रानी माँ #पद्मावती की 37वीं पीढ़ी के वंसज से मिलिये!

रानी माँ #पद्मावती की 37वीं पीढ़ी के वंसज से मिलिये!

Posted by

देश के अनेक बड़े इतिहासकार पद्मावती के होने को साफ तौर से नकार चुके हैं उनका कहना है कि पद्मावती नाम की कोई रानी का साक्ष्य इतिहास में नहीं मिलता है, यह एक काल्पनिक रचना है जिसे मालिक मुहम्मद जायसी नमक कवि ने लिखा था|

विश्व विख्यात इतिहासकार प्रोफेसर इरफ़ान हबीब भी पद्मावती पर कुछ इसी प्रकार का मत देते हैं, उनके अनुसार भी पद्मावती केवल एक काल्पनिक चरित्र है जिसका इतिहास से कोई लेना नहीं है|

फ़िलहाल फिल्म ‘पद्मावती’ पर हंगामा मचा हुआ है, फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली को धमकाने के बाद अब करणी सेना का गुस्सा अलाउद्दीन खिलजी यानी रणवीर सिंह पर फूटा है। करणी सेना के चीफ लोकेंद्र सिंह ने खुद को पद्मावती की 37वीं पीढ़ी का वंसज बताते हुए कहा कि वो किसी भी हाल में 1 दिसंबर को फिल्म रिलीज नहीं होने देंगे।

लोकेंद्र सिंह ने कहा, ‘रणवीर सिंह खुद कह चुके हैं कि वो दीपिका के साथ इंटीमेट सीन करने के लिए विलेन ही क्या उससे नीचे का रोल भी कर लेंगे। रणवीर और दीपिका पादुकोण दिखाते रहे इंटीमेट सीन। लेकिन अलाउद्दीन खिलजी और पद्मावती के बीच ऐसा कुछ नहीं दिखाने देंगे।

लोकेंद्र ने आगे कहा, ’27 जनवरी को बच्चे ताली बजा रहे थे, भंसाली ने सिर घुसेड़ दिया। उन्हें थप्पड़ लग गया। जैसे तोप चल गई हो। पूरी दुनिया में बहस का मुद्दा बन गया कि करणी सेना ने थप्पड़ मारा। क्या मेरी बहन-बेटी पर, मेरी इज्जत-आबरू पर कोई उंगली उठाए तो मैं थप्पड़ मारने लायक भी नहीं रहा।

उन्होंने आगे कहा, ‘सेंसर बोर्ड को कोई अधिकार नहीं कि वह ऐसी फिल्म को पास करे जिसमें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ किया गया है। हमें कब तक इन सब चीजों को सहन करना होगा। यह कहा जा रहा है कि कोई पद्मावती नहीं थी। अगर ऐसा है तो मैं कहां से आया?

बता दें कि इससे पहले करणी सेना दीपिका पादुकोण की नाक काटने की धमकी दी थी। उन्होंने कहा था, ‘दीपिका राष्ट्रपति हैं या प्रधानमंत्री? हमने 1 दिसंबर को पद्मावती के विरोध में भारत बंद का ऐलान किया है।