसक साफ दिखाई देगी।

Sanjay Singh AAP

Verified account

@SanjayAzadSln

मीडिया के कुछ मित्र ये फ़ोटो देख कर रोने लगे थे इन्हें गांधी का दूसरा अवतार मानने लगे थे, आज कहाँ हैं ये महानुभाव? गांधी के इस अनुयायी ने प्रज्ञा ठाकुर को अब तक अपनी पार्टी से निकाला क्यों नही? क्या कोई मीडिया का बहादुर इनसे सवाल पूछने की हिम्मत करेगा?

Hira lal MeenaINC

@HiraLALMeenainc

सिर्फ़ रोये नहीं, वरना कंठ भरा हुआ था.
चेहरे पर असीम हताशा, उदासी, नाउम्मीदी टंगी हुई थी. मोदी जी के चेहरे को देख कर 23 मई को आने वाले चुनाव परिणाम को समझा जा सकता है।।
#PressConference #PressMeet

जिन्हें ये शिकायत है कि मोदी जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक भी सवाल का जवाब नहीं दिया।

वो अपने दिल पर हाथ रख बोलें कि किसी भी पत्रकार ने मोदी जी के लेवल का एक भी सवाल पूछा था क्या?

जैसे
आम
बटुवा
बादल
रडार
भिखारी
गरीबी
चाय
हिमालय
जंगल ….
😉😉

Joher Siddiqui

प्रेस कॉन्फ्रेंस!

लोकतंत्र में देश की जनता से मज़ाक करना किसे कहते हैं, मोदी ने बख़ूबी समझाया है। आज की हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस पर मुझे घोर आपत्ति है। मोदी अभी तक देश के प्रधानमंत्री है, आप प्रधान पर ज़ोर डाल कर मंत्री भी पढिये, और ये समझिये अमित शाह मात्र भारत की सैकड़ो राजनीतिक दलों में से एक दल के मुखिया हैं।

देश के प्रधानमंत्री से पूछे गए सवालों का जवाब अमित शाह कैसे दे सकते है? या भारत जैसे देश के प्रधानमंत्री किसी राजनीतिक दल के मुखिया को प्रधानमंत्री से पूछे गए सवालों का जवाब देने के लिए कैसे कह सकते है?

क्या इसका मतलब ये मान लिया जाए, भारत सरकार ने जितने भी फैसले लिए है, कांफीडेंशल और नॉन कांफीडेंशल सभी की जानकारी अमित शाह के पास है? क्या ये मान लिया जाए, भारत की सरकार को अमित शाह चला रहे है, देश मे सरकार द्वारा किये गए कामो की सही जानकारी अमित शाह के पास है, प्रधानमंत्री मोदी ने इसी वजह से अमित शाह को जवाब देने के लिए इशारा किया?

मोदी के इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को मैं, मोदी की नाकामी के तौर पर देखता हूँ, इस शख्स ने प्रधानमंत्री रहते हुए देश के लिए क्या किया, इसपर कुछ सवाल का जवाब तक नहीं दे सकते है? जब, जवाब, अमित शाह को ही देना था, फिर प्रधानमंत्री, मोदी क्यों बने? क्या सिर्फ इस लिए की वो जनता के वोट से लोकतंत्र में राजशाही ज़िन्दगी गुज़ार सके?

शायद, भारत के इतिहास में किसी भी प्रधानमंत्री का ये पहला ऐसा प्रेस कॉन्फ्रेंस होगा, जिसमे प्रधानमंत्री के सामने, उनसे पूछे गए सवालों का जवाब, किसी राजनीतिक दल के मुखिया ने दिया है।

देश के लिए इससे ज़्यादा शर्म की बात और क्या होगी!

जान अब्दुल्लाह

वाह मोदी जी वाह, एक ही कलेजा है कितनी बार ठंडा करोगे।

यह देखो मोदी विरोधियों, मोदी जी का मास्टर स्ट्रोक। सीधा 5 लाख युवाओ को रोजगार मिलेगा लेकिन भांड मीडिया आपको कैसे भटका रहा है देखो, हेडिंग में लिखा है कि “5 लाख कर्मियों को बाहर करने की तैयारी”

अरे डूब मरो डूब मरो डूब मरो मेरे देश के अखबार वालो डूब मरो। 55 साल के वृद्ध से 5 साल और काम करवाओगे इस गर्मी में धूल चटवाओगे, मेहनत मजदूरी करवाओगे अब तो काफी कमा लिया होगा, देश सेवा कर ली अब 5 लाख युवाओ को भी तो भर्ती मिलेगी या नही मिलेगी??

55 साल के अंकलों, जाइये चार धाम, उमराह, कर्बला, वेटिकन और ननकाना साहिब जाइये क्या काम काम काम काम।

क्या पैसा पैसा पैसा पैसा, आध्यात्मिकता से सराबोर होईये, आपके लिए मस्त काशी कॉरिडोर बनाया है योगी जी ने , सरदार पटेल की मूर्ति के टॉप पर जाकर देश की ऊंचाई देखिये ( 29 रमज़ान को जाना प्लीज़ ताकि मैं पूछ भी लू कि चाँद हुआ या नही) 2 मूर्ति और बनने वाली है। जाइये लाइफ एन्जॉय कीजिये क्या नौकरी नौकरी नौकरी,

युवाओ को मौका दीजिये 5 लाख युवाओ को नौकरी, वाह मोदी ही मान गए वैसे, कलेजे को इतना ठंडा तो लिक्विड नाइट्रोजन भी नही करता

subashpandey

@subashpandey7

अम्बेदकर की मूर्तिया तोड़ी
लेनिन की मूर्तिया तोड़ी
ईशवरचन्द विद्या सागर की मूर्तिया तोड़ी
अब यह टुकड़े टुकड़े गैग के लोग
राष्टपिता महात्मा गाँधी को गाली दे रहे है
दुख हमे भी होता देश के प्रधान को मिले टाईटिल INDIA’s DIViDER IN CHIEF को सच होते हुये देख रहा हू