हेपेटाइटिस वायरस अभी क़ाबू से बाहर

हेपेटाइटिस वायरस अभी क़ाबू से बाहर

Posted by

हेपेटाइटिस सी नामक बीमारी से दुनिया भर में लाखों लोग प्रभावित हैं और बहुत से तो बेवक़्त ही मौत के मुँह में चले जाते हैं.

हालाँकि तमाम अन्तरराष्ट्रीय संस्थाओं, सरकारों, चिकित्साकर्मियों और आम लोगों के अथक प्रयासों की बदौलत पिछले दो साल में हेपेटाइटिस सी के ख़िलाफ़ लड़ाई में ठोस कामयाबी मिली है.

इन प्रयासों की बदौलत पिछले दो वर्षों के दौरान क़रीब 30 लाख लोगों को हेपेटाइटिस सी के इलाज की सुविधा हासिल हो सकी है.

इसके अलावा साल 2016 में क़रीब 28 लाख लोगों का हेपेटाइटिस-बी का इलाज शुरू किया गया जो जीवनपर्यन्त चलेगा.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि हेपेटाइटिस से छुटकारा पाने की मंशा रखने वाले और ठोस उपाय करने वाले देशों की संख्या भी बढ़ी है.

इससे नज़र आता है कि हेपेटाइटिस बीमारी से पूरी तरह छुटकारा पाने में निकट भविष्य में कामयाबी मिल सकती है.

दुनिया भर में हेपेटाइटिस-सी नामक वायरस से क़रीब सात करोड़ 10 लाख लोग प्रभावित हैं.

ग़ौरतलब है कि हेपेटाइटिस-सी नामक वायरस लिवर को गम्भीर रूप से बीमार करता है.

इसके अलावा हेपेटाइटिस-सी वायरस से कैंसर और कई अन्य तरह की बीमारियाँ भी हो जाती हैं.

उधर हेपेटाइटिस-बी किसी संक्रमित व्यक्ति के रक्त या शरीर के किसी अन्य Fluid के सम्पर्क में आने से फैलता है.

हेपेटाइटिस-बी से ख़ासतौर से स्वास्थ्य सेवाओं में काम करने वाले लोगों के ज़्यादा प्रभावित होने का अन्देशा होता है.

तसल्ली की बात ये है कि हेपेटाइटिस-बी से बचाने का टीका यानी Vaccination मौजूद है.

मगर हेपेटाइटिस-सी का असरदार टीका यानी Vaccination विकसित करने के लिए अब भी शोध और अनुसन्धान चल रहे हैं.

रिपोर्ट प्रस्तुति : महबूब ख़ान