टप्पल : बच्ची के हत्यारों को ऐसी सज़ा मिलेगी कि यह समुदाय कहीं भी ऐसा काम नहीं कर पाएगा : अलीगढ़ सांसद सतीश गौतम

टप्पल : बच्ची के हत्यारों को ऐसी सज़ा मिलेगी कि यह समुदाय कहीं भी ऐसा काम नहीं कर पाएगा : अलीगढ़ सांसद सतीश गौतम

Posted by

अलीगढ़। अलीगढ जनपद के क़स्बा टप्पल में एक मासूम बच्ची की हत्या का मामला अभी ठंडा होता नज़र नहीं आ रहा है, टप्पल में बच्ची की हत्या के बाद शांत होते माहौल को भाजपा सांसद सतीश गौतम ने अपने बयान से गरमा दिया है। सांसद ने कहा कि बच्ची के हत्यारों को ऐसी सजा मिलेगी कि यह समुदाय कहीं भी ऐसा काम नहीं कर पाएगा। अलीगढ़ में तो कभी नहीं। सांसद के बयान की पूर्व विधायक जमीर उल्लाह ने निंदा करते हुए कहा है कि सांसद का बयान माहौल खराब करने वाला है।

बच्ची के परिवारीजन ने बुधवार को शुद्धि यज्ञ किया था। इसमें सांसद सतीश गौतम ने भी आहूति दी। मीडिया से बातचीत में सांसद ने कहा था कि इस केस की सजा ऐसी नजीर बनेगी कि टप्पल या अलीगढ़ ही नहीं, कहीं भी समुदाय विशेष के लोग ऐसा करने की सोचेंगे भी नहीं। गुरुवार को सांसद ने फिर इस बात को दोहराया। कहा कि अलीगढ़ में तो ऐसा होने नहीं दिया जाएगा।

पूर्व विधायक जमीर उल्लाह ने कहा है कि सांसद ने अपने बयान से मुसलमानों का अपमान किया है। वे उनकी सदस्यता खत्म करने की मांग करते हुए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, लोकसभा स्पीकर व राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग को पत्र लिखेंगे। बच्ची की जिसने भी हत्या की है, उसको सख्त सजा दिलाने की मांग हमने भी की। पीएम मोदी ने सबका साथ, सबका विकास व सबका विश्वास के तहत दूसरी पारी शुरू की है। हम इस मुहिम का स्वागत करते हैं। मोदी के समर्थन पर विचार भी करते हैं, मगर सांसद जिस तरीके से बयानबाजी कर रहे हैं, उससे यह नारा झूठा प्रतीत होता है।

टप्पल में बिटिया 30 मई को लापता हुई थी। दो जून को उसका शव घर से करीब सौ मीटर दूर एक खंडहर में कूड़े के ढेर में छिपा मिला था। परिवारीजन ने दो जून के हिसाब से 11 दिन बाद बुधवार को उसकी आत्मा की शांति के लिए हवन किया। हवन में भीड़ आने की संभावना को देखते हुए आरएएफ की तीन, पीएसी की चार कंपनी के अलावा बाहरी जिलों का पुलिस बल भी तैनात किया गया था।

टप्पल दर्दनाक हादसे की हर तरफ घोर निंदा हो रही है, आरोपियों को सख्त से सख्त सज़ा की मांग उठ रही हैं, पुलिस प्रशासन एक एक कदम अहतयात से उठा रहा है मगर सत्ता पक्ष की तरफ से भड़काऊ ब्यान जिस तरह से आ रहे हैं वो ‘दूर’ की तरफ इशारा करता है, देहातों में गॉंव गॉंव में हिन्दू -मुस्लिम हमेशा से साथ मिल कर रहते आये हैं, ऐसे में टप्पल की घटना को राजनैतिक रूप से ‘गर्म’ रख कर ‘शहर’ की फ़िज़ा बिगाड़ने की कोशिश तो नहीं हो रही है, प्रशासन को नेताओं के टप्पल जाने और भड़काऊ बयान देने वालों के खिलाफ भी कार्यवाही करना चाहिए