#अलवर_की_घटना के बाद_मृतक मुहम्मद_उमर के साथ आया हिन्दू समाज

#अलवर_की_घटना के बाद_मृतक मुहम्मद_उमर के साथ आया हिन्दू समाज

Posted by

दिल्ली में बीजेपी की सरकार और नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद चरमपथी हिंदूवादी संगठन से जुड़े लोगों के हौंसले बहुत बुलंद हैं, यह लोग अवैध कृत करने में ज़रा भी नहीं घबराते हैं, इनकी हिंसा का पहला शिकार उत्तर प्रदेश के दादरी में अख़लाक़ अहमद हुए थे जिनको गाय का मास होने के शक में घर के अंदर घुस कर सैंकड़ों, हज़ारों की भीड़ ने क़तल कर दिया था, यहाँ से जो सिलसिला शुरू हुआ था वोह जारी है और अभी एक दिन पहले राजिस्थान के अलवर ज़िले में मुहम्मद उमर की हत्या गौआतँकवादियों ने कर दी है|

मुहम्मद उमर की हत्या गौआतँकवादियों के हाथों होने के बाद से ही मीडिया और सोशल मीडिया में भगवा आतंकवाद की काफी तीखी आलोचना हो रही है

यहाँ देखें कुछ लोगों की टिपड़ियाँ

Ravindra Pandey
——————
भीड़ द्वारा कत्ल के अनवरत सिलसिले को मोदी जी को तुरंत रोकना होगा।पुलिस और न्ययालय इस देश राजनीतिक नेताओ का पिजरे का तोता बना दिया गया है।बी जे पी शासन संबिधान कानून एकदम विकलांग कर दिया गया है।हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई जैन बौद्ध सब धर्म वालो का भारत है।मोदी जी भागो, छोड़ो,दफा हो …ये सब भारतीय सहन नही कर पा रहे है, लाशो पर सत्ता मत खड़ी करिए

======

ramesh rao Rao
——————
भ्र.झूठी.जु.पार्टी के राज में नफरत का राज है गौ जैसे निरीह प्राणी के नाम पर विशिष्ठ अल्पसंख्यक की हत्या रोज़ की बात है ताकि हिन्दुओं के वोट का ध्रुवी करण हो सके और मनुवाद के आधार पर sc.st. से घृणा के बल दलित को पैरों तले दबाये रखे इसी नीति के तहत देश के प्रथम नागरिक को झूठे फेंकू का हाथ बंधा अर्दली बना दिया. ओबीसी आदिवासी को दबाएँगे ख्रिश्चन भारतीयों को नहीं बक्षेंगे जिस राज में राज की मुखिया की उपस्थिति में F.I.R.दर्ज कराने आन्दोलन करना पड़े, बताता है शासन कितना निष्पक्ष है.पता नहीं वह राज और देश किधर जा रहा है? कहीं रसाताल की ओर तो नहीं?

=======
Jay Singh
——————
These Gai Rakshaks are more dangerous than ISIS… Shame on BJP, RSS, VHP…. Modi murdaabad….
REPLY

========
Vikaash Pagal chhe
——————
COW-QIDA a New Terrorist organisation in INDIA
==========
abhinav nigam
——————
Gaurakshakon ko chahiye spartan bhaalon ki dose. Jo unke muh se ghuse aur gaand se nikle.
==========

John Dsouza
——————
Very Shameful and disgusting.
===========
Mewati Music Company
——————
BJP leader Vikas me to kaamyaab nahi ho RAHE HAI, AB HINDU AU KA DHAYAAN APNI AUR KARNE KE LIYE MUSLMANO KI HATYA KARVA RAHE HAI ,,BAHUT ACHCHHA.GREAT BJP

============
Geet i
——————
In ke pas kuch aur bahana nahin hai musalmano ko marne ka is liye gay bhi inki aur jhoothi siyasat bhi inki
Gay ye khud late le jate hain.. aur musalmano par ilzam bhi laga dete hain ..issi bahan gunda gardi karte hain aur muslimo ko maar bhi dalte hain aur In par koi bhi karrvai nahi hoti hai….

=============
Human Rights
——————
gaye gobar m rah gai ha bjp or bjp k manne wale kutte or jo gaye k naam par logo ko marte ha to sun salo apni us maa ko jis ne tumhe janm diya use rakhte ho virdha ashram m or gaye k liye duty kutte kahi ka.
===========
Harsh Thakur

VHP-RSS-BJP दरिन्दों का काम है यह,, सस्ती publicity stunts हो गया है यह politics में आगे बढ़ने की VHP-RSS-BJP में ,,,याद रें दरिन्दे इन्सान नही होते हैं।इनकी मौत भी इन्सानों के समान normal नही होगी ,,,, हिन्दु शास्त्र के आनुसार ही कहा है,,, कर्म का फल इसी जीवन में मीलेगा।।।।।
=========

Amit Kulkarni
——————
Gau rakshak haramzaado insaniyat ke naam par kalank ho tum
mei bhi murgi rakshak dal banunga aur jo bhakt chicken khaate hei unko peetunga
=========
Sharoon Khan
—————
पता है ये कौन है?
ये इमरान प्रतापगढ़ी का चमचा है, अरे नहीं ये तो ओवैसी की दलाली करता है,, ओह्ह अरे ना ना ये बरेलवी है,, क्या कहा देवबन्दी है? । अब आपको पता ही नहीं है तो इसके लिए आवाज़ कैसे उठाएंगे।
शर्म से डूब जाना चाहिए हम सबको कि अपनों को ही गालियां देते रहेंगे और नीचा दिखाते रहेंगे, तो फिर आखिर क्यों नहीं मरेंगे अख़लाक़, पहलू, जुनैद और अब उमर।
देखो इसको ओर अफसोस करते रहो, इसके बाद आपका और हमारा ही नंबर है, एक बार अपने परिवार को ये न्यूज़ दिखाकर सिर्फ इतना पूछ लेना कि कल अगर हम ऐसी हालत में घर लाये जाते हैं तो क्या गुजरेगी उनपर😔😔
#अलवर
============
Tbassum Siddiqui
————-
सब्र करो….अल्लाह सब्र करने वालो के साथ है….यह sentence कितना effective है ये हमने रोहिंग्या मुस्लिम के मामले.मे देख लिया….सब्र करने से उनका क्या हाल हुआ था….
ये sentence ज़ुल्म बर्दाशत करने के लिये नही बना था

अल्लाह भी उसी की मदद करता है जो खुद की मदद करता है…..
इसलिये मुसलमानो उठो…..और ज़ुल्म का बदला लो और दुशमन को अपने ऊपर हावी होने से रोको

Tbassum Siddiqui
————-
जेल में मुसलमानों के साथ वहशियाना सुलूक:-अयोध्या हमले के इल्ज़ाम में नैनी सेंट्रल जेल में कैद सहारनपुर के डा० इरफ़ान ने राष्ट्रपति के नाम ख़त लिखा। इस ख़त में उन्होंने अपने ऊपर पुलिस के ज़रिया ढाए जाने वाले ज़ुल्म की जो दास्तान लिखी है वह अबुगरीब और गुअतनामो के ज़ुल्म को फीका कर देने वाली है। जिससे S.T.F. की मानसिकता का आसानी से अंदाज़ा हो जाता है।

याद रहे कि डा०इरफ़ान अभी भी मुल्ज़िम हैं लेकिन एक मुल्ज़िम को पहले रोज़ से गिरफ़्तार करने के बाद उसके साथ जैसा सुलूक किया जा रहा है वह पूरी कौम के लिए एक सोचने और फ़िक्र करने की बात है। डा० इरफ़ान लिखते हैं-

=============
“कोई त्यागी नाम का पुलिस वाला था जिसने गिरफ्तारी के फ़ौरन बाद ही (लॉकअप में लाने के बाद) मेरे मुंह पर थूकना शुरू कर दिया,नंगा करके…… बाल उखाड़ा गया,वह मुझे उल्टा लटका कर नाक में पानी डालते थे,मोमबत्ती को तिरछा करके पिघला हुआ मोम मेरे गुप्तांगो पर गिराते थे। मैं चीखता था, तड़पता था,वह लोग कहकहे लगाते थे…वह मेरे मुंह पर पेशाब करते थे और उसको पीने के लिए मजबूर करते थे अगर थूक दूँ तो मुझे बुरी तरह पीटते थे,…. त्यागी कहता था कि देख S.T.F. के कमांडो क्या करते हैं, और अभी आगे देखता जा…त्यागी लम्बा हाथ,मुंह पर चेचक के दाग थे,बाकी जो 4-5 पहलवान टाइप के लड़के थे वह एक्सरसाइज करके सुबह हनुमान चालीसा और दुर्गा चालीसा पढ़ते थे,उनके पास राइफल थी..दिन भर हज़ार बार मुझे माँ बहन की गाली दी जाती थी,मेरे गंजे सिर पर चप्पलो से पीटा जाता, 25 चप्पल गिन कर मारते फिर गिनती भूल जाने का बहाना करके फिर मारते।
सहारनपुर से जीप के द्वारा फैज़ाबाद के लिए चले,रास्ते में दो राते थाने पर गुज़ारी,दोनों थानों में मुझे रात भर नंगा करके रखा गया। स्थानीय पुलिस वाले मेरे पास सिर्फ थूकने के लिए आते थे,क्या सिपाही क्या दरोगा,क्या पुलिस ऑफिसर..फिर मुझे फैज़ाबाद अदालत में पेश किया गया,जहां मीडिया वालो ने वकीलों के साथ मिल कर मेरी ज़बरदस्त पिटाई की। फैज़ाबाद जेल पंहुचा वहाँ कैद तन्हाई में डाल दिया गया। छोटी सी कोठरी..अन्दर ही टॉयलेट,एक घड़ा पानी,बदबू से दम घुटता था। सांस लेना मुश्किल,उसी में खाना, वकीलों ने केस लड़ने से इनकार कर दिया। जो भी वकील मेरे घर वाले भेजते थे उन्हें फैजाबाद के वकील जज के सामने ही कोर्ट रूम में दौड़ा दौड़ा कर पीटते थे।
रोज़नामा राष्ट्रीय सहारा उर्दू 5 जुलाई 2013)