GST में प्रतिदिन 200 रूपये विलम्ब शुल्क लगाए जाने से व्यापारियों में असंतोष!

GST में प्रतिदिन 200 रूपये विलम्ब शुल्क लगाए जाने से व्यापारियों में असंतोष!

Posted by

बाराबंकी । जिला टैक्स बार एसोशिएशन ने आज मुख्य सचिव व वित़मंत्री अरूण जेटली से मांग किया गया कि गुड एण्ड सर्विस टैक्स की 3बी रिर्टन पर लगाया गया विलम्ब शुल्क पूर्ण रूप से असंवैधानिरक है जिसे समाप्त किया जाए।

डिप्टी कमिश्नर प्रशासन वाणिज्यकर रूही सक्सेना को आज जिला टैक्स बार के अधिवक्ताओं ने ज्ञापन देते हुए मांग किया है कि अस्थायी रूप से 3बी पनाल्टी प्रक्रिया को समाप्त किया जाए। क्योंकि अस्थायी रिटर्न होने के कारण उसपर विलम्ब शुल्क लगाना अवैध है। प्रतिदिन 200 रूपये विलम्ब शुल्क लगाए जाने के कारण व्यापारियों में असंतोष व्याप्त है। जबकि प्रशासन ने कई बार कहा है कि कोई भी पेनाल्टी दिसम्बर तक नहीं पड़ेगी।
वरिष्ठ अधिवक्ता मनोज जैन ने कहा व्यापारियों के लिए जीएसटी अभिशाप होता जा रहा है। जीएसटी र्पोटल पूर्ण रूप से फेल हो चुका है, न व्यापारियों को समझ आ रहा न अधिवक्ताओं को। उक्त मांग पर विचार कर समाधान नहीं किया गया तो संगठन कार्यालय पर ही जल्द आन्दोलन करेगा।

मीडिया प्रभारी आलोक श्रीवास्तव ने बताया नेटवर्क बिजी या फेल होने के कारण व्यापारी दिनभर उसी में अपना समय बिता देते है। उसपर पेनाल्टी से उन्हें आनावश्यक विलम्ब शुल्क भरना पड़ रहा है। व्यापार में घाटा उठाना पड़ रहा है। इसी तरह व्यापारियों द्वारा ली गयी समाधान योजना को बिना पूर्व सूचना के प्रशासन ने समाधान योजना से बाहर कर दिया जो अनुचित है।

इस अवसर पर टैक्स बार के हनुमान प्रसाद वर्मा, आलोक श्रीवास्तव, आशुतोष श्रीवास्तव बनराज सिंह, बजेन्द्र वैश्य, दीप चन्द्र तिवारी, कृष्ण गोपाल, अमरेश वर्मा, राहुल सिंह आदि शामिल थे।