‘दिल का हीरा’ भारतीय फ़िल्म जगत के महानतम अभिनेता धर्मेंद्र की शौहरत कम नहीं है, हेमा मालिनी और सनी देओल विजयी

‘दिल का हीरा’ भारतीय फ़िल्म जगत के महानतम अभिनेता धर्मेंद्र की शौहरत कम नहीं है, हेमा मालिनी और सनी देओल विजयी

Posted by


हिंदी फिल्मों में अनेक अभिनेता कलाकार हुए हैं, जिनमे धर्मेंद्र का अपना अलग मुकाम है, धर्मेंद्र की शौहरत कभी कम नहीं हुई, उनकी फिल्मों ने बड़े रिकॉर्ड बनाये हैं, दिलीप कुमार, राज कपूर, देवानंद, मनोज कुमार, राज कुमार से लेकर आज तक के दिग्गज अभिनेताओं के साथ काम करने वाले हीमैन अकेले ऐसे अभिनेता हैं जिन्होंने सबसे अधिक जुबली फिल्में दी हैं, धर्मेंद्र ने अपने समय के सभी बड़े निर्देशकों के साथ काम किया है, उनमे बिमल रॉय, कमाल अमरोही, राजकुमार कोहली, मनमोहन देसाई, प्रकाश मेहरा, अनिल शर्मा, राहुल रवेल, अर्जुन हिहोगरानी के अलवा राज साहब भी शामिल हैं, धर्मेंद्र के ऊपर कभी किसी स्टार, सुपर स्टार का कोई असर नहीं पड़ा, जिस समय राजेश खन्ना अपने चरम पर थे और बड़े बड़ों के तम्बू उखड गए थे अकेले धर्मेंद्र थे जिनकी एक के बाद एक सुपर हिट फिल्मे आती रहे, जुगनू, आज़ाद, मेरा गॉव मेरा देश, चाचा भतीजा, धर्मवीर अनेक नाम हैं जो धर्मेंद्र के करिश्मे को दिखाती हैं, ये ऐसे अभिनेता हैं जो कभी किसी गिरोह में शामिल नहीं हुए, जहाँ रहे अपने काम और अपनी शख्सियत के दम पर रहे, धर्मेंद्र और हेमा मलिन की जोड़ी परदे की सबसे कामयाब जोड़ी है दोनों ने 30 से ज़यादा जुबली फिल्मे दी हैं, धरम जी के पुत्र सनी देओल की बेताब से फिल्म जगत में धमाकेदार एंट्री हुई थी, उन्हें धर्मेंद्र के चाहने वालों ने हाथों हाथ लिया था और सुपर स्टार बना दिया था, फिल्म जगत का ”जुगनू’ सदा चमकता रहेगा


इन लोकसभा चुनावों में बड़े राजनीतिक दलों ने बढ़-चढ़कर फ़िल्मी सितारों पर दांव लगाया था. कुछ सितारे पहले से दलों में शामिल थे तो कुछ को अंतिम समय में लाया गया.

फ़िल्मी सितारों के बयान और चुनाव प्रचार चर्चा में रहे. अब चुनावी नतीजों में उनकी क्या स्थिति है, ये जानते हैं.

बीजेपी ने उत्तर प्रदेश के मथुरा से अभिनेत्री हेमा मालिनी को फिर से चुनाव मैदान में उतारा था. उन्होंने पिछले साल भी मथुरा में जीत हासिल की थी. हेमा मालिनी अपनी सीट पर जीत की ओर बढ़ती दिख रही हैं. वो दो लाख नब्बे हज़ार से ज़्यादा वोटों से आगे चल रही हैं.

चुनाव से कुछ समय पहले ही बीजेपी ने भोजपुरी फ़िल्मों के अभिनेता रवि किशन को गोरखपुर सीट से सीट टिकट दिया था. उनका सामना समाजवादी पार्टी से रामभुआल निषाद और कांग्रेस से मधुसूदन त्रिपाठी से था. रवि किशन इस वक़्त तीन लाख से ज़्यादा वोटों से आगे चल रहे हैं.

आज़मगढ़ में बीजेपी ने भोजपुरी सिनेमा के स्टार दिनेश लाल यादव उर्फ़ निरहुआ को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के सामने उतारा था. लेकिन, यहां साफ तौर पर अखिलेश यादव जीतते दिख रहे हैं. अखिलेश ढाई लाख से ज़्यादा वोटों से आगे हैं.

बॉलीवुड अभिनेता सनी देओल को बीजेपी ने गुरुदासपुर सीट से टिकट दिया था. इस सीट पर अभिनेता विनोद खन्ना लड़ा करते थे. उनकी मौत के बाद अप्रैल में बीजेपी ने सनी देओल पर दांव लगाया.

सनी देओल 82459 वोटों से चुनाव जीत गए हैं.

गायक हंसराज हंस को भी बीजेपी ने अंतिम समय में दिल्ली की उत्तर पश्चिमी सीट से उतारा था. उनसे पहले उदित राज बीजेपी से सांसद थे. लेकिन, उन्हें फिर से मौका नहीं दिया गया. टिकट न मिलने से नाराज़ उदित राज कांग्रेस में शामिल हो गए हैं.

हंसराज हंस भी अपनी सीट पर जीत गए हैं


भोजपुरी फ़िल्मों के अभिनेता मनोज तिवारी 2014 में बीजेपी में शामिल हुए थे. उन्होंने उत्तर पूर्वी दिल्ली सीट बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा और सांसद बने. 2019 के चुनावों में भी मनोज तिवारी जीत की ओर बढ़ते दिख रहे हैं. उन्हें कांग्रेस की शीला दीक्षित को हराया है

समाजवादी पार्टी से बीजेपी में शामिल हुईं जया प्रदा रामपुर में आजम ख़ान के ख़िलाफ़ लड़ रही हैं. वह सपा नेता आजम ख़ान से हार गयी हैं