तीन पेज का सुसाइट नोट लिख कर फांसी के फंदे पर झूल गई विवाहिता!

तीन पेज का सुसाइट नोट लिख कर फांसी के फंदे पर झूल गई विवाहिता!

Posted by

भागदौड़ भरी जीवनशैली, ज़यादा से ज़यादा कमाने की होड़ में आदमी मशीन बन गया है, ऐसे में घर परिवार की तरफ ठीक से ध्यान नहीं दे पता है, बहार की कारोबारी उलझनों में फंसे लोग रिश्तों को निभाने में चूक कर जाते हैं और अंजाम कभी कभी बुरा निकलता है|

एक विवाहिता ने पहले तीन पेज का दर्दभरा सुसाइट नोट लिखा और फिर फांसी के फंदे पर झूल गई। सुसाइड नोट में मृतका ने कुछ ऐसा लिखा जिससे सभी हैरान हो गए।

घटना उत्तरी दिल्ली के शास्त्रीनगर इलाके की है। सराय रोहिल्ला इलाके में रहने वाली निधि की शादी करीब चार साल पहले अतुल के साथ हुई थी। आरोप है कि उसका पति और उसके परिवारवाले उसे प्रताड़ित करते थे।

जब से शादी हुई है तब से उसके पति ने उसे हाथ भी नहीं लगाया। इससे खफा निधि ने फांसी लगाकर जान दे दी। साथ ही मृतका ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा। जिसमें उसने लिखा कि उसके पति ने जीते जी कभी उसे छुआ तक नहीं। इसलिए मेरे मरने के बाद वो मेरे शरीर से हाथ ना लगाए।

वहीं मृतका के सुसाइड नोट में ये भी जिक्र किया गया है कि उसका पति नपुंसक है। मृतका के परिजनों के मुताबिक शादी के कुछ दिन बाद ही उसे पता चला गया था कि उसका पति नपुंसक है।

परिजनों का आरोप है कि उसका पति और उसके परिवारवाले निधि से मारपीट करते थे, उसे खुदकुशी के लिए उकसाया जाता था। उसने काफी सहन किया। जब बात हद से ज्यादा गुजर गई तो उसने फांसी लगा ली। फिलहाल पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।