अम्बेडकरनगर : 58 हज़ार 591 सूखा प्रभावित किसानों को दो वर्ष से नहीं मिला सूखा राहत का पैसा!

अम्बेडकरनगर : 58 हज़ार 591 सूखा प्रभावित किसानों को दो वर्ष से नहीं मिला सूखा राहत का पैसा!

Posted by

अम्बेडकरनगर। जिले के 58 हजार 591 सूखा प्रभावित किसान दो वर्ष से सरकारी राहत मिलने की उम्मीद लगाए बैठे हैं। वर्ष 2015-16 में सूखाग्रस्त घोषित किए गए जनपद में 1 लाख 74 हजार 660 किसान प्रभावित पाए गए। सत्यापन के बाद उन्हें राहत दिलाने के लिए शासन से 41 करोड़ 57 लाख 59 हजार रुपयों की मांग की गई।

उक्त धनराशि के सापेक्ष शासन से 30 करोड़ 75 लाख रुपये मिले जिसे 1 लाख 16 हजार 59 किसानों में चेक के माध्यम से वितरण किया गया। शेष 10 करोड़ 82 लाख 59 हजार रुपये शासन से अब तक नहीं मिले। इसके चलते 58 हजार 591 किसानों को सूखा राहत धनराशि दो वर्ष बाद भी नहीं मिल सकी।

बारिश के अभाव में वर्ष 2015-16 में किसानों की फसलें बर्बाद हो गईं। इस पर प्रदेश सरकार ने अंबेडकरनगर जिले को सूखाग्रस्त घोषित किया। इससे किसानों को सरकार से आर्थिक मदद मिलने की उम्मीद बंधी। शासन के निर्देश पर सूखे से प्रभावित 1 लाख 74 हजार 660 किसानों की सूची तैयार की गई। जिला प्रशासन ने उसे शासन को भेजकर किसानों को सहायता देने के लिए 41 करोड़ 57 लाख 59 हजार रुपये की मांग की।

मांग के सापेक्ष शासन से 30 करोड़ 75 लाख रुपये जिले को प्राप्त हुए। इस धनराशि को 1 लाख 16 हजार 59 किसानों को चेक के माध्यम से वितरित कर किया गया। बाकी किसानों को आर्थिक सहायता देने के लिए शेष 10 करोड़ 82 लाख 59 हजार रुपये शासन से अब तक नहीं प्राप्त हो सके। इसके चलते 58 हजार 591 किसानों को सूखा राहत का पैसा नहीं मिल सका।

विभागीय आंकड़ाें के अनुसार अकबरपुर तहसील क्षेत्र में 8 हजार 587, टांडा में 11 हजार 31, जलालपुर में 7 हजार 46, आलापुर में 17 हजार 829 तथा भीटी में 14 हजार 98 किसान अब भी सूखा राहत का पैसा मिलने का इंतजार कर रहे हैं। इसके लिए वह जिले के अधिकारियों के दफ्तर के चक्कर लगा रहे हैं। अधिकारी उन्हें सिर्फ आश्वासन दे रहे हैं।